पार्वती तेरा भोला, जगत में: शिव भजन (Parvati Tera Bhola Jagat Me Sabse Nirala Hai)


पार्वती तेरा भोला, जगत में: शिव भजन

पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।
पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।

जो मै होती गंगा जैसी,
जो मै होती गंगा जैसी,
जटा में जाय समाती ।
पती तो तेरा सबसे निराला है ।

पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।
पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।

जो मै होती चंदा जैसी,
जो मै होती चंदा जैसी,
माथे पे जाय समाती ।
पति तो तेरा सबसे निराला है ।

पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।
पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।

जो मै होती नागों जैसी,
जो मै होती नागों जैसी,
गले में जाय समाती ।
पति तो तेरा सबसे निराला है ।

पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।
पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।

जो मै होती डमरू जैसी,
जो मै होती डमरू जैसी,
हाथों में जाय समाती।
पति तो तेरा सबसे निराला है।

पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।
पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।

जो मै होती गौरा जैसी,
जो मै होती गौरा जैसी,
बगल में जाय समाती।
पति तो तेरा सबसे निराला है।

पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।
पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।

जो मै होती गणपति जैसी,
जो मै होती गणपति जैसी,
गोदी में जाय समाती ।
पति तो तेरा सबसे निराला है ।

पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।
पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।

जो मै होती नंदी जैसी,
जो मै होती नंदी जैसी,
चरणों में जाय समाती ।
पति तो तेरा सबसे निराला है ।

पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।
पार्वती तेरा भोला,
जगत में सबसे निराला है ।

Parvati Tera Bhola Jagat Me Sabse Nirala Hai in English

Parvati Tera Bhola, Jagat Mein Sabse Nirala Hai । Jo Mai Hoti Ganga Jaisi
यह भी जानें

Bhajan Shiv BhajanBholenath BhajanMahadev BhajanShivaratri BhajanSavan Ke Somvar BhajanMonday BhajanSomwar Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आदियोगी - दूर उस आकाश की गहराइयों में

दूर उस आकाश की गहराइयों में, एक नदी से बह रहे हैं आदियोगी...

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है: भजन

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है । वतन के फकीरों का फेरा हुआ है ॥ उठो अब निराशा निशा खो रही है..

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं: भजन

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं, राम नारायणं जानकी बल्लभम।

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान: भजन

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान। किसने जानी तेरी माया...

राम कहानी सुनो रे राम कहानी: भजन

राम कहानी सुनो रे राम कहानी। कहत सुनत आवे आँखों में पानी। श्री राम, जय राम, जय-जय राम...

प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना: भजन

प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना। बैकुंठ तो यही है, हृदय में रहा करना॥

जो भजे हरि को सदा: भजन

जो भजे हरि को सदा, सोहि परम पद पायेगा, देह के माला..

🔝