Hanuman Chalisa

शिव शंकर तुम कैलाशपति: भजन (Shiv Shankar Tum Kailashpati)


शिव शंकर तुम कैलाशपति: भजन

शिव शंकर तुम कैलाशपति,
है शीश पे गंग विराज रही,
शिव शंकर तुम कैलाश-पति,
है शीश पे गंग विराज रही ॥

माथे पर चंद्र का मुकुट सजा,
और गल सर्पो की माला है,
माँ पारवती भगवती गौरा,
तेरे वाम अंग में साज रही,
शिव शंकर तुम कैलाश-पति,
है शीश पे गंग विराज रही ॥

ब्रम्हा को वेद दिए तुमने,
रावण को लंका दे डाली,
औघड़दानी शिव भोले की,
श्रष्टि जयकार बुलाय रही,
शिव शंकर तुम कैलाश-पति,
है शीश पे गंग विराज रही ॥

सोना चांदी हिरे मोती,
तुमको कुछ भी ना सुहाता है,
शिव लिंग पे जा सारी दुनिया,
एक लोटा जल तो चढ़ाय रही,
शिव शंकर तुम कैलाश-पति,
है शीश पे गंग विराज रही ॥

जीवन की एक तमन्ना है,
जीवन में एक ही आशा है,
तेरे चरणों में बीते जीवन,
यही आशा मन में समाय रही,
शिव शंकर तुम कैलाश-पति,
है शीश पे गंग विराज रही ॥

शिव शंकर तुम कैलाशपति,
है शीश पे गंग विराज रही,
शिव शंकर तुम कैलाश-पति,
है शीश पे गंग विराज रही ॥

Shiv Shankar Tum Kailashpati in English

Shiv Shankar Tum Kailashpati, Hai Shish Pe Gang Viraj Rahi, Shiv Shankar Tum Kailashpati, Hai Shish Pe Gang Viraj Rahi ॥
यह भी जानें

Bhajan Shiv BhajanBholenath BhajanMahadev BhajanShivaratri BhajanSavan BhajanMonday BhajanSomvar BhajanSolah Somvar BhajanJyotirling BhajanShiv Vivah Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

अमृत की बरसे बदरीया - भजन

अमृत की बरसे बदरीया, बाबा की दुअरिया, अमृत की बरसें बदरीया, बाबा की दुअरिया ॥

मैया सदा मुझ पर, किरपा की नजर रखना: भजन

मैया सदा मुझ पर, किरपा की नजर रखना, मैं दास तुम्हारा हूँ, इतनी तो खबर रखना, मईया सदा मुझ पर, किरपा की नजर रखना, नजर रखना नजर रखना, नजर रखना नजर रखना, मुझ पर रखना नजर रखना, मईया सदा मुझ पर, किरपा की नजर रखना ॥

मेरी मैया जी कर दो नज़र: भजन

मेरी मैया जी कर दो नज़र, ज़िन्दगी मेरी जाए संवर, मेरी मईया जी कर दो नज़र ॥

तेरे पावन माँ नवरात्रों में, ज्योत तेरी जगाए हुए हैं: भजन

तेरे पावन माँ नवरात्रों में, ज्योत तेरी जगाए हुए हैं, जबसे लागी माँ तुम्हारी, सारी दुनिया भुलाये हुए हैं, तेरे पावन मां नवरात्रों में, ज्योत तेरी जगाए हुए हैं ॥

परिवार मेरा मैया, करता है तेरी भक्ति: भजन

परिवार मेरा मैया, करता है तेरी भक्ति, भक्ति से सदा मिलती, तेरे भक्तों को माँ शक्ति ॥

श्रीमन नारायण नाम संकीर्तन

श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी, तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी..

मैं काशी हूँ - भजन

कंकर कंकर मेरा शंकर, मैं लहर-लहर अविनाशी हूँ मैं काशी हूँ मैं…मैं काशी हूँ…!

Hanuman Chalisa - Aditya Hridaya Stotra -
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App