close this ads

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार..


राम नाम सोहि जानिये, जो रमता सकल जहान
घट घट में जो रम रहा, उसको राम पहचान

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे ।
तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे ।
काहे को करे रे, काहे को करे, काहे को करे, काहे को करे..
तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे ।
तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे ।

नैया तेरी राम हवाले, लहर लहर हरि आप सँभाले ।
नैया तेरी राम हवाले, लहर लहर हरि आप सँभाले ।
हरि आप ही उठावे तेरा भार, उदास मन काहे को करे ॥
॥ तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार...॥

काबू में मँझधार उसी के, हाथों में पतवार उसी के ।
काबू में मँझधार उसी के, हाथों में पतवार उसी के ।
तेरी हार भी नहीं है तेरी हार, उदास मन काहे को करे ॥
॥ तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार...॥

सहज किनारा मिल जायेगा, परम सहारा मिल जायेगा ।
सहज किनारा मिल जायेगा, परम सहारा मिल जायेगा ।
डोरी सौंप के तो देख एक बार, उदास मन काहे को करे ॥
॥ तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार...॥

तू निर्दोष तुझे क्या डर है, पग पग पर साथी ईश्वर है ।
तू निर्दोष तुझे क्या डर है, पग पग पर साथी ईश्वर है ।
जरा भावना से कीजिये पुकार, उदास मन काहे को करे ॥
॥ तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार...॥

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे ।
तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे ।
काहे को करे रे, काहे को करे, काहे को करे, काहे को करे..
तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे ।
तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे ।


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

तू प्यार का सागर है...

तू प्यार का सागर है, तेरी एक बूँद के प्यासे हम। लौटा जो दिया तूने, चले जायेंगे जहां से हम...

भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया, ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है...

भजन: वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे...

वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे। पर दुःखे उपकार करे तो ये...

भजन: शरण में आये हैं हम तुम्हारी

शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन। सम्हालो बिगड़ी दशा हमारी...

भजन: क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी!

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी, अब तक के सारे अपराध। धो डालो तन की चादर को...

मात अंग चोला साजे..

मात अंग चोला साजे, हर रंग चोला साजे, मात की महिमा देखो, ज्योत दिन रैना जागे...

सावन की बरसे बदरिया...

सावन की बरसे बदरिया, माँ की भीगी चुनरीया, भीगी चुनरिया माँ की...

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है!

तेरी छाया मे, तेरे चरणों मे, मगन हो बैठूं, तेरे भक्तो मे॥ तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है...

मेरे मन के अंध तमस में...

मेरे मन के अंध तमस में, ज्योतिर्मय उतारो। जय जय माँ...

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे!

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना। जो रूखा सूखा दिया हमें...

^
top