मुकुन्द माधव गोविन्द बोल - भजन (Mukund Madhav Govind Bol Bhajan)


मुकुन्द माधव गोविन्द बोल - भजन

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल ।
केशव माधव हरि हरि बोल ॥

राम राम बोल, राम राम बोल ।
शिव शिव बोल, शिव शिव बोल ॥

नारायण बोल, नारायण बोल ।
केशव माधव हरि हरि बबोल ॥

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल ।
केशव माधव हरि हरि बोल ॥

Mukund Madhav Govind Bol Bhajan in English

Mukund Madhav Govind Bol । Keshav Madhav Hari Hari Bol
यह भी जानें

Bhajan Shiv BhajanShri Vishnu BhajanShri Ram BhajanShri Krishna BhajanBhagwan Shiv BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanHari Om Sharan Bhajan

अन्य प्रसिद्ध मुकुन्द माधव गोविन्द बोल - भजन वीडियो

- Hita Ambrish

Mukund Madhav Govind Bol - Anup Jalota

- Devi Chitralekhaji

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय जय सुरनायक जन सुखदायक: भजन

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण । राम भजो, राम रटो..

जिनके हृदय श्री राम बसे: भजन

जिनके हृदय श्री राम बसे, उन और को नाम लियो ना लियो । जिनके हृदय श्री राम बसे..

भजन: इतनी शक्ति हमें देना दाता

इतनी शक्ति हमें देना दाता, मनका विश्वास कमजोर हो ना..

भजन: मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे, राम आएँगे, राम आएँगे आएँगे..

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी।

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी । कलियुग का तो जीव उद्धार्या, मस्तक धरिया हाथ जी..

भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया, ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है...

🔝