close this ads

आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया...


आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया,
चारों दुलहा में बड़का कमाल सखिया!

शिश मणी मौरिया, कुण्डल सोहे कनमा,
कारी कारी कजरारी जुलमी नयनमा,

लाल चंदन सोहे इनके भाल सखिया,
चारों दुलहा में बड़का कमाल सखिया!

श्यामल-श्यामल, गोरे- गोरे, जोड़ीया जहान रे,
अँखिया ना देखनी सुनलीं ने कान हे

जुगे जुगे, जीबे जोड़ी बेमिसाल सखिया
चारों दुलहा में बड़का कमाल सखिया!

गगन मगन आजु, मगन धरतिया,
देखि देखि दुलहा जी के, साँवर सुरतिया,

बाल वृद्ध, नर-नारी, सब बेहाल सखिया
चारों दुलहा में बड़का कमाल सखिया!

जेकरा लागी जोगी मुनि, जप तप कईले,
से मोरा मिथिला में पाहुन बन के अईले
आजु लोढ़ा से सेदाई इनके गाल सखिया..
चारों दुलहा में बड़का कमाल सखिया!

Read Also
» चार धाम | द्वादश ज्योतिर्लिंग! | सप्त मोक्ष पुरी!
» सीता नवमी | राम नवमी | हनुमान जयंती
» आरती: ॐ जय जगदीश हरे | आरती कीजै श्री रघुवर जी की | आरती कीजै रामचन्द्र जी
» श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन! | मेरे राम मेरे घर आएंगे

BhajanShri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanPrem Bhushan Ji BhajanVivah BhajanShadi Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी...

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी, हे नाथ नारायण वासुदेवा॥

बाल लीला: राधिका गोरी से बिरज की छोरी से...

राधिका गोरी से बिरज की छोरी से, मैया करादे मेरो ब्याह...

भजन: राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक

राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक, तीनों लोक में छाये रही है। भक्ति विवश एक प्रेम पुजारिन...

पहिले पहिल, छठी मईया व्रत तोहार।

पहिले पहिल हम कईनी, छठी मईया व्रत तोहार। करिहा क्षमा छठी मईया, भूल-चूक गलती हमार...

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे...

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे, लताओं में बृज की गुजारा करेंगे। कहीं तो मिलेंगे वो बांके बिहारी...

कबहुँ ना छूटी छठि मइया...

कबहुँ ना छूटी छठि मइया, हमनी से बरत तोहार, हमनी से बरत तोहार...

हो दीनानाथ - छठ पूजा गीत

सोना सट कुनिया, हो दीनानाथ हे घूमइछा संसार, आन दिन उगइ छा हो दीनानाथ आहे भोर भिनसार...

मारबो रे सुगवा - छठ पूजा गीत

ऊ जे केरवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मेड़राए। मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।...

श्री गोवर्धन महाराज आरती!

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज, तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ...

^
top