Hanuman Chalisa

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, नवरात्रि कैसे मनाते हैं? (How Prime Minister Narendra Modi Celebrate Navratri?)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, नवरात्रि कैसे मनाते हैं?

ABP न्यूज का सवालः आपने रात्रि का जिक्र किया, नवरात्रि शुरू होने वाले हैं। बहुत सारी रैलियां हैं। आप इस बार भी व्रत रखेंगे ?
नरेंद्र मोदी का जवाबः मैं करीब 40-45 सालों से कर रहा हूं तो मेरी कोशिश रहती है कि उसे निभाऊं। कठिन होता है, लेकिन ये वाली नवरात्रि उतनी कठिन नहीं होती है, जितना मेरा सितंबर-अक्टूबर वाला होती है। ये थोड़ा सरल होता है लेकिन गर्मी बहुत होती है, लेकिन मैं जमा लूंगा मामला।

ABP न्यूज का सवालः क्या आप नवरात्रि में कुछ नहीं खाते हैं ? पूरी तरह उपवास करते हैं?
नरेंद्र मोदी का जवाबः जी नहीं।

ABP न्यूज का सवालः तो फिर आप कैसे कह रहे हैं कि इसमें आपको कम थकान होती है ? उसमें क्या ज्यादा कठिन तपस्या होती है ? इसमें कम होती है व्रत की?
नरेंद्र मोदी का जवाबः ऐसा है कि जो सितंबर-अक्टूबर में नवरात्रि होती है उसमें मेरा समय थोड़ा व्यक्तिगत साधना वगरैह में जाता है। इसमें मुझे उतना समय नहीं देना पड़ता है क्योंकि इसका टाइम-टेबल मेरा थोड़ा अलग होता है। उसमें मैं सिर्फ पानी लेता हूं और कुछ नहीं लेता। इसमें ऐसा नहीं है। इसमें मैं, मान लीजिए कि मैं तय करूं कि इस नवरात्रि को मैं पपीता लूंगा तो पपीते के अलावा मैं किसी चीज को हाथ नहीं लगाता हूं। तो ऐसे एक चीज तय करता हूं और उसके आधार पर चलता हूं।

ABP न्यूज का सवालः तो क्या आपने इस बार तय कर लिया है?
नरेंद्र मोदी का जवाबः वो करुंगा मैं, वो पब्लिक का विषय नहीं होता है।

- From abpnews।abplive.in

How Prime Minister Narendra Modi Celebrate Navratri? in English

A question of ABP News: You’ve mentioned about the night, Navaratri is about to begin. There are a lot of rallies. Will you keep the fast this time as well?
यह भी जानें

Blogs Navratri BlogsModi BlogsPrime Minister BlogsMarendra Modi BlogsNavratri 2019 BlogsABP News Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शारदीय नवरात्रि 2022

शारदीय नवरात्रि वर्ष 2022 में 26 सितम्बर से प्रारंभ हो रही है। आइए जानें! ऊर्जा से भरे इस उत्सव के जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ, भजन, मंत्र एवं रोचक कथाएँ त्वरित(quick) लिंक्स के द्वारा...

नवरात्रि स्पेशल: भारत में सात शीर्ष माँ दुर्गा मंदिर

ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा अपने भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए स्वर्ग से आती हैं। नवरात्रि के दौरान, भारत के विभिन्न कोनों में फैले माँ के प्रसिद्ध मंदिरों में कई भक्त एकत्रित होते हैं। आपको बता दें कि वैष्णो देवी के अलावा, माँ दुर्गा के सात मंदिर भी बहुत प्रसिद्ध हैं।

दुर्गा पूजा धुनुची नृत्य

धुनुची नृत्य नाच दुर्गा पूजा के दौरान किया जाने वाला एक भक्ति नृत्य है और यह बंगाल की पारंपरिक नृत्य है। मां दुर्गा को धन्यवाद प्रस्ताव के रूप में पेश किया जाने वाला नृत्य शाम की दुर्गा आरती में ढाक बाजा, उलू ध्वनि की ताल पर किया जाता है।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

घटस्थापना महोत्सव 2022

घटस्थापना 26 सितंबर 2022 को मनाई जाएगी। यह 9-दिवसीय नवरात्रि उत्सव और दशईं उत्सव के दौरान पालन की जाने वाली एक रस्म है। दशईं त्योहार भारत के पूर्वोत्तर राज्यों और पड़ोसी देश नेपाल में मनाया जाता है। घटस्थापना अनुष्ठान दोनों त्योहारों की शुरुआत का प्रतीक है।

कैसे करें आध्यात्मिक वैष्णो देवी यात्रा?

जय माता दी! की गूंज और पूरी घाटी के खूबसूरत नज़ारों के बीच पवित्र गुफा की चढ़ाई चढ़ते हुए, माता वैष्णो देवी के मंदिर की यात्रा किसी अन्य की तरह एक आध्यात्मिक यात्रा है।

पितृ पक्ष में किन भोजनों से परहेज किया जाता है?

हिंदुओं का मानना ​​है कि पितृ पक्ष मैं श्राद्ध करने से पूर्बजों को मुक्ति मिलती है और प्रसन्न होते हैं। श्राद्ध की रस्में हिंदू परंपराओं के अनुसार बहुत सारे प्रतिबंधों के तहत की जाती हैं। इस दौरान कुछ भोजनों से परहेज किया जाता है।

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App