Hanuman Chalisa
Download APP Now - Hanuman Chalisa - Om Jai Jagdish Hare Aarti - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel -

भक्ति भारत ऐप का रोमांचक नया संस्करण अपडेट करें (Update the Exciting New version of Bhakti Bharat App)

भक्ति भारत ऐप का रोमांचक नया संस्करण अपडेट करें
हम अपने भक्ति भारत ऐप में नए अपडेट की घोषणा करते हुए उत्साहित हैं! अगर आप भक्ति भारत ऐप का पुराना वर्जन यानी 1.2 वर्जन इस्तेमाल कर रहे हैं। कृपया अपने ऐप को नवीनतम संस्करण 5.0 पर अपडेट करें। ऐप का नवीनतम अपडेट एंड्रॉइड के नए फीचर्स और सुरक्षा मानदंडों के बाद किया गया है।
यहां नए अपडेट की कुछ मुख्य बातें दी गई हैं:
❀ एक नया उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस जो अधिक सहज और उपयोग में आसान है।
❀ एक नई खोज सुविधा जो पवित्रशास्त्र के विशिष्ट अंशों को ढूंढना आसान बनाती है।
❀ एक नई पठन योजना सुविधा जो आपको भजन, मंत्र, कथा, आरती आदि के साथ बने रहने में मदद करती है।
❀ एक नई साझाकरण सुविधा जो मित्रों और परिवार के साथ भक्तिपूर्ण बातें साझा करना आसान बनाती है।

हम आशा करते हैं कि आप इन नई सुविधाओं का आनंद लेंगे। इस अपडेट में कई नई सुविधाएँ और सुधार शामिल हैं, जिससे भक्ति के साथ जुड़े रहना पहले से कहीं अधिक आसान हो गया है! हमारे भक्ति भारत साइट ऐप का उपयोग करने के लिए धन्यवाद!

भक्ति भारत टीम

Update the Exciting New version of Bhakti Bharat App in English

Announcing new update in Bhakti Bharat App: Update your app to latest version 5.0.
यह भी जानें

Blogs New Version Of Bhakti Bharat App BlogsBhakti Bharat BlogsLatest Version 5.0 BlogsTrending 2023 BlogsHigh Ranking BlogsSpiritual Site BlogsPopular Bhajan Site BlogsBest Festival Site Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

अधर पणा

अधर पणा अनुष्ठान आषाढ़ महीने त्रयोदशी तिथि पर पुरी जगन्नाथ मंदिर में आयोजित किया जाता है।

सावन शिवरात्रि 2024

आइए जानें! सावन शिवरात्रि से जुड़ी कुछ जानकारियाँ एवं सम्वन्धित कुछ प्रेरक तथ्य.. | सावन शिवरात्रि: Friday, 2 August 2024

कांवर यात्रा की परंपरा किसने शुरू की?

धार्मिक ग्रंथों में माना जाता है कि भगवान परशुराम ने ही कांवर यात्रा की शुरुआत की थी। इसीलिए उन्हें प्रथम कांवरिया भी कहा जाता है।

तुलाभारम क्या है, तुलाभारम कैसे करें?

तुलाभारम और तुलाभरा जिसे तुला-दान के नाम से भी जाना जाता है, एक प्राचीन हिंदू प्रथा है यह एक प्राचीन अनुष्ठान है। तुलाभारम द्वापर युग से प्रचलित है। तुलाभारम का अर्थ है कि एक व्यक्ति को तराजू के एक हिस्से पर बैठाया जाता है और व्यक्ति की क्षमता के अनुसार बराबर मात्रा में चावल, तेल, सोना या चांदी या अनाज, फूल, गुड़ आदि तौला जाता है और भगवान को चढ़ाया जाता है।

हिंदू धर्म में पूजा से पहले संकल्प क्यों लिया जाता है?

संकल्प का सामान्य अर्थ है किसी कार्य को करने का दृढ़ निश्चय करना। हिंदू धर्म में परंपरा है कि किसी भी तरह की पूजा, अनुष्ठान या शुभ कार्य करने से पहले संकल्प लेना बहुत जरूरी होता है।

भगवान जगन्नाथ के अलग-अलग बेश?

बेश एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ है पोशाक, पोशाक या पहनावा। 'मंगला अलाती' से 'रात्रि पहुड़' तक प्रतिदिन, पुरी के श्री जगन्नाथ मंदिर की 'रत्नवेदी' पर देवताओं को सूती और रेशमी कपड़ों, कीमती पत्थरों से जड़े सोने के आभूषणों, कई प्रकार के फूलों और अन्य पत्तियों और जड़ी-बूटियों से सजाया जाता है। जैसे तुलसी, दयान, मरुआ आदि। चंदन का लेप, कपूर और कभी-कभी कीमती कस्तूरी का उपयोग दैनिक और आवधिक अनुष्ठानों में किया जाता रहा है।

नेत्र उत्सव

नेत्रोत्सव रथ यात्रा से एक दिन पहले आयोजित किया जाता है।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP