विवाह पंचमी | आज का भजन!

बड़ा हनुमान मंदिर - Bada Hanuman Mandir


Nov 12, 2019 13:24 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ▶ वीडियो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री रमेश्वरदास जी महाराज की प्रेरणा से निर्मित बड़ा हनुमान मंदिर, जिसके प्रांगण मे स्थित है 41 फुट ऊँची श्री हनुमान जी की विशाल मूर्ति। श्री हनुमंत लाल का यह विशाल विग्रह भक्तों को दूर-दूर से आकर्षित करता है। मंदिर मे की गयी चित्रकारी एवं मूर्ति स्थापना का कार्य राजस्थानी कलाकारों द्वारा बड़ी ही आत्म-निष्ठा के साथ बारीकियों को समझते हुए किया गया है। विग्रहों की यही बारीकियों को समझने के लिए नीचे दी गयी फोटो प्रदर्शनी का अवलोकन अवश्य करें।

मंदिर में हनुमान जन्मोत्सव बहुत भव्य तरीके से मनाया जाता है, इसके अंतर्गत सर्वप्रथम कलश यात्रा उसके उपरांत अखंड रामायण पाठ किया जाता है। अखंड रामायण के बाद श्री हनुमान जी के प्रसाद स्वरूप भंडारे का आयोजन किया जाता है, उसके उपरांत रात्रि मे बालाजी का जागरण किया जाता है।

मंदिर में भक्तों के लिए उचित एवं व्यवहारिक शुल्क के साथ धर्मशाला की व्यवस्था भी है, जिसके अंतर्गत दूर-दूर से धार्मिक अनुष्ठानों हेतु आने वाले यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था है। मंदिर मे भक्तों की सुविधा हेतु, भक्त की सामर्थ्य के अनुरूप भंडारा करने की सुविधा भी उपलब्ध है।

गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र मे कार्तिक शुक्ला पूर्णिमा के समय वार्षिक मेले का आयोजन होता है, अतः मेले मे आने वाले भक्त एवं यात्री बहुत संख्या मे बड़ा हनुमान मंदिर के दर्शन करते हैं।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • 41 फुट विशाल श्री हनुमान मूर्ति।
  • राजस्थानी मूर्तिकार एवं चित्रकारों द्वारा निर्मित मंदिर।

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 12:00 PM, 3:00 PM - 9:00 PM
5:00 AM: ग्रीष्म: सुवह आरती
6:30 AM: सर्दी: सुवह आरती
6:00 PM: ग्रीष्म: संध्या आरती
7:30 PM: सर्दी: संध्या आरती

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Jai Shri Ram

Jai Shri Ram

Shri Hanuman Charn Paduka

Shri Hanuman Charn Paduka

Vishal Roop Shri Hanuman

Vishal Roop Shri Hanuman

Viratroop Shri Vishnu

Viratroop Shri Vishnu

Maa Bhagwati

Maa Bhagwati

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

बाल समय रवि भक्षी लियो तब..

बाल समय रवि भक्षी लियो तब..

Shri Laxmi Narayan Bhagwan

Shri Laxmi Narayan Bhagwan

South Indian Architecture

South Indian Architecture

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

View from the top of temple

View from the top of temple

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Bada Hanuman Mandir in English

The Bada Hanuman Mandir built by the inspiration of Shri Rameshwaradas ji Maharaj, which is located in the courtyard is a huge statue of 41 feet high Shri Hanuman ji.

जानकारियां - Information

धाम
Shri Rameshwardas JiShri Laxmi NarayanViratrup Shri VishnuShri Radha KrishnaShri Ram Darwar
Shiv DhamShivlingMaa SantoshiBaba BhairavnathShri HanumanTulsidas Ji MaharajMaa Sarswati JiMaa GangaMaa Durga Ji
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Washroom, Sitting Benches
धर्मार्थ सेवाएं
धर्मशाला
संस्थापक
1976
स्थापना
श्री रमेश्वरदास जी
समर्पित
श्री हनुमान
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो प्रदर्शनी - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Brijghat Garh Mukteshwar Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
NH 9
रेलवे 🚉
Garhmuktesar Bridge, Garhmuktesar
हवा मार्ग ✈
Hindon Air Force Station, Indira Gandhi International Airport
नदी ⛵
Ganga
निर्देशांक 🌐
28.757555°N, 78.143159°E
बड़ा हनुमान मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/bada-hanuman-mandir-brijghat

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: रघुवर श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥

आरती: श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै रामचन्द्र जी की। हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

top