Hanuman Chalisa

त्रिवटीनाथ मंदिर - Trivatinath Temple

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ प्राचीन हिंदू शिव मंदिर
◉ भोलेनाथ की 60 फीट ऊंची प्रतिमा
◉ तीन वट वृक्ष के मध्य में भगवान शंकर लिंग के रूप में विराजमान हैं

त्रिवतीनाथ मंदिर, या त्रिवतीनाथ महादेव मंदिर, उत्तर प्रदेश के बरेली में एक प्रसिद्ध प्राचीन हिंदू शिव मंदिर है। बरगद के तीन वृक्षों के बीच शिवलिंग प्रकट होने के कारण इसका नाम त्रिवती पड़ा। इसके अलावा प्राचीन त्रिवतीनाथ मंदिर में भोलेनाथ की 60 फीट ऊंची प्रतिमा स्थापित की गई है। यह प्रतिमा लोगों के बीच आस्था और आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। खास बात यह है कि बरेली पहले से ही नाथनगरी के नाम से जाना जाता है क्योंकि शहर की हर दिशा में भगवान शिव का मंदिर है।

त्रिवतीनाथ मंदिर के पीछे का इतिहास
त्रिवतीनाथ मंदिर 14वीं शताब्दी के मध्य में बनाया गया था जब एक चरवाहे ने भगवान शिव को बरगद के पेड़ के नीचे खड़े होकर मुस्कुराते हुए देखा था। जब चरवाहा उठा, तो उसने एक चमकता हुआ शिव लिंग देखा जो ठीक उसी स्थान पर रखा गया था जहाँ उसने भगवान को खड़ा देखा था। भगवान शिव का एक मंदिर वहां बनाया गया था और इसे त्रिवतीनाथ मंदिर के नाम से जाना जाने लगा। आज, यह बरेली के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है।

त्रिवतीनाथ मंदिर में अन्य पूजा की जाने वाली मूर्तियाँ और आसपास:
❀ वर्ष 1981 में, संरचना का जीर्णोद्धार किया गया था और देवी भगवती, काली, लक्ष्मी, कृष्ण आदि जैसे अन्य हिंदू देवताओं की मूर्तियों को भी स्थापित किया गया था।
❀ मंदिर के आसपास के क्षेत्र का जीर्णोद्धार किया गया है और हरी घास के विशाल कालीन से सुसज्जित किया गया है।
❀ सुंदर स्थान के कारण, यह दैनिक आधार पर बड़ी संख्या में आगंतुकों को आकर्षित करता है।

त्रिवतीनाथ मंदिर में प्रधान उत्सव
त्रिवतीनाथ मंदिर में प्रमुख हिंदू त्योहार जैसे महा शिवरात्रि, गणेश चतुर्थी, जन्माष्टमी, नवरात्रि आदि भव्य तरीके से मनाए जाते हैं।

कैसे पहुंचे त्रिवतीनाथ मंदिर?
त्रिवतीनाथ मंदिर बरेली शहर के मध्य में स्थित है और इस प्रकार, इसका रोडवेज और रेलवे के बीच एक सुस्थापित संबंध है। बस, कैब या ऑटो जैसे स्थानीय ट्रांजिट की सेवा किराए पर लेकर आसानी से पहुंचा जा सकता है।

प्रचलित नाम: त्रिवतीनाथ मंदिर, त्रिवटीनाथ महादेव मंदिर

समय - Timings

दर्शन समय
5 AM - 9 PM
6:00: मंगला आरती
7:00: श्रृंगार आरती
11:00: राज भोग
11:30: राज भोग आरती
5:00: उत्थपन
7:00: संध्या आरती
8:00: संध्या भोग
9:30: शयन आरती
त्योहार
Maha Shivratri, Ganesh Chaturthi, Janmashtami, Navratri | यह भी जानें: मानबसा गुरुवार

Trivatinath Temple in English

Trivatinath Temple, or Trivatinath Mahadev Temple, is a famous ancient Hindu Shiva temple in Bareilly, Uttar Pradesh. Due to the appearance of Shivling between three banyan trees, it was named Trivati. Apart from this, a 60 feet high statue of Bholenath has been installed in the ancient Trivatinath temple.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
त्रिवटीनाथ मंदिर

त्रिवटीनाथ मंदिर

जानकारियां - Information

बुनियादी सेवाएं
पेयजल, प्रसाद, पीने के पानी की सुविधा, पार्किंग क्षेत्र
देख-रेख संस्था
बाबा त्रिवटीनाथ मंदिर सेवा समिति
समर्पित
भगवान शिव
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

क्रमवद्ध - Timeline

5 AM - 9 PM

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Baba Trivati Nath Mandir Marg Bareilly UttarPradesh
रेलवे 🚉
Bareilly City, Izzatnagar
हवा मार्ग ✈
Bareilly Airport, Trishul Air Base
नदी ⛵
Ram Ganga
वेबसाइट 📡
सोशल मीडिया
Download App
निर्देशांक 🌐
28.376449°N, 79.4192815°E
त्रिवटीनाथ मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/trivati-nath-mandir

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ..

ॐ जय जगदीश हरे आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App