प्रार्थना: हम को मन की शक्ति देना (Hum Ko Mann Ki Shakti Dena)


प्रार्थना: हम को मन की शक्ति देना

हम को मन की शक्ति देना, मन विजय करें।
दूसरों की जय से पहले, खुद को जय करें।

भेदभाव अपने दिल से, साफ कर सकें।
दोस्तों से भूल हो तो, माफ कर सकें।
झूठ से बचे रहें, सच का दम भरें।
दूसरों की जय से पहले, खुद को जय करें।
॥ हम को मन की शक्ति देना...॥

मुश्किलें पड़े तो हम पे, इतना कर्म कर।
साथ दे तो धर्म का, चलें तो धर्म पर।
खुद पे हौसला रहे, बदी से ना डरें।
दूसरों की जय से पहले, खुद को जय करें।

हम को मन की शक्ति देना, मन विजय करें।
दूसरों की जय से पहले, खुद को जय करें।

Read Also:
» दया कर दान विद्या का हमे परमात्मा देना! | वह शक्ति हमें दो दया निधे! | हे जग त्राता विश्व विधाता! | ऐ मालिक तेरे बंदे हम! | या कुन्देन्दुतुषारहारधवला | | भजन: इतनी शक्ति हमें देना दाता
» भोजन मन्त्र: ॐ सह नाववतु। | प्रातः स्मरण - दैनिक उपासना | शांति पाठ | विद्यां ददाति विनयं! | येषां न विद्या न तपो न दानं

Hum Ko Mann Ki Shakti Dena in English

Ham Ko Mann Ki Shakti Dena, Mann Vijai Karain। Dusaron Ki Jai Se Pahale, Khud Ko Jai Karain।

Vandana School VandanaCollage Vandana

अगर आपको यह वंदना पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस वंदना को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन

श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं। नव कंज लोचन कंज मुख...

संकट मोचन हनुमानाष्टक

बाल समय रवि भक्षी लियो तब।.. लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर।...

हाथ जोड़ विनती करू तो सुनियो चित्त लगाये!

हाथ जोड़ विनती करू तो सुनियो चित्त लगाये, दस आ गयो शरण में रखियो इसकी लाज...

भजन: जय राम रमा रमनं समनं।

जय राम राम रमनं समनं। भव ताप भयाकुल पाहि जनम॥ अवधेस सुरेस रमेस बिभो।...

श्री बजरंग बाण पाठ

निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान। तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥

भजन: माँ शारदे वंदना, हे शारदे माँ।

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ, अज्ञानता से हमें तार दे माँ।

आरती: माँ सरस्वती वंदना

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता, या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।...

🔝