Janmashtami SpecialsDownload Bhakti Bharat APP

जयपुर से लाई मैं तो चुनरी: भजन (Jaipur Se Layi Main Chunri)


जयपुर से लाई मैं तो चुनरी: भजन

जयपुर से लाई मैं तो,
चुनरी रंगवाई के,
गोटा किनारी अपने,
हाथो लगवाई के,
मैया को ओढ़ाउंगी,
द्वारे पे जाइके ॥

चंदा की किरणों से,
सूरज की लाली से,
नीले समंदर से,
वन की हरियाली से,
रंग मांगे चुनरी खातिर,
कुदरत मतवाली से,
दुनिया की नजरो से,
रखी बचाई के,
मैया को ओढ़ाउंगी,
द्वारे पे जाइके ॥


जयपुर से लाई मैं तो,
चुनरी रंगवाई के,
गोटा किनारी अपने,
हाथो लगवाई के,
मैया को ओढ़ाउंगी,
द्वारे पे जाइके ॥

रिमझिम फुहारों की जब,
सावन रुत आएगी,
सखियों संग झूला झूलने,
मैया जब जाएगी,
झूले संग आसमान में,
चुनरी लहराइयेगी,
रह जाये इंद्रधनुष के,
रंग शरमाइके,
मैया को ओढ़ाउंगी,
द्वारे पे जाइके ॥


जयपुर से लाई मैं तो,
चुनरी रंगवाई के,
गोटा किनारी अपने,
हाथो लगवाई के,
मैया को ओढ़ाउंगी,
द्वारे पे जाइके ॥

मैया के मन भाएगी,
चुनरी निराली ये,
मुश्किल घडी में होगी,
मेरी रखवाली ये,
चुनरी के रंग में लख्खा,
जिंदगी रंगवाली ये,
चुनरी में मात सरल को,
रखना छुपाईके,
मैया को ओढ़ाउंगी,
द्वारे पे जाइके ॥

जयपुर से लाई मैं तो,
चुनरी रंगवाई के,
गोटा किनारी अपने,
हाथो लगवाई के,
मैया को ओढ़ाउंगी,
द्वारे पे जाइके ॥

Jaipur Se Layi Main Chunri in English

Jaipur Se Lai Main to, Chunri Rangvai Ke, Gota Kinari Apne...
यह भी जानें

Bhajan Maa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanMaa Sherawali BhajanDurga Puja BhajanJagran BhajanMata Ki Chauki BhajanShukravar BhajanFriday BhajanAshtami BhajanGupt Navratri BhajanLakhbir Singh BhajanLakkha Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

वो काला एक बांसुरी वाला - भजन

वो काला एक बांसुरी वाला, सुध बिसरा गया मोरी रे। माखन चोर वो नंदकिशोर जो..

अब मैं सरण तिहारी जी - भजन

मीराबाई भजन - अब मैं सरण तिहारी जी, मोहि राखौ कृपा निधान ॥ अजामील अपराधी तारे, तारे नीच सदान..

जन्माष्टमी भजन - बड़ा नटखट है रे, कृष्ण कन्हैया

बड़ा नटखट है रे कृष्ण कन्हैया, का करे यशोदा मैय्या॥ बड़ा नटखट है रे...

उनकी रेहमत का झूमर सजा है - भजन

उनकी रेहमत का झूमर सजा है । मुरलीवाले की महफिल सजी है ॥

दर्द किसको दिखाऊं कन्हैया - भजन

दर्द किसको दिखाऊं कन्हैया, कोई हमदर्द तुमसा नहीं है, दुनिया वाले नमक है छिड़कते..

मेरो कान्हा गुलाब को फूल - भजन

मेरो कान्हा गुलाब को फूल, किशोरी मेरी कुसुम कली ॥ कान्हा मेरो नन्द जू को छौना..

श्री राधिका स्तव - राधे जय जय माधव दयिते

राधे जय जय माधव-दयिते, गोकुल-तरुणी-मंडल-महिते, दामोदर-रति-वर्धन-वेषे..

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App