छठ पूजा: कबहुँ ना छूटी छठि मइया... (Kabahun Na Chhooti Chhath)


कबहुँ ना छूटी छठि मइया,
हमनी से बरत तोहार
हमनी से बरत तोहार

तहरे भरोसा हमनी के,
छूटी नाही छठ के त्योहार
छूटी नाही छठ के त्योहार

अपने सरन में ही रखिह,
दिह आसिस हज़ार
दिह आसिस हज़ार

गोदिया भराईल छठी मइय्या,
बाटे राऊर किरपा अपार
बाटे राऊर किरपा अपार

चाहें रहब देसवा बिदेसवा,
छठ करब हम हर बार
छठ करब हम हर बार

डूबतो सुरुज के जे पूजे,
इहे बाटे हमर बिहार
इहे बाटे हमर बिहार

फलवा दउरवा सजाके,
अईनी हम घाट पे तोहार
अईनी हम घाट पे तोहार

दिहनी अरघ छठी मईया,
करीं हमर आरती स्वीकार
करीं हमर आरती स्वीकार

कबहुँ ना छूटी छठि मइया,
हमनी से बरत तोहार
हमनी से बरत तोहार

तहरे भरोसा हमनी के,
छूटी नाही छठ के त्योहार
छूटी नाही छठ के त्योहार
छूटी नाही छठ के त्योहार
छूटी नाही छठ के त्योहार

Kabahun Na Chhooti Chhath in English

Chhath Puja: Kabahun Na Chhuti Chhathi Maiya, Hamani Se Barat Tohar
यह भी जानें

BhajanChhath Puja BhajanChhath BhajanChhath Mai BhajanChhath Maiya Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

गोविंद चले चरावन धेनु

गोविंद चले चरावन धेनु । गृह गृह तें लरिका सब टेरे शृंगी मधुर बजाई बेनु ॥

भजन: भए प्रगट कृपाला दीनदयाला

श्री रामअवतार स्तुति बधाई, सोहर, जन्मदिन अवसरों पर लोकप्रिय है। भए प्रगट कृपाला दीनदयाला, कौसल्या हितकारी ।

गोविंद चले आओ, गोपाल चले आओ

गोविंद चले आओ, गोपाल चले आओ, मेरे मुरलीधर माधव..

नौ दिन का त्यौहार है आया: भजन

नौ दिन का त्यौहार है आया, ध्यान करो माँ नवदुर्गा का..

श्याम के बिना तुम आधी: भजन

श्याम के बिना तुम आधी, तुम्हारे बिना श्याम आधे, राधे राधे राधे राधे, ..

तुम बिन मोरी कौन खबर ले गोवर्धन गिरधारी: श्री कृष्ण भजन

तुम बिन मोरी कौन खबर ले, गोवर्धन गिरधारी, भरी सबा में द्रोपदी खाड़ी, राखो लाज हमारी..

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया । उनके घर में आनंद ही आनंद हो गया..

🔝