close this ads

कैसी यह देर लगाई दुर्गे...


कैसी यह देर लगाई दुर्गे, हे मात मेरी हे मात मेरी।

भव सागर में घिरा पड़ा हूँ, काम आदि गृह में घिरा पड़ा हूँ।
मोह आदि जाल में जकड़ा पड़ा हूँ, हे मात मेरी हे मात मेरी॥

ना मुझ में बल है, ना मुझ में विद्या, ना मुझ ने भक्ति ना मुझ में शक्ति।
शरण तुम्हारी गिरा पड़ा हूँ, हे मात मेरी हे मात मेरी॥

ना कोई मेरा कुटुम्भ साथी, ना ही मेरा शरीर साथी।
आप ही उभारो पकड़ के बाहें, हे मात मेरी हे मात मेरी॥

चरण कमल की नौका बना कर, मैं पार हूँगा ख़ुशी मना कर।
यम दूतों को मार भगा कर, हे मात मेरी हे मात मेरी॥

सदा ही तेरे गुणों को गाऊं, सदा ही तेरे सरूप को धयाऊं।
नित प्रति तेरे गुणों को गाऊं, हे मात मेरी हे मात मेरी॥

ना मैं किसी का ना कोई मेरा, छाया है चारो तरफ अँधेरा।
पकड़ के ज्योति दिखा दो रास्ता, हे मात मेरी हे मात मेरी॥

शरण पड़े हैं हम तुम्हारी, करो यह नैया पार हमारी।
कैसी यह देरी लगाई है दुर्गे, हे मात मेरी हे मात मेरी॥


If you love this article please like, share or comment!

भजन: हरी नाम सुमिर सुखधाम, जगत में...

हरी नाम सुमिर सुखधाम, हरी नाम सुमिर सुखधाम, जगत में जीवन दो दिन का...

सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया!

सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया। दिल दीवाना हो गया...

भजन: तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान।

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान। किसने जानी तेरी माया...

राम का सुमिरन किया करो!

राम का सुमिरन किया करो, प्रभु के सहारे जिया करो...

ब्रजराज ब्रजबिहारी! इतनी विनय हमारी

ब्रजराज ब्रजबिहारी, गोपाल बंसीवारे, इतनी विनय हमारी, वृन्दा-विपिन बसा ले...

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं।

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं, राम नारायणं जानकी बल्लभम।

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल।

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल। केशव माधव हरि हरि बोल॥

धन जोबन और काया नगर की...

धन जोबन और काया नगर की, कोई मत करो रे मरोर॥ - विधि देशवाल

भजन: आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..

आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.., रोवे अकेली मीरा..आ.., आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.. - विधि देशवाल

भजन: वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे...

वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे। पर दुःखे उपकार करे तो ये...

Latest Mandir

^
top