लेके पूजा की थाली, ज्योत मन की जगाली: भजन (Leke Pooja Ki Thali Jyot Man Ki Jagali)


लेके पूजा की थाली, ज्योत मन की जगाली: भजन
Add To Favorites

लेके पूजा की थाली
ज्योत मन की जगा ली
तेरी आरती उतारूँ
भोली माँ

तू जो दे दे सहारा
सुख जीवन का सारा
तेरे चरणों पे वारूँ
भोली माँ
ओ माँ.. ओ माँ..

लेके पूजा की थाली
ज्योत मन की जगा ली
तेरी आरती उतारूँ
भोली माँ

तू जो दे दे सहारा
सुख जीवन का सारा
तेरे चरणों पे वारूँ
भोली माँ
ओ माँ.. ओ माँ..

धूल तेरे चरणों की ले कर
माथे तिलक लगाया
हो.. धूल तेरे चरणों की ले कर
माथे तिलक लगाया
यही कामना लेकर मैया
द्वारे तेरे मैं आया

रहूँ मैं तेरा हो के
तेरी सेवा में खो के
सारा जीवन गुजारूं
भोली माँ

तू जो दे दे सहारा
सुख जीवन का सारा
तेरे चरणों पे वारूँ
भोली माँ
ओ माँ.. ओ माँ..

सफल हुआ ये जनम के मैं था
जन्मों से कंगाल
हो.. सफल हुआ ये जनम के मैं था
जन्मों से कंगाल
तूने भक्ति का धन देके
कर दिया मालामाल

रहे जब तक ये प्राण
करूं तेरा ही ध्यान
नाम तेरा पुकारूँ
भोली माँ

तू जो दे दे सहारा
सुख जीवन का सारा
तेरे चरणों पे वारूँ
भोली माँ
ओ माँ… ओ माँ…

लेके पूजा की थाली
ज्योत मन की जगा ली
तेरी आरती उतारूँ
भोली माँ

तू जो दे दे सहारा
सुख जीवन का सारा
तेरे चरणों पे वारूँ
भोली माँ
ओ माँ.. ओ माँ…

यह भी जानें

Bhajan Maa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanMaa Sherawali BhajanDurga Puja BhajanJagran BhajanMata Ki Chauki BhajanShukravar BhajanFriday BhajanAshtami BhajanGupt Navratri Bhajan

अन्य प्रसिद्ध लेके पूजा की थाली, ज्योत मन की जगाली: भजन वीडियो

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

लाल लाल चुनरी सितारो वाली: भजन

लाल लाल चुनरी सितारों वाली, सितारो वाली, जिसे ओढकर आई है...

शेरोवाली के दरबार में रंग बरसे: भजन

रंग बरसे देखो रंग बरसे, शेरोवाली के दरबार में रंग बरसे, अम्बेवाली दे दरबार में रंग बरसे...

जयपुर की चुनरिया मैं लाई शेरावालिये: भजन

जयपुर की चुनरिया, मैं लाई शेरावालिये, आगरा से लहंगा, जयपुर से चुनरिया...

जयपुर से लाई मैं तो चुनरी: भजन

जयपुर से लाई मैं तो, चुनरी रंगवाई के, गोटा किनारी अपने..

भजन: मुखड़ा देख ले प्राणी, जरा दर्पण में

मुखड़ा देख ले प्राणी, जरा दर्पण में हो, देख ले कितना, पुण्य है कितना, पाप तेरे जीवन में, देख ले दर्पण में..

कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना!

कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना, मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना॥

राधा को नाम अनमोल बोलो राधे राधे।

राधा को नाम अनमोल बोलो राधे राधे। श्यामा को नाम अनमोल बोलो राधे राधे॥

मंदिर

Download BhaktiBharat App Go To Top