भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

मन लेके आया, माता रानी के भवन में।


मन लेके आया, माता रानी के भवन में
बड़ा सुख पाया, बड़ा सुख पाया,
माती रानी के भवन में।
॥ मन लेके आया...॥

जय जय माँ, अम्बे माँ, जय जय माँ, जगदम्बे माँ
जय जय माँ, अम्बे माँ, जय जय माँ, जगदम्बे माँ

मैं जानू वैष्णव माता, तेरे ऊँचे भवन की माया,
भैरव पर क्रोध में आके, माँ तूने त्रिशूल उठाया।
वो पर्बत जहां पे तूने, शक्ति का रूप दिखाया,
भक्तो ने वहीँ पे मैया, तेरे नाम का भवन बनाया॥
बड़ा सुख पाया, बड़ा सुख पाया,
माती रानी के भवन में।
॥ मन लेके आया...॥
॥ जय जय माँ, अम्बे माँ...॥

तेरे तेज ने ज्वाला मैया, जब उजियारा फैलाया,
शाह अकबर नंगे पैरों, तेरे दरबार में आया।
तेरी जगमग ज्योत के आगे, श्रद्धा से शीश झुकाया,
तेरे भवन की शोभा देखी, सोने का क्षत्र चढ़ाया॥
बड़ा सुख पाया, बड़ा सुख पाया,
माती रानी के भवन में।
॥ मन लेके आया...॥
॥ जय जय माँ, अम्बे माँ...॥

हे चिंतपूर्णी माता, तेरी महिमा सबसे न्यारी,
दिए भाईदास को दर्शन, तू भक्तो की है प्यारी।
जो करे माँ तेरा चिंतन, तू चिंता हर दे सारी,
तेरे भवन से झोली भरके, जाते हैं सभी पुजारी॥
बड़ा सुख पाया, बड़ा सुख पाया,
माती रानी के भवन में।
॥ मन लेके आया...॥
॥ जय जय माँ, अम्बे माँ...॥

माँ नैना देवी तूने, यह नाम भगत से पाया,
नैना गुज्जर को तूने, सपने में दरश दिखाया।
आदेश पे तेरे उसने, तेरा मंदिर बनवाया,
जीवन भर बैठ भवन में, माँ तेरा ही गुण गया॥
बड़ा सुख पाया, बड़ा सुख पाया,
माती रानी के भवन में।

मन लेके आया, माता रानी के भवन में
बड़ा सुख पाया, बड़ा सुख पाया,
माती रानी के भवन में।

जय जय माँ, अम्बे माँ, जय जय माँ, जगदम्बे माँ
जय जय माँ, अम्बे माँ, जय जय माँ, जगदम्बे माँ

Read Also:
» नवरात्रि - Navratri | दुर्गा पूजा - Durga Puja
» दिल्ली के आस-पास माता के प्रसिद्ध मंदिर! | जानें दिल्ली के कालीबाड़ी मंदिरों के बारे मे!
» अम्बे तू है जगदम्बे काली | जय अम्बे गौरी | आरती माँ लक्ष्मीजी | आरती: श्री पार्वती माँ | आरती: माँ सरस्वती जी

BhajanMaa Durga BhajanMata BhajanNavratri Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

माँ सरस्वती! मुझको नवल उत्थान दो।

मुझको नवल उत्थान दो । माँ सरस्वती! वरदान दो ॥ माँ शारदे! हंसासिनी...

हे वीणा वादिनी सरस्वती, हंस वाहिनी..

हे वीणा वादिनी सरस्वती, हंस वाहिनी सरस्वती, विद्या दायिनी सरस्वती...

माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं!

माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं, किस मंजु ज्ञान से तू...

माँ! मुझे तेरी जरूरत है।

माँ ! मुझे तेरी जरूरत है। कब डालोगी, मेरे घर फेरा, तेरे बिन, जी नहीं लगता मेरा...

मेरा हाथ पकड़ ले रे, कान्हा..

मेरा हाथ पकड़ ले रे, कान्हा दिल मेरा घबराये, काले काले बादल...

जय जय शनि देव महाराज!

जय जय शनि देव महाराज, जन के संकट हरने वाले। तुम सूर्य पुत्र बलिधारी...

ज्योत से ज्योत जगाते चलो...

ज्योत से ज्योत जगाते चलो, प्रेम की गंगा बहाते चलो, राह में आये जो दीन दुखी, सब को गले से लगते चलो...

तेरे द्वार खड़ा भगवान, भक्त भर...

तेरे द्वार खड़ा भगवान, भक्त भर दे रे झोली। तेरा होगा बड़ा एहसान...

भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!

साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार। तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं।

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं, राम नारायणं जानकी बल्लभम।

close this ads
^
top