मन की मुरादें, पूरी कर माँ: भजन (Mann Mi Muraden Poori Kar Maa)


मन की मुरादें, पूरी कर माँ: भजन

मन की मुरादें, पूरी कर माँ,
दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।
तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,
हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।

तू है दाती दान देदे,
मुझ को अपना जान कर ।
भर दे मेरी झोली खाली,
दाग लगे ना तेरी शान पर ।
सवा रुपया और नारीयल,
मैं तेरी भेंट चढ़ाउंगी ॥

मन की मुरादें, पूरी कर माँ,
दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।
तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,
हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।

छोटी छोटी कन्याओं को,
भोग लगाऊं भक्ति भाव से ।
तेरा जगराता कराऊं,
मैं तो बड़े चाव से ।
लाल द्वजा लेकर के माता,
तेरे भवन पे लहराउंगी ॥

मन की मुरादें, पूरी कर माँ,
दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।
तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,
हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।

महिमा तेरी बड़ी निराली,
पार न कोई पाया है ।
मैंने सुना है, ब्रह्मा, विष्णु शिव ने,
तेरा गुण गाया है ।
मेरी औकात क्या है,
तेरी माँ बात क्या है,
कैसे तुझ को भुलाउंगी ॥

मन की मुरादें, पूरी कर माँ,
दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।
तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,
हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।

लाल चोला लाल चुनरी,
लाल तेरे लाल हैं ।
तेरी जिस पर हो दया माँ,
वो तो मालामाल है ।
श्यामसुंदर और लक्खा बालक हैं तेरे,
उनको भी संग मैं लाउंगी ॥

मन की मुरादें, पूरी कर माँ,
दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।
तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,
हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।

Mann Mi Muraden Poori Kar Maa in English

Man Ki Muraden, Poori Kar Maa, Darshan Karne Ko Main to Aaungi । Tera Deedar Hoga, Mera Udhar Hoga,
यह भी जानें

Bhajan Maa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanMaa Sherawali BhajanDurga Puja BhajanJagran BhajanMata Ki Chauki BhajanShukravar BhajanFriday BhajanAshtami BhajanGupt Navratri BhajanSantoshi Maa BhajanLakhbir Singh BhajanLakkha Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय जय सुरनायक जन सुखदायक: भजन

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण । राम भजो, राम रटो..

जिनके हृदय श्री राम बसे: भजन

जिनके हृदय श्री राम बसे, उन और को नाम लियो ना लियो । जिनके हृदय श्री राम बसे..

भजन: इतनी शक्ति हमें देना दाता

इतनी शक्ति हमें देना दाता, मनका विश्वास कमजोर हो ना..

भजन: मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे, राम आएँगे, राम आएँगे आएँगे..

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी।

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी । कलियुग का तो जीव उद्धार्या, मस्तक धरिया हाथ जी..

भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया, ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है...

🔝