close this ads

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे!


मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे,
इतना दिया मेरी माता।

मेरी बिगड़ी माँ ने बनायीं,
सोयी तकदीर जगायी।
ये बात ना सुनी सुनाई,
मैं खुद बीती बतलाता रे।
इतना दिया मेरी माता,
॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥

मान मिला सम्मान मिला,
गुणवान मुझे संतान मिली।
धन धान मिला नित ध्यान मिला,
माँ से ही मुझे पहचान मिली।
घरबार दिया मुझे माँ ने,
बेशुमार दिया मुझे माँ ने,
हर बार दिया मुझे माँ ने,
जब जब मैं माँगने जाता।
मुझे इतना दिया मेरी माता,
॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥

मेरा रोग कटा मेरा कष्ट मिटा,
हर संकट माँ ने दूर किया,
भूले से कभी जो गुरुर किया,
मेरे अभिमान को चूर किया।
मेरे अंग संग हुई सहाई,
भटके को राह दिखाई।
क्या लीला माँ ने रचाई,
मैं कुछ भी समझ ना पाता।
इतना दिया मेरी माता,
॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥

उपकार करे भव पार करे,
सपने सब के साकार करे।
ना देर करे माँ मेहर करे,
भक्तो के सदा भंडार भरे।
महिमा निराली माँ की,
दुनिया है सवाली माँ की।
जो लगन लगा ले माँ की,
मुश्किल में नहीं घबराता रे।
इतना दिया मेरी माता,
॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥

कर कोई जतन ऐ चंचल मन,
तू होके मगन चल माँ के भवन।
पा जाये नयन पावन दर्शन,
हो जाये सफल फिर ये जीवन।
तू थाम ले माँ का दामन,
ना चिंता रहे ना उलझन।
दिन रात मनन कर सुमिरन,
चाकर माँ कहलाता।
इतना दिया मेरी माता,
॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे,
इतना दिया मेरी माता।
मेरी बिगड़ी माँ ने बनायीं,
सोयी तकदीर जगायी।
ये बात ना सुनी सुनाई,
मैं खुद बीती बतलाता रे।
इतना दिया मेरी माता,
॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥

Read Also:
» नवरात्रि - Navratri | दुर्गा पूजा - Durga Puja
» दिल्ली के आस-पास माता के प्रसिद्ध मंदिर! | जानें दिल्ली के कालीबाड़ी मंदिरों के बारे मे!
» अम्बे तू है जगदम्बे काली | जय अम्बे गौरी | आरती माँ लक्ष्मीजी | आरती: श्री पार्वती माँ | आरती: माँ सरस्वती जी

BhajanMaa Durga BhajanMata BhajanNavratri Bhajan


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!

साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार। तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।

भजन: मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की। जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥

भजन: चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है। ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरबार लगाया है।

ऐसा प्यार बहा दे मैया...

ऐसा प्यार बहा दे मैया, चरणों से लग जाऊ मैं। सब अंधकार मिटा दे मैया...

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ!

दुर्गा है मेरी माँ अम्बे है मेरी माँ, जय बोलो जय माता दी, जो भी दर पे आए, जय हो...

वो है जग से बेमिसाल सखी..

वो है जग से बेमिसाल सखी, माँ शेरोवाली कमाल सखी, की री तुझे क्या बतलाऊं...

बेटा जो बुलाए माँ को आना चाहिए॥

मैया जी के चरणों मे ठिकाना चाहिए। बेटा जो बुलाए माँ को आना चाहिए॥

मन की मुरादें, पूरी कर माँ...

मन की मुरादें, पूरी कर माँ, दर्शन करने को मैं तो आउंगी। तेरा दीदार होगा, मेरा उधार होगा...

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

मेरी अखियों के सामने ही रहना, माँ जगदम्बे।

मेरी अखियों के सामने ही रहना, माँ शेरों वाली जगदम्बे।

^
top