राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद - भजन (Ram Ko Dekh Ke Janak Nandini Aur Sakhi Samvad)


राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद - भजन

राम को देख कर के जनक नंदिनी,
बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी।
राम देखे सिया को सिया राम को,
चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी॥

थे जनक पुर गये देखने के लिए,
सारी सखियाँ झरोखो से झाँकन लगे।
देखते ही नजर मिल गयी प्रेम की,
जो जहाँ थी खड़ी की खड़ी रह गयी॥
॥ राम को देख कर के जनक नंदिनी...॥

बोली एक सखी राम को देखकर,
रच गयी है विधाता ने जोड़ी सुघर।
फिर धनुष कैसे तोड़ेंगे वारे कुंवर,
मन में शंका बनी की बनी रह गयी॥
॥ राम को देख कर के जनक नंदिनी...॥

बोली दूसरी सखी छोटन देखन में है,
फिर चमत्कार इनका नहीं जानती।
एक ही बाण में ताड़िका राक्षसी,
उठ सकी ना पड़ी की पड़ी रह गयी॥
॥ राम को देख कर के जनक नंदिनी...॥

राम को देख कर के जनक नंदिनी,
बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी।
राम देखे सिया को सिया राम को,
चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी॥

Ram Ko Dekh Ke Janak Nandini Aur Sakhi Samvad in English

Ram Ko Dekh Kar Ke Janak Nandini, Bag Mein Vo Khadi Ki Khadee Rah Gayi...
यह भी जानें

Bhajan Shri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navmi BhajanJanaki Jayanti Sundarkand BhajanRamayan Path BhajanVijayadashami BhajanMata Sita BhajanRam Sita Vivah BhajanShri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navami BhajanRam Laxman BhajanDigital Baba BhajanSwami Ram Shankar BhajanSakhi Samvad Bhajan

अन्य प्रसिद्ध राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद - भजन वीडियो

Maithili Thakur

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

मत कर तू अभिमान रे बंदे: भजन

मत कर तू अभिमान रे बंदे, जूठी तेरी शान रे । मत कर तू अभिमान...

धरती गगन में होती है: भजन

धरती गगन में होती है, तेरी जय जयकार ॥

माँ तेरे लाल बुलाए आजा: भजन

माँ तेरे लाल बुलाए आजा, सुनले भक्तो की सदाए आजा, माँ तेरे लाल बुलाए आजा, सुनले भक्तो की सदाए आजा ॥

निशदिन तेरी पावन: भजन

निशदिन तेरी पावन, ज्योत जगाऊँ मैं, मुझको ना बिसराना है, जगदम्बे माँ, हर पल तेरे नाम की, महिमा गाउँ मै,मेरे घर भी आना,
जगदम्बे माँ, निशदिन तेरी पावन, ज्योत जगाऊँ मैं, मुझको ना बिसराना, हे जगदम्बे माँ ॥

ढोलिडा ढोल रे वगाड़: भजन

ढोलिडा ढोल रे वागाड़, मारे हिंच लेवी छे, हिच लेवी छे, हामे जापे जावा से, हिच लेवी छे, हामे जापे जावा से, ढोलिडा ,,,,,,,,,
ढोलिडा ढोल रे वगाड़, मारे हिंच लेवी छे, ढोलिडा ढोल रे वगाड़, मारे हिंच लेवी छे ॥

तेरी ज्योति में वो जादू है: भजन

तेरी ज्योति में वो जादू है, तक़दीर बना देती है, जगमग जलती जब ज्योत तेरी, अंधकार मिटा देती है, तेरी ज्योति में वो जादू है, तक़दीर बना देती है ॥

सब कुछ नहीं है पैसा - भजन

है वो भी जरूरी पर सब कुछ नहीं है पैसा, मकसद ऐ जिंदगी का क्यों रखलिया है पैसा, पैसे से सिकंदर ने क्या क्या खरीद लाया..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App