close this ads

भजन: सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो।


सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो, चलो दर्शन पालो चल के।
करती मेहरबानीयाँ, करती मेहरबानियां॥
गुफा के अन्दर, मन्दिर के अन्दर, माँ की ज्योतां है नुरानियाँ॥

मैया की लीला, देखो पर्बत है नीला।
गरजे शेर छबीला, रंग जिसका है पीला, रंगीला।
कठिन चढाईयां, माँ तेरियां लाईआं, यह है मैया की निशानियां॥

कष्टों को हरती, मैया मंगल है करती।
मैया शेरों वाली का, दुनिया पानी है भरती, दुःख हरती।
अजब नज़ारे, माते के द्वारे, और रुत्ता मस्तानीय॥

कोढ़ी को काया, देवे निर्धन को माया।
करती आचल की छाया, भिखारी बन के जो आया।
चला चल, माँ के द्वारे, कटे संकट सारे, मिट जाए परशानियाँ॥

Read Also:
» नवरात्रि - Navratri | दुर्गा पूजा - Durga Puja
» दिल्ली के आस-पास माता के प्रसिद्ध मंदिर! | जानें दिल्ली के कालीबाड़ी मंदिरों के बारे मे!
» अम्बे तू है जगदम्बे काली | जय अम्बे गौरी | आरती माँ लक्ष्मीजी | आरती: श्री पार्वती माँ | आरती: माँ सरस्वती जी

Hindi Version in English

sar ko jhukalo, sheravali ko manalo, chalo darshan palo chal ke.
karati meharabaniyan, karati meharabaniyan.
gupha ke andar, mandir ke andar, maan ki jyotan hai nuraniyan.

maiya ki lila, dekho parbat hai neela.
garaje sher chhabeela, rang jisaka hai peela, rangeela.
kathin chadhaiyan, maa teriyan laiyan, yah hai maiya ki nishaniyan.

kashton ko haratee, maiya mangal hai karatee.
maiya sheron vaalee ka, duniya paanee hai bharatee, duhkh haratee.
ajab nazaare, maate ke davaare, aur rutta mastaaneey.

kodhee ko kaaya, deve nirdhan ko maaya.
karatee aachal kee chhaaya, bhikhaaree ban ke jo aaya.
chala chal, maan ke dvaare, kate sankat saare, mit jae parashaaniyaan.

BhajanMaa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanLakkha Bhajan


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

ऐसे मेरे मन में विराजिये!

ऐसे मेरे मन में विराजिये, कि मै भूल जाऊं काम धाम, गाऊं बस तेरा नाम...

जैसे तुम सीता के राम...

जैसे तुम सीता के राम, जैसे लक्ष्मण के सम्मान, जैसे हनुमत के भगवान...

अमृत बेला गया आलसी सो रहा बन आभागा !

बेला अमृत गया, आलसी सो रहा, बन आभागा, साथी सारे जगे, तू न जागा...

मेरो मॅन लग्यॉ बरसाने मे...

मेंरो मन लग्यो बरसाने में, जहाँ विराजे राधा रानी, मन हट्यो दुनियाँदारी से, मन हट्यो दुनियाँदारी से...

हे रोम रोम मे बसने वाले राम!

हे रोम रोम मे बसने वाले राम, जगत के स्वामी, हे अन्तर्यामी, मे तुझ से क्या मांगूं।

जिसकी लागी रे लगन भगवान में..!

जिसकी लागी रे लगन भगवान में, उसका दिया रे जलेगा तूफान में।

भजमन राम चरण सुखदाई।

भज मन राम चरण सुखदाई॥ जिहि चरननसे निकसी सुरसरि संकर जटा समाई...

जय हो शिव भोला भंडारी!

जय हो शिव भोला भंडारी लीला अपरंपार तुम्हारी, लेके नाम, तेरा नाम, तेरे धाम आ गए,

तेरी मुरली की मैं हूँ गुलाम...

तेरी मुरली की मैं हूँ गुलाम, मेरे अलबेले श्याम। अलबेले श्याम मेरे मतवाले श्याम॥

^
top