करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

भजन: श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी...


श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी
श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी -x2

तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी
तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी -x2

भजमन नारायण नारायण हरी हरी – 2
जय जय नारायण नारायण हरी हरी – 2
श्रीमान नारायण नारायण हरी हरी – 2

हरी ॐ नमो नारायणा ॐ नमो नारायणा
हरी ॐ नमो नारायणा ॐ नमो नारायणा -x2

लक्ष्मी नारायण नारायण हरी हरी – 2
बोलो नारायण नारायण हरी हरी – 2

भजो नारायण नारायण हरी हरी – 2
जय जय नारायण नारायण हरी हरी – 2
श्रीमान नारायण नारायण हरी हरी – 2

तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी – 2
श्रीमान नारायण नारायण हरी हरी – 2

हरी ॐ नमो नारायणा ॐ नमो नारायणा
हरी ॐ नमो नारायणा ॐ नमो नारायणा -x2

सत्य नारायण नारायण हरी हरी – 2
जपो नारायण नारायण हरी हरी – 2
भजो नारायण नारायण हरी हरी – 2
जय जय नारायण नारायण हरी हरी – 2
श्रीमान नारायण नारायण हरी हरी – 2

तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी – 2
श्रीमान नारायण नारायण हरी हरी – 2

हरी ॐ नमो नारायणा ॐ नमो नारायणा
हरी ॐ नमो नारायणा ॐ नमो नारायणा -x2

बोलो नारायण नारायण हरी हरी – 2
भजमन नारायण नारायण हरी हरी – 2
जय जय नारायण नारायण हरी हरी – 2
श्रीमान नारायण नारायण हरी हरी – 2
तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी – 2
श्रीमान नारायण नारायण हरी हरी – 2

हरी ॐ नमो नारायणा ॐ नमो नारायणा
हरी ॐ नमो नारायणा ॐ नमो नारायणा -x2

यह भी जानें

BhajanShri Vishnu Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

जय जय सुरनायक जन सुखदायक

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

भजन: राम कहने से तर जाएगा!

राम कहने से तर जाएगा, पार भव से उतर जायेगा। उस गली होगी चर्चा तेरी...

मेरे मन के अंध तमस में...

मेरे मन के अंध तमस में, ज्योतिर्मय उतारो। जय जय माँ...

भजन: रघुपति राघव राजाराम

रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम ॥ सुंदर विग्रह मेघश्याम, गंगा तुलसी शालग्राम...

भजन: भेजा है बुलावा, तूने शेरा वालिए

भेजा है बुलावा, तूने शेरा वालिए, ओ मैया तेरे दरबार, में हाँ तेरे दीदार, कि मैं आऊंगा, कभी न फिर जाऊँगा...

भजन: मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की। जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥

भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!

साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार। तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।

भजन: रम गयी माँ मेरे रोम रोम में!

रम गयी माँ मेरे रोम रोम में... मेरी सांसो में अम्बे के नाम की धारा बहती. इसीलिए तो मेरी जिह्वा हर समय ये कहती...

top