Download Bhakti Bharat APP
Download APP Now - Hanuman Chalisa - Durga Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel -

भाद्रपद 2024 (Bhadrapada 2024)

भाद्रपद माह हिन्दु कैलेण्डर में छठवाँ चन्द्र महीना है। जो भाद्र या भाद्रपद या भादो या भाद्रव के नाम से भी जाना जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार भाद्रपद माह अगस्त और सितंबर में आता है। भारत के राष्ट्रीय नागरिक कैलेंडर में, भद्रा वर्ष का छठा महीना है। वैदिक ज्योतिष में, भद्रा सूर्य के सिंह राशि में प्रवेश के साथ शुरू होती है और आमतौर पर वर्ष का पाँचवाँ महीना होता है।
भाद्रपद माह का महत्व
धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, भाद्रपद महीने पूजा पाठ पर विशेष ध्यान देना चाहिए। धर्मशास्त्र और पंडित बताते हैं कि भादो के महीने में नदियों में स्नान कर गरीबों को दान करना चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण की पूजा नियमित करनी चाहिए। उन्हें तुलसी जल चढ़ाना चाहिए। उनसे प्रार्थना करना चाहिए। इस महीने मांगी गई हर इच्छा की पूर्ति भगवान श्रीकृष्ण करते हैं।

भाद्रपद माह का उत्सव
भाद्रपद माह कई खास तीज-त्योहार, व्रत, दिवस, शुभ तिथियां रहती हैं। खास त्योहार में हरतालिका तीज, गणेश चतुर्थी, जन्माष्टमी, जैन पयुर्षण पर्व और अनंत चतुर्दशी का त्योहार रहता है। इसी महीने में अष्टमी तिथि के दिन भगवान श्रीकृष्ण ने रोहिणी नक्षत्र और वृष लग्न में जन्म लिया था। अत: इस माह का महत्व और अधिक बढ़ गया है। इसी के साथ इस माह हरतालिका तीज, जैन पयुर्षण पर्व, अजा एकादशी, श्री गणेश चतुर्थी आदि भी रहेंगे।

2024 भाद्रपद माह
भाद्रपद मास 20 अगस्त 2024 से प्रारंभ होकर 18 सितंबर 2024 को समाप्त होगा।

भाद्रपद मास 2024 व्रत, पर्व, जयंती और उत्सव
20 अगस्त 2024 मंगलवार - इष्टि
22 अगस्त 2024 बृहस्पतिवार - कजरी तीज, बहुला चतुर्थी, हेरम्ब संकष्टी चतुर्थी
24 अगस्त 2024 शनिवार - बलराम जयन्ती
25 अगस्त 2024 रविवार - भानु सप्तमी
26 अगस्त 2024 सोमवार - कृष्ण जन्माष्टमी
27 अगस्त 2024 मंगलवार - दही हाण्डी
29 अगस्त 2024 बृहस्पतिवार - अजा एकादशी
31 अगस्त 2024 शनिवार - प्रदोष व्रत
2 सितम्बर 2024 सोमवार - पिठोरी अमावस्या, दर्श अमावस्या, अन्वाधान, भाद्रपद अमावस्या
6 सितम्बर 2024 शुक्रवार - वराह जयन्ती, हरतालिका तीज
7 सितम्बर 2024 शनिवार - गणेश चतुर्थी
8 सितम्बर 2024 रविवार - ऋषि पञ्चमी
10 सितम्बर 2024 मंगलवार - ललिता सप्तमी
11 सितम्बर 2024 बुधवार - महालक्ष्मी व्रत आरम्भ, दूर्वा अष्टमी, राधा अष्टमी
14 सितम्बर 2024 शनिवार - परिवर्तिनी एकादशी
15 सितम्बर 2024 रविवार - वामन जयन्ती, प्रदोष व्रत
16 सितम्बर 2024 सोमवार - विश्वकर्मा पूजा, कन्या संक्रान्ति
17 सितम्बर 2024 मंगलवार - गणेश विसर्जन, अनन्त चतुर्दशी, पूर्णिमा श्राद्ध, अन्वाधान
18 सितम्बर 2024 बुधवार - पितृपक्ष प्रारम्भ, चन्द्र ग्रहण *आंशिक, भाद्रपद पूर्णिमा, इष्टि

Bhadrapada 2024 in English

Bhadrapada maas is the sixth lunar month in the Hindu calendar. Which is also known as Bhadra or Bhadrapada or Bhado or Bhadrav.
यह भी जानें

Blogs Bhadrapada Maas BlogsBhadrapada Maas 2024 BlogsHindu Pavitra Maas BlogsBhagwan Krishna BlogsHartalika Teej BlogsGanesh Chaturthi BlogsJanmashtami BlogsJain Payurshan Festival And Anant Chaturdashi Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

ग्रीष्म संक्रांति | जून संक्रांति

ग्रीष्म संक्रांति तब होती है जब पृथ्वी का सूर्य की ओर झुकाव अधिकतम होता है। इसलिए, ग्रीष्म संक्रांति के दिन, सूर्य दोपहर की स्थिति के साथ अपनी उच्चतम ऊंचाई पर दिखाई देता है जो ग्रीष्म संक्रांति से पहले और बाद में कई दिनों तक बहुत कम बदलता है। 21 जून उत्तरी गोलार्ध में सबसे लंबा दिन होता है, तकनीकी रूप से इस दिन को ग्रीष्म संक्रांति कहा जाता है। ग्रीष्म संक्रांति के दौरान उत्तरी गोलार्ध में एक विशिष्ट क्षेत्र द्वारा प्राप्त प्रकाश की मात्रा उस स्थान के अक्षांशीय स्थान पर निर्भर करती है।

नेत्र उत्सव

नेत्रोत्सव रथ यात्रा से एक दिन पहले आयोजित किया जाता है।

स्नान यात्रा

स्नान यात्रा जो कि देवस्नान पूर्णिमा या स्नान पूर्णिमा नाम से भी जाना जाता है।

रुक्मिणी हरण एकादशी

रुक्मिणी हरण एक ऐसी घटना है जो मदनमोहन और रुक्मिणी के बीच विवाह का त्यौहार है। यह पुरी जगन्नाथ मंदिर, ओडिशा में एक भव्य त्योहार है। यह निर्जला एकादशी दिवस (ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी) के दौरान आती है।

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2024

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | ISKCON एकादशी कैलेंडर 2024

ज्योष्ठ माह 2024

पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में ज्योष्ठ माह वर्ष का तीसरा महीना होता है। वैदिक ज्योतिष शास्त्र में ज्येष्ठ सूर्य के वृष राशि में प्रवेश के साथ शुरू होता है, और वैष्णव शास्त्र के अनुसार यह वर्ष का दूसरा महीना होता है।

जैन ध्वज क्या है?

जैन धर्म में जैन ध्वज महत्वपूर्ण है और इसके अनुयायियों के लिए एकता के प्रतीक के रूप में कार्य करता है। विभिन्न समारोहों के दौरान जैन ध्वज मंदिर के मुख्य शिखर के ऊपर फहराया जाता है।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP