Hanuman Chalisa
Hanuman Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Hanuman Chalisa - Achyutam Keshavam -

हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का महत्व (Importance of Akshaya Tritiya in Hindu Religion)

हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का महत्व
अक्षय तृतीया का महत्व हिंदू धर्म में बहुत खास है। संस्कृत शब्द अक्षय का अर्थ है वह जो कभी कम न हो या अनन्त (एकांत) हो। इस दिन देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। सोना और चांदी अक्षय तृतीया में खरीदारी बहुत फलदायी माना जाता है। अक्षय तृतीया के दिन पुराणों में भी विशेष महत्व बताया गया है। ऐसा माना जाता है कि इसी दिन से सतयुग की शुरुआत हुई थी।
आइए जानते हैं अक्षय तृतीया के बारे में, शुभ मुहूर्त और महत्व:
हर साल वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया मनाई जाती है। इस दिन को बहुत शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि इस दिन शुभ काम किए जा सकते हैं।

अक्षय तृतीया 2024: शुभ समय:
तृतीया तिथि प्रारम्भ - मई 10, 2024 को 04:17 AM
तृतीया तिथि समाप्त - मई 11, 2024 को 02:50 AM

अक्षय तृतीया पूजा मुहूर्त - 05:33 AM से 12:18 PM

अक्षय तृतीया का महत्व:
अक्षय तृतीया को सबसे लोकप्रिय मुहूर्त भी माना जाता है। अक्षय तृतीया के दिन बिना पंचांग देखे कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है। इसी दिन से भगवान जगन्नाथ का रथ निर्माण कार्य शुरू होता है। पुराणों में लिखा है कि इस दिन पितृ को दिया जाने वाला तर्पण और पिंडदान बहुत फलदायी होता है।

इस दिन, विवाह, गृह-प्रवेश, कपड़े या गहने की खरीद या घर, भूखंड, वाहन आदि की खरीदारी की जा सकती है। अक्षय तृतीया के दिन गंगा स्नान करने और भगवान की पूजा करने से सभी पाप खंडित हो जाते हैं।
शुभ अक्षय तृतीया!

Importance of Akshaya Tritiya in Hindu Religion in English

The importance of Akshaya Tritiya in Hinduism is very special. In Sanskrit “Akshay” means the one which never diminishes. Devi Lakshmi is worshiped on this day.
यह भी जानें

Blogs Akshaya Tritiya BlogsAkha Teej BlogsVaishakha Tritiya BlogsVaishakha Shukla Tritiya Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

नेत्र उत्सव

नेत्रोत्सव रथ यात्रा से एक दिन पहले आयोजित किया जाता है।

अधर पणा

अधर पणा अनुष्ठान आषाढ़ महीने त्रयोदशी तिथि पर पुरी जगन्नाथ मंदिर में आयोजित किया जाता है।

स्नान यात्रा

स्नान यात्रा जो कि देवस्नान पूर्णिमा या स्नान पूर्णिमा नाम से भी जाना जाता है।

नीलाद्रि बिजे

नीलाद्रि बिज महोत्सव वार्षिक रथ यात्रा उत्सव के समापन का प्रतीक है।

माता गंगा की मूर्ति पूजा क्यों वर्जित है जबकि गंगा जल शुभ है?

गंगाजल को हिन्दू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। इसलिए इसे घर में रखने की सलाह दी जाती है, लेकिन फिर मां गंगा की मूर्ति को घर में रखने की मनाही क्यों है। माता गंगा को हिन्दू धर्म में पवित्र, पूजनीय और माता माना गया है। इसलिए गंगा स्नान से लेकर घर में गंगाजल रखने तक को महत्वपूर्ण और लाभकारी बताया गया है।

ISKCON

ISKCON संप्रदाय के भक्त भगवान श्री कृष्ण को अपना आराध्य मानते हैं। इनके द्वारा गाये जाने वाले भजन, मंत्र एवं गीतों का कुछ संग्रह यहाँ सूचीबद्ध किया गया है, सभी सनातनी परम्परा के भक्त इसका आनंद लें।

भगवान जगन्नाथ चंदन यात्रा

चंदन यात्रा भारत के पुरी में जगन्नाथ मंदिर में मनाया जाने वाला सबसे लंबा त्योहार है। अक्षय तृतीया से शुरू होकर 21 दिनों तक चलता है।...

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP