Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel
Hanuman Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Hanuman Chalisa - Om Jai Jagdish Hare Aarti -

दण्डी सन्यासी का क्या अर्थ है? (What is the meaning of Dandi Sanyasi?)

डंडा का अर्थ संस्कृत में छड़ी या बेंत होता है और इस छड़ी को रखने वाले सन्यासी को दंडी सन्यासी कहा जाता है। देश में संतों के एक महत्वपूर्ण संप्रदाय दंडी सन्यासियों का दावा है कि शंकराचार्य उन्हीं में से चुने गए हैं। दंडी सन्यासी बनने के इच्छुक साधुओं को अपनी तह में स्वीकार किए जाने से पहले कई बाधाओं को पार करना पड़ता है। दंडी स्वामी उसे कहते हैं जिसके हाथ में एक दण्ड रहे।
कैसे बनते हैं दंडी सन्यासी
जब ब्राह्मण कर्मकांड का त्याग करता है, उस समय उसके गुरु उसे दंड देते हैं। अब सन्यासी इस डंडे को कपड़े से ढक कर रखते हैं, जब वे घूमते हैं तो यह डंडा किसी के हाथ नहीं लगना चाहिए। नहीं तो डंडा की शुद्धता प्रभावित होती है।

दंडी सन्यासी अपने डंडे को निर्धारित आवरण के साथ शुद्ध रखते हैं। पूजन के समय वे डंडे को खुला रखते हैं, सिवाय इसके कि वे हर समय डंडे को ढक कर रखते हैं। माना जाता है की दंडी सन्यासी के दंड मैं ब्रह्मांड की दिव्य शक्ति है; इसकी शुद्धता को हमेशा बनाए रखना होता है। अपात्र और अनाधिकृत व्यक्तियों को खुला डंडा नहीं दिखाना चाहिए।

दंडी संन्यासी का जीवन चर्या
❀ दंडी संन्यासी ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं और मूर्ति पूजा नहीं करते हैं। माना जाता है कि वो अपनी दैनिक जीवन की प्रक्रियाओं से गुजरते हुए और ध्यान के साधन का इस्तेमाल कर के खुद को परमात्मा से जोड़ लेते हैं। इस वजह से उन्हें मूर्तिपूजा की जरूरत नहीं होती।

❀ दंडी संन्यासी का रहन-सहन का ढंग भी अलग होता है। दंडी संन्यासी कपड़ों का त्याग कर देते हैं, वो सिले हुए वस्त्र नहीं पहनते हैं। दंडी संन्यासी बिना बिस्तर के सोते हैं और लोकारण्य से बाहर निवास करते हैं।

दंडी संन्यासी का खान-पान
❀ दंडी संन्यासी भीक्षा मांगकर भोजन करते हैं। वो दिन में केवल एक बार ही भोजन करते हैं, वो सामान्य बर्तनों में भोजन नहीं करते हैं। दंडी सन्यासी सूर्यास्त के बाद कभी भी भोजन नहीं करते हैं। वे दिनभर में अधिकतम सात घरों में भीक्षा मांग सकते हैं और कुछ न मिलने पर उन्हें भूखे ही सोना पड़ता है।

❀ ऐश और आराम की सारी चीजों का उन्हें त्याग करना पड़ता है।

दंडी सन्यासी का अंतिम संस्कार
दंडी संन्यासी के निधन के बाद उन्हें जलाया नहीं जाता। दीक्षा के दौरान ही शरीर के अंतिम संस्कार की एक प्रक्रिया होती है। इसी दौरान उन्हें मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है और मृत्यु के पश्चात आम लोगों की तरह संन्यासियों को जलाया नहीं जाता है उन्हें समाधि दिया जाता है।

शास्त्रों में यह दंड श्री विष्णु भगवान का प्रतीक है और इसे 'ब्रह्म दंड' भी कहा जाता है। जब एक ब्राह्मण सन्यास ग्रहण करता है हमारे शास्त्रों में निर्धारित है, तो यह दंड उसे दिया जाता है। जब वह इस डंडे को पाने के लिए पात्रता अर्जित कर लेता है तो उसे प्राधिकरण मिल जाता है। सन्यासी का डंडा भगवान विष्णु और उनकी शक्तियों का प्रतीक है। सभी दंडी सन्यासी प्रतिदिन अपने दंड का अभिषेक, तर्पण और पूजन करते हैं।

What is the meaning of Dandi Sanyasi? in English

Danda means stick or cane in Sanskrit and the Sanyasi who keeps this stick is called Dandi Sanyasi. The Dandi Sanyasis, an important sect of saints in the country, claim that Shankaracharya was chosen from among them. Sadhus aspiring to become Dandi sanyasis have to cross many hurdles before being accepted. Dandi Swami is the one who has a stick in his hand.
यह भी जानें

Blogs Dandi Sanyasi BlogsSankaracharya BlogsDwarkapeeth BlogsLife Of Dandi Sanyasi BlogsFood Of Dandi Sanyasi Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

राम नवमी का महत्व क्या है?

राम नवमी को भगवान राम के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

भगवान श्री विष्णु के दस अवतार

भगवान विष्‍णु ने धर्म की रक्षा हेतु हर काल में अवतार लिया। भगवान श्री विष्णु के दस अवतार यानी दशावतार की प्रामाणिक कथाएं।

तिलक के प्रकार

तिलक एक हिंदू परंपरा है जो काफी समय से चली आ रही है। विभिन्न समूह विभिन्न प्रकार के तिलकों का उपयोग करते हैं।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

चैत्र नवरात्रि विशेष 2024

हिंदू पंचांग के प्रथम माह चैत्र मे, नौ दिनों तक चलने वाले नवरात्रि पर्व में व्रत, जप, पूजा, भंडारे, जागरण आदि में माँ के भक्त बड़े ही उत्साह से भाग लेते है। Navratri Dates 9 April 2024 - 16 April 2024

वैशाख मास 2024

वैशाख मास पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में दूसरा महीना होता है। यह महीना ग्रेगोरियन कैलेंडर में अप्रैल और मई के साथ मेल खाता है। आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र में इसे दूसरे महीने के रूप में गिना जाता है। गुजराती कैलेंडर में, यह सातवां महीना है। पंजाबी, बंगाल, असमिया और उड़िया कैलेंडर में वैशाख महीना पहला महीना है।

तिलक लगाने के पीछे क्या कारण है?

तिलक लगाना हिंदू परंपरा में इस्तेमाल की जाने वाली एक विशेष रस्म है।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP