सीता नवमी | वट सावित्री व्रत | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

ऐसे मेरे मन में विराजिये!


ऐसे मेरे मन में विराजिये
ऐसे मेरे मन में विराजिये
कि मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
॥ ऐसे मेरे मन में विराजिये...॥

तू चंदा हम है चकोर,
दर्शन को मचाते है शोर।
तेरी कृपा की नजर,
अब हो जाये अपनी भी ओर।

करुणा करिये मत लाजिए,
कि मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
ऐसे मेरे मन मैं विराजिये, ऐसे मेरे मन मैं..

प्रीती का सच्चा सुरूर,
जिन्हें तुमने दिया है हुज़ूर।
भक्ति की गहराईयाँ
पा लेंगे वो प्रेमी जरूर।

चरण कमल चित साजिए
कि मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
ऐसे मेरे मन मैं विराजिये, ऐसे मेरे मन मैं..

जीने का एक फल यही,
जिसने जाना है ज्ञानी वही।
प्रीतम हृदय में बसे
बात संतो ने इतनी कही।

सिया संग प्यारी छवि छाजिये।
कि मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

ऐसे मेरे मन में विराजिये
ऐसे मेरे मन में विराजिये
कि मै भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
भूल जाऊं काम धाम
गाऊं बस तेरा नाम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम
सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

ये भी जानें

BhajanShri Ram BhajanMata Sita Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: शीश गंग अर्धंग पार्वती

शीश गंग अर्धंग पार्वती सदा विराजत कैलासी। नंदी भृंगी नृत्य करत हैं, धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

भजन: मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है।

मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। तेरा शुक्रिया है, तेरा शुक्रिया है।

भजन: जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे।

जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे। तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे।

भजन: गुरु बिन घोर अँधेरा संतो!

गुरु बिन घोर अँधेरा संतो, गुरु बिन घोर अँधेरा जी। बिना दीपक मंदरियो सुनो...

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन!

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार। पवनसुत विनती बारम्बार॥ अष्ट सिद्धि, नव निद्दी के दाता...

भजन: सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये!

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये।...

कृपा मिलेगी श्री राम जी की..

किरपा मिलेगी श्री राम जी की, भक्ति करो, भक्ति करो, दया मिलिगी हनुमान जी की, राम जपो, राम जपो...

भजन: आ लौट के आजा हनुमान...

आ लौट के आजा हनुमान, तुम्हे श्री राम बुलाते हैं। जानकी के बसे तुममे प्राण, तुम्हे श्री राम बुलाते हैं॥

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार!

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार। हाथों में फूलों का दौना भी सोहे, सुंदर गले में सोहे हार, कुमार मैने देखे...

close this ads
^
top