जिसको नही है बोध, तो गुरु ज्ञान क्या करे (Jisko Nahi Hai Bodh Guru Gyan Kya Kare)


जिसको नही है बोध, तो गुरु ज्ञान क्या करे

॥ दोहा ॥
अर्घ कपाले झूलता,
सो दिन करले याद ।
जठरा सेती राखिया,
नाहि पुरुष कर बाद ॥

॥ तो गुरु ज्ञान क्या करे ॥
जिसको नही है बोध,
तो गुरु ज्ञान क्या करे ।
निज रूप को जाना नहीं,
तो पुराण क्या करे ।

घट घट में ब्रह्मज्योत का,
प्रकाश हो रहा ।
मिटा न द्वैतभाव तो,
फिर ध्यान क्या करे ।

जिसको नही है बोध,
तो गुरु ज्ञान क्या करे ।
निज रूप को जाना नहीं,
तो पुराण क्या करे ।

रचना प्रभू की देख के,
ज्ञानी बड़े बड़े ।
पावे ना कोई पार तो,
नादान क्या करे ।

जिसको नही है बोध,
तो गुरु ज्ञान क्या करे ।
निज रूप को जाना नहीं,
तो पुराण क्या करे ।

करके दया दयाल ने,
मानुष जन्म दिया ।
बंदा न करे भजन तो,
भगवान क्या करे ।

जिसको नही है बोध,
तो गुरु ज्ञान क्या करे ।
निज रूप को जाना नहीं,
तो पुराण क्या करे ।

सब जीव जंतुओं में ,
जिसे है नहीं दया ।
‘ब्रह्मानंद’ व्रत नेम,
पुण्य दान क्या करे ।

जिसको नही है बोध,
तो गुरु ज्ञान क्या करे ।
निज रूप को जाना नहीं,
तो पुराण क्या करे ।

Jisko Nahi Hai Bodh Guru Gyan Kya Kare in English

Jisko Nahi Hai Bodh , To Guru Gyan Kya Kare । Nij Roop Ko Jana Nahin, To Puran Kya Kare ।
यह भी जानें

BhajanGuru BhajanGurudev BhajanGuru Purnima BhajanVyasa Purnima BhajanGuru Gyan Bhajan

अन्य प्रसिद्ध जिसको नही है बोध, तो गुरु ज्ञान क्या करे वीडियो

Sunita Swami


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

भजन: ऐसे मेरे मन में विराजिये

ऐसे मेरे मन में विराजिये, कि मै भूल जाऊं काम धाम, गाऊं बस तेरा नाम...

धन जोबन और काया नगर की..

धन जोबन और काया नगर की, कोई मत करो रे मरोर॥ - विधि देशवाल

हिम्मत ना हारिए, प्रभु ना बिसारिए: भजन

हिम्मत ना हारिए, प्रभु ना बिसारिए । हँसते मुस्कुराते हुये, जिंदगी गुजारिए ॥ काम ऐसे कीजिये कि..

नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन

नमस्कार भगवन तुम्हें, भक्तों का बारम्बार हो, श्रद्धा रुपी भेंट हमारी..

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार, यहाँ पे भी जो हारा, कहाँ जाऊंगा सरकार॥

भजन: आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..

आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.., रोवे अकेली मीरा..आ.., आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.. - विधि देशवाल

भजन: जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

🔝