श्री कृष्ण जन्माष्टमी | आज का भजन!

भजन: संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥


श्री हनुमान जन्मोत्सव, मंगलवार व्रत, शनिवार पूजा, बूढ़े मंगलवार, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं
संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥
पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं
संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥
॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं
संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

जब रिश्तेदार तुमसे मुखड़ा छुपाए, हनुमान तेरा साथ निभाए
हनुमान तेरा साथ निभाए, हनुमान तेरा साथ निभाए

जब दुनिया वाले दें ना सहारा, हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा
हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा, हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा

पढ़ लो सारे
पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं
पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं
संकट के साथी को हनुमान कहते हैं
॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥

जो काम इसके वश में नहीं है,
एक काम हमको ऐसा बता दो
एक काम हमको ऐसा बता दो,
एक काम हमको ऐसा बता दो

हनुमान खुश हो जाएगा तुमसे,
बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो
बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो,
बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो

दुनिया के
दुनिया के सारे इंसान कहते हैं
दुनिया के सारे इंसान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं
संकट के साथी को हनुमान कहते हैं
॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥

दिल से जो इनकी भक्ति करेगा, हनुमान उसका साथी बनेगा
हनुमान उसका साथी बनेगा, हनुमान उसका साथी बनेगा

‘बनवारी’ जो भी शरण में रहेगा, ये उसका बेड़ा पार करेगा
ये उसका बेड़ा पार करेगा, ये उसका बेड़ा पार करेगा

इनके बारे में
इनके बारे में श्रीराम कहते हैं
इनके बारे में श्रीराम कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं
संकट के साथी को हनुमान कहते हैं
॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं
संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

यह भी जानें

BhajanShri Hanuman BhajanBajrangbali BhajanHanuman Jayanti Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

गोपाल गोकुल वल्लभे, प्रिय गोप गोसुत वल्लभं

गोपाल गोकुल वल्लभे, प्रिय गोप गोसुत वल्लभं। चरणारविन्दमहं भजे, भजनीय सुरमुनि दुर्लभं..

भजन: बिनती सुनिए नाथ हमारी...

बिनती सुनिए नाथ हमारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, मोर मुकुट पीतांबर धारी..

हरि का भजन करो, हरि है तुम्हारा!

हरि का भजन करो, हरि है तुम्हारा, हरि के भजन बिन, हरि के भजन बिन, नहीं गुजारा...

भजन: कृष्ण जिनका नाम है..!

कृष्ण जिनका नाम है, गोकुल जिनका धाम है, ऐसे श्री भगवान को...

भजन: राम कहानी सुनो रे राम कहानी।

राम कहानी सुनो रे राम कहानी। कहत सुनत आवे आँखों में पानी। श्री राम, जय राम, जय-जय राम...

भजन: ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यूँ?

करे हाहाकार निःशब्द सदा, ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यूँ?

भजन: सियारानी का अचल सुहाग रहे..

सियारानी का अचल सुहाग रहे। मैया रानी का अचल सुहाग रहे। राजा राम जी के सिर पर ताज रहे। जब तक पृथ्वी अहिषीश रहे...

मंगल गीत: हेरी सखी मंगल गावो री..

हेरी सखी मंगल गावो री, धरती अम्बर सजाओ री
चोख पुरावो, माटी रंगावो, आज मेरे पिया घर आवेंगे..

भजन: शीश गंग अर्धंग पार्वती

शीश गंग अर्धंग पार्वती सदा विराजत कैलासी। नंदी भृंगी नृत्य करत हैं, धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

top