चालीसा: श्री राणी सती दादी जी (Shri Rani Sati Dadi Ji)


॥ दोहा ॥
श्री गुरु पद पंकज नमन, दुषित भाव सुधार,
राणी सती सू विमल यश, बरणौ मति अनुसार,
काम क्रोध मद लोभ मै, भरम रह्यो संसार,
शरण गहि करूणामई, सुख सम्पति संसार॥

॥ चौपाई ॥
नमो नमो श्री सती भवानी,
जग विख्यात सभी मन मानी।
नमो नमो संकट कू हरनी,
मनवांछित पूरण सब करनी ॥2॥

नमो नमो जय जय जगदंबा,
भक्तन काज न होय विलंबा।
नमो नमो जय जय जगतारिणी,
सेवक जन के काज सुधारिणी ॥४॥

दिव्य रूप सिर चूनर सोहे,
जगमगात कुन्डल मन मोहे।
मांग सिंदूर सुकाजर टीकी,
गजमुक्ता नथ सुंदर नीकी ॥६॥

गल वैजंती माल विराजे,
सोलहूं साज बदन पे साजे।
धन्य भाग गुरसामलजी को,
महम डोकवा जन्म सती को ॥८॥

तनधनदास पति वर पाये,
आनंद मंगल होत सवाये।
जालीराम पुत्र वधु होके,
वंश पवित्र किया कुल दोके॥

पति देव रण मॉय जुझारे,
सति रूप हो शत्रु संहारे।
पति संग ले सद् गती पाई,
सुर मन हर्ष सुमन बरसाई॥

धन्य भाग उस राणा जी को,
सुफल हुवा कर दरस सती का।
विक्रम तेरह सौ बावन कूं,
मंगसिर बदी नौमी मंगल कूं॥

नगर झून्झूनू प्रगटी माता,
जग विख्यात सुमंगल दाता।
दूर देश के यात्री आवै,
धुप दिप नैवैध्य चढावे॥

उछाङ उछाङते है आनंद से,
पूजा तन मन धन श्रीफल से।
जात जङूला रात जगावे,
बांसल गोत्री सभी मनावे॥

पूजन पाठ पठन द्विज करते,
वेद ध्वनि मुख से उच्चरते।
नाना भाँति भाँति पकवाना,
विप्र जनो को न्यूत जिमाना॥

श्रद्धा भक्ति सहित हरसाते,
सेवक मनवांछित फल पाते।
जय जय कार करे नर नारी,
श्री राणी सतीजी की बलिहारी॥

द्वार कोट नित नौबत बाजे,
होत सिंगार साज अति साजे।
रत्न सिंघासन झलके नीको,
पलपल छिनछिन ध्यान सती को॥

भाद्र कृष्ण मावस दिन लीला,
भरता मेला रंग रंगीला।
भक्त सूजन की सकल भीङ है,
दरशन के हित नही छीङ है॥

अटल भुवन मे ज्योति तिहारी,
तेज पूंज जग मग उजियारी।
आदि शक्ति मे मिली ज्योति है,
देश देश मे भवन भौति है॥

नाना विधी से पूजा करते,
निश दिन ध्यान तिहारो धरते।
कष्ट निवारिणी दुख: नासिनी,
करूणामयी झुन्झुनू वासिनी॥

प्रथम सती नारायणी नामा,
द्वादश और हुई इस धामा।
तिहूं लोक मे कीरति छाई,
राणी सतीजी की फिरी दुहाई॥

सुबह शाम आरती उतारे,
नौबत घंटा ध्वनि टंकारे।
राग छत्तीसों बाजा बाजे,
तेरहु मंड सुन्दर अति साजे ॥

त्राहि त्राहि मै शरण आपकी,
पुरी मन की आस दास की।
मुझको एक भरोसो तेरो,
आन सुधारो मैया कारज मेरो॥

पूजा जप तप नेम न जानू,
निर्मल महिमा नित्य बखानू।
भक्तन की आपत्ति हर लिनी,
पुत्र पौत्र सम्पत्ति वर दीनी॥

पढे चालीसा जो शतबारा,
होय सिद्ध मन माहि विचारा।
टिबरिया ली शरण तिहारी,
क्षमा करो सब चूक हमारी॥

॥ दोहा ॥
दुख आपद विपदा हरण, जन जीवन आधार।
बिगङी बात सुधारियो, सब अपराध बिसार॥

॥ मात श्री राणी सतीजी की जय ॥

Shri Rani Sati Dadi Ji in English

[b]॥ Doha ॥[/b] Sri Guru Pad Pankaj Naman, Dushit Bhav Sudhar, Ranisati Suvimal yash, Barnau M

ChalisaRani Sati Chalisa


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

श्री शिव चालीसा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान। कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

भगवान श्री विश्वकर्मा चालीसा

श्री विश्वकर्म प्रभु वन्दऊं, चरणकमल धरिध्यान।... जय श्री विश्वकर्म भगवाना। जय विश्वेश्वर कृपा निधाना॥

चालीसा: माँ सरस्वती जी।

जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि। बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि॥

श्री नवग्रह चालीसा

श्री गणपति गुरुपद कमल, प्रेम सहित सिरनाय। नवग्रह चालीसा कहत, शारद होत सहाय॥...

श्री गंगा चालीसा

जय जय जननी हराना अघखानी। आनंद करनी गंगा महारानी॥ जय भगीरथी सुरसरि माता।

गणपति श्री गणेश चालीसा

जय गणपति सदगुण सदन, कविवर बदन कृपाल। विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥

श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा

नमो नमो विन्ध्येश्वरी, नमो नमो जगदम्ब । जय जय जय विन्ध्याचल रानी। आदिशक्ति जगविदित भवानी..

माँ अन्नपूर्णा चालीसा

विश्वेश्वर पदपदम की रज निज शीश लगाय । नित्य आनंद करिणी माता, वर अरु अभय भाव प्रख्याता..

श्री राम चालीसा

श्री रघुबीर भक्त हितकारी । सुनि लीजै प्रभु अरज हमारी ॥ निशि दिन ध्यान धरै जो कोई । ता सम भक्त और नहिं होई ॥

माता श्री तुलसी चालीसा

जय जय तुलसी भगवती सत्यवती सुखदानी। नमो नमो हरि प्रेयसी श्री वृन्दा गुन खानी॥

🔝