Download Bhakti Bharat APP

इस्कॉन कोलंबस - ISKCON Columbus, USA

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • दुनिया भर में इस्कॉन के बड़े परिवार का मजबूत आध्यात्मिक नेटवर्क वाली पृष्ठभूमि।
  • शनिवार-रविवार सत्संग और हरिनम संकीर्तन।

इस्कॉन मंदिर कोलंबस, ओहियो, कोलंबस में कृष्ण भक्तों के लिए प्रमुख स्थानों में से एक है। यह एक ऐसा धार्मिक स्थल है जहाँ सभी का स्वागत किया जाता है। इस्कॉन मंदिर कोलंबस श्री कृष्ण से जुड़ा है, उनकी भक्ति में बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

इस्कॉन मंदिर आस्था और हिंदू संस्कृति का अनूठा संगम है। इस्कॉन को श्री कृष्ण की भक्ति को पूरी दुनिया में प्रचारित करने और फैलाने के लिए जाना जाता है। भगवान श्री कृष्ण के संदेश को पूरी दुनिया में फैलाने के लिए इस मंदिर की स्थापना की गई है। इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ कृष्णा कॉन्शियसनेस या इस्कॉन को हरे कृष्ण आंदोलन के रूप में भी जाना जाता है। इसकी शुरुआत भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद ने 1966 में न्यूयॉर्क शहर में की थी। देश-विदेश में इसके कई मंदिर और स्कूल हैं।

मंदिर परिसर:
यह एक खूबसूरत जगह है और इस्कॉन कोलंबस मंदिर का रास्ता भी अद्भुत है। मंदिर परिसर में कुछ सफेद और नीले रंग के मोर भी हैं। रविवार के भोज का कार्यक्रम बहुत अच्छा है और वे स्वादिष्ट प्रसादम भोजन परोसते हैं। इस्कॉन मंदिर कोलंबस सभी वैष्णव त्योहारों को बहुत अच्छी तरह से मनाता है और मंदिर का वातावरण बहुत दोस्ताना और स्वागत करने वाला है। बैठने और प्रार्थना करने के लिए एक आनंदमय स्थान है, और पढ़ने के लिए महान पुस्तकें हैं जैसे कि भगवद गीता।

यहां विश्वासियों को चार सरल नियमों का पालन करना होता है - धर्म के चार स्तंभ - तप, शौच, दया और सत्य।

प्रमुख त्यौहार:
जन्माष्टमी त्योहार, होली, रथ यात्रा यहां मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहार हैं ।

इस्कॉन कोलंबस मंदिर दर्शन समय:
सुबह 5:00 बजे से रात 9:00 बजे तक
सोमवार-शनिवार: दर्शन दोपहर 1:00 बजे से शाम 4.00 बजे तक बंद रहेंगे।

इस्कॉन से जुड़े लोग आज दुनियाभर में मौजूद हैं। इस्कॉन मंदिर लगभग हर बड़े शहर में पाए जाते हैं। दुनिया भर में इसके अनुयायी राम और कृष्ण के भजन और कीर्तन गाते हुए मिल जाएंगे। इस्कॉन मंदिर से जुड़े लोगों का सबसे बड़ा मंत्र है:

हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे,
हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे।

प्रचलित नाम: इस्कॉन मंदिर कोलंबस

समय - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 1:00 PM, 4:00 PM - 9:00 PM
5:00 AM: मंगला आरती
5:30 AM: तुलसी पूजा
7:15 AM: गुरु पूजा
7:30 AM: श्रृंगार दर्शन
12:00 PM: राज भोग आरती
4:00 PM: वैकालिका आरती
6:30 PM: गौर आरती
8:45 PM: शायना आरती
त्योहार
Nityanand Trayodasi, Gaura Purnima, Janmashtami, Diwali, Ram Navami, Chandan Yatra, Narasimha Chaturdashi, Jagannath Rathyatra, Jhulan Yatra, Balaram Jayanti, Radhashtami, Govardhan Puja, Gopashtami, Gita Jayanti, World Holy Name Festival, Guru Purnima, Akshaya Tritiya, Ekadashi, Laxmi Narayana Festival, Pushya Abhishek, Jala Krida, Nauka Vihar | यह भी जानें: मानबसा गुरुवार

ISKCON Columbus, USA in English

ISKCON Temple Columbus, Ohio is one of the major places for Krishna devotees in Columbus. This is such a great place where everyone is welcome.

जानकारियां - Information

धाम
Shri Radha KrishnaSri Ari Gaura NitaiShri Jagannath Dham
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Water, Shoe Store, Air Purifier, Washrooms, CCTV Security, Sitting Benches, Music System, Office, Parking, Gift Shop, Govindas Restaurant
धर्मार्थ सेवाएं
Krishna Catering
संस्थापक
इस्कॉन - इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शियसनेस
देख-रेख संस्था
इस्कॉन - इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शियसनेस
समर्पित
श्री राधा कृष्ण
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
379 West 8Th Avenue Columbus Ohio
हवा मार्ग ✈
John Glenn Columbus International Airport
नदी ⛵
Olentangy
वेबसाइट 📡
सोशल मीडिया
YouTube Channel Facebook
निर्देशांक 🌐
39.992207°N, -83.016931°E
इस्कॉन कोलंबस गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/iskcon-columbus

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री सूर्य देव - ऊँ जय सूर्य भगवान

ऊँ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान। जगत् के नेत्र स्वरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा।

हनुमान आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥..

अन्नपूर्णा आरती

बारम्बार प्रणाम, मैया बारम्बार प्रणाम । जो नहीं ध्यावे तुम्हें अम्बिके, कहां उसे विश्राम । अन्नपूर्णा देवी नाम तिहारो..

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App