Hanuman Chalisa
Download APP Now - Hanuman Chalisa - Ganesh Aarti Bhajan - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel -

जगन्नाथ मंदिर में प्रेम के पद - सत्य कथा (Jagannath Mandir Me Prem Ke Pad)


Add To Favorites Change Font Size
उड़ीसा में बैंगन बेचनेवाले की एक बालिका थी। दुनिया की दृष्टि से उसमें कोई अच्छाई नहीं थी। किन्तु दुनिया की दृष्टिसे नगण्य उस बालिका को संत जयदेव गोस्वामी जी का पद गीत गोविंदम बहुत ही भाता था। वह दिन-रात उसको गुनगुनाती रहती थी और भगवान के प्रेम में डूबती-उतराती रहती थी।
वह घर का सारा काम करती, पिता-माता की सेवा करती और दिनभर जयदेव जी का पद गुनगुनाया करती और भगवान की याद में मस्त रहती।

पूर्णिमा की रात थी, पिताजी ने प्यारी बच्ची को जगाया और आज्ञा दी कि बेटी ! अभी चाँदनी टिकी है, इस प्रकाश में बैंगन तोड़ लो जिससे प्रातः मैं बेच आऊँ। वह गुनगुनाती हुई सोयी थी और वही गुनगुनाती हुई जाग गयी। जागने के उपरांत इसी गुनगनाने के रस के साथ बैंगन तोड़ने निकल पड़ी। वह गुनगुनाती हुई बैंगन तोड़ने लगी, कभी इधर जाती, कभी उधर, क्योंकि चुन-चुनकर बैंगन तोड़ना था।

उस समय एक ओर तो उसके रोम-रोम से अनुराग झर रहा था और दूसरी ओर कण्ठ से गीतगोविन्द के सरस गीत प्रस्फुटित हो रहे थे। प्रेमरूप भगवान् इसके पीछे कभी इधर आते, कभी उधर जाते। इस चक्कर में उनका पीताम्बर बैंगन के काँटों में उलझकर चिथड़ा हो रहा था, किन्तु इसका ज्ञान न तो बाला को हो रहा था और न उसके पीछे-पीछे दौड़नेवाले प्रेमी भगवान को ही।

विश्व को इस रहस्य का पता तब चला जब सबेरे भगवान् जगन्नाथ जी के पट खुले और उस देश के राजा पट खुलते ही भगवान की झाँकी का दर्शन करने पहुँचे। उन्हें यह देखकर बहुत दुःख हुआ कि पुजारी ने नये पीताम्बर को भगवान को नहीं पहनाया, जिसे वे शाम को दे गये थे। वे समझ गये कि नया पीताम्बर पुजारी ने रख लिया है और पुराना पीताम्बर भगवान को पहना दिया है।

उन्होंने इस विषय में पुजारी से पूछा - बेचारा पुजारी इस दृश्य को देखकर अवाक था। उसने तो भगवान को राजा का दिया नया पीताम्बर ही पहनाया था, किन्तु राजा को पुजारी की नीयत पर संदेह हुआ और उन्होंने उसे जेल में डाल दिया।

निर्दोष पुजारी जेल में भगवान के नाम पर फूट-फूटकर रोने लगा।

इसी बीचमें राजा कुछ विश्राम करने लगा और उसे नींद आ गयी। स्वप्न में उसे भगवान जगन्नाथ जी के दर्शन हुए और भगवन ने उसे आदेश दिया कि पुजारी निर्दोष है, उसे सम्मान के साथ छोड़ दो। रह गयी बात नये पीताम्बरकी तो इस तथ्य को बैंगन के खेत में जाकर स्वयं देख लो, पीताम्बर के फटे अंश बैंगन के काँटों में उलझे मिलेंगे। मैं तो प्रेम के अधीन हूँ, अपने प्रेमीजनों के पीछे-पीछे चक्कर लगाया करता हूँ। बैंगन तोड़ने वाली बाला के अनुराग भरे गीतों को सुनने के लिये मैं उसके पीछे-पीछे दौड़ा हूँ और इसी में मेरा पीताम्बर काँटों में उलझकर फट गया।

जगन्नाथ मन्दिर की देख-रेख, भोग-आरती आदि सभी तरह व्यवस्था करने वाले राजा के जीवन में इस अद्भुत घटना ने रस भर दिया और भगवान के अनुराग में वे भी मस्त रहने लगे। बैंगन तोड़ने वाली एक बाला के पीछे-पीछे भगवान् उसके प्रेम में घूमते रहे।

यह कहानी फूस की आग की तरह फैल गयी। जगत के स्वार्थी लोगों की भीड़ उसके पास आने लगी। कोई पुत्र माँगता तो कोई धन।

जगन्नाथ जी को गीत गोविंद के पद क्यों सुनाइए जाते हैं?
इस तरह भगवान के प्रेम में बाधा पड़ते देख राजा ने जगन्नाथ मन्दिर में नित्य मंगला आरती के समय गीत गोविंद गाने के लिए उस बालिका को मंदिर में संरक्षण दिया और उसकी सुरक्षा की व्यवस्था राजमहल को ही सौंप दी। तब से ही नित्य मंगला आरती में गीत गोविंद के पद श्री जगन्नाथ मन्दिर में होना प्रारम्भ होगये।
यह भी जानें

Prerak-kahani Jagannath Prem Prerak-kahaniJagannath Prerak-kahaniGeet Govind Prerak-kahani

अगर आपको यह prerak-kahani पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस prerak-kahani को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

बुढ़िया माई को मुक्ति दी - तुलसी माता की कहानी

कार्तिक महीने में एक बुढ़िया माई तुलसीजी को सींचती और कहती कि: हे तुलसी माता! सत की दाता मैं तेरा बिडला सीचती हूँ..

भक्ति का प्रथम मार्ग है, सरलता - प्रेरक कहानी

प्रभु बोले भक्त की इच्छा है पूरी तो करनी पड़ेगी। चलो लग जाओ काम से। लक्ष्मण जी ने लकड़ी उठाई, माता सीता आटा सानने लगीं। आज एकादशी है...

एक दिन का पुण्य ही क्यूँ? - प्रेरक कहानी

तुम्हारे बाप के नौकर बैठे हैं क्या हम यहां, पहले पैसे, अब पानी, थोड़ी देर में रोटी मांगेगा, चल भाग यहाँ से।

गोस्वामी तुलसीदास द्वारा जगन्नाथ जी दर्शन - सत्य कथा

जगन्नाथ जी का दर्शन | जगन्नाथ जी ने आपके लिए प्रसाद भेजा है | मेरे मंदिर के चारों द्वारों पर हनुमान का पहरा है | वह स्थान तुलसी चौरा नाम से विख्यात हुआ..

जगन्नाथ जी का खिचड़ी भोग - सत्य कथा

कर्मा बाई जी, जगन्नाथ पुरी में रहती थी और भगवान को बचपन से ही पुत्र रूप में भजती थीं।

भक्ति में आडंबर नहीं चाहिए होता

न्यायाधीश ने राजा को बताया, कि एक आदमी अपराधी नहीं है,पर चुप रहकर एक तरह से अपराध की मौन स्वीकृति दे रहा है। इसे क्या दंड दिया जाना चाहिए?

जगन्नाथ मंदिर में प्रेम के पद - सत्य कथा

जगन्नाथ जी की सत्य कथा : उड़ीसा में बैंगन बेचनेवाले की एक बालिका थी। दुनिया की दृष्टि से उसमें कोई अच्छाई नहीं थी।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP