close this ads

श्री हनुमान साठिका


॥ चौपाइयां ॥
जय जय जय हनुमान अडंगी। महावीर विक्रम बजरंगी॥
जय कपीश जय पवन कुमारा। जय जगबन्दन सील अगारा॥
जय आदित्य अमर अबिकारी। अरि मरदन जय-जय गिरधारी॥
अंजनि उदर जन्म तुम लीन्हा। जय-जयकार देवतन कीन्हा॥

बाजे दुन्दुभि गगन गम्भीरा। सुर मन हर्ष असुर मन पीरा॥
कपि के डर गढ़ लंक सकानी। छूटे बंध देवतन जानी॥
ऋषि समूह निकट चलि आये। पवन तनय के पद सिर नाये॥
बार-बार अस्तुति करि नाना। निर्मल नाम धरा हनुमाना॥

सकल ऋषिन मिलि अस मत ठाना। दीन्ह बताय लाल फल खाना॥
सुनत बचन कपि मन हर्षाना। रवि रथ उदय लाल फल जाना॥
रथ समेत कपि कीन्ह अहारा। सूर्य बिना भए अति अंधियारा॥
विनय तुम्हार करै अकुलाना। तब कपीस की अस्तुति ठाना॥

सकल लोक वृतान्त सुनावा। चतुरानन तब रवि उगिलावा॥
कहा बहोरि सुनहु बलसीला। रामचन्द्र करिहैं बहु लीला॥
तब तुम उन्हकर करेहू सहाई। अबहिं बसहु कानन में जाई॥
असकहि विधि निजलोक सिधारा। मिले सखा संग पवन कुमारा॥

खेलैं खेल महा तरु तोरैं। ढेर करैं बहु पर्वत फोरैं॥
जेहि गिरि चरण देहि कपि धाई। गिरि समेत पातालहिं जाई॥
कपि सुग्रीव बालि की त्रासा। निरखति रहे राम मगु आसा॥
मिले राम तहं पवन कुमारा। अति आनन्द सप्रेम दुलारा॥

मनि मुंदरी रघुपति सों पाई। सीता खोज चले सिरु नाई॥
सतयोजन जलनिधि विस्तारा। अगम अपार देवतन हारा॥
जिमि सर गोखुर सरिस कपीसा। लांघि गये कपि कहि जगदीशा॥
सीता चरण सीस तिन्ह नाये। अजर अमर के आसिस पाये॥

रहे दनुज उपवन रखवारी। एक से एक महाभट भारी॥
तिन्हैं मारि पुनि कहेउ कपीसा। दहेउ लंक कोप्यो भुज बीसा॥
सिया बोध दै पुनि फिर आये। रामचन्द्र के पद सिर नाये।
मेरु उपारि आप छिन माहीं। बांधे सेतु निमिष इक मांहीं॥

लछमन शक्ति लागी उर जबहीं। राम बुलाय कहा पुनि तबहीं॥
भवन समेत सुषेन लै आये। तुरत सजीवन को पुनि धाये॥
मग महं कालनेमि कहं मारा। अमित सुभट निसिचर संहारा॥
आनि संजीवन गिरि समेता। धरि दीन्हों जहं कृपा निकेता॥

फनपति केर सोक हरि लीन्हा। वर्षि सुमन सुर जय जय कीन्हा॥
अहिरावण हरि अनुज समेता। लै गयो तहां पाताल निकेता॥
जहां रहे देवि अस्थाना। दीन चहै बलि काढ़ि कृपाना॥
पवनतनय प्रभु कीन गुहारी। कटक समेत निसाचर मारी॥

रीछ कीसपति सबै बहोरी। राम लषन कीने यक ठोरी॥
सब देवतन की बन्दि छुड़ाये। सो कीरति मुनि नारद गाये॥
अछयकुमार दनुज बलवाना। कालकेतु कहं सब जग जाना॥
कुम्भकरण रावण का भाई। ताहि निपात कीन्ह कपिराई॥

मेघनाद पर शक्ति मारा। पवन तनय तब सो बरियारा॥
रहा तनय नारान्तक जाना। पल में हते ताहि हनुमाना॥
जहं लगि भान दनुज कर पावा। पवन तनय सब मारि नसावा।
जय मारुत सुत जय अनुकूला। नाम कृसानु सोक सम तूला॥

जहं जीवन के संकट होई। रवि तम सम सो संकट खोई॥
बन्दि परै सुमिरै हनुमाना। संकट कटै धरै जो ध्याना॥
जाको बांध बामपद दीन्हा। मारुत सुत व्याकुल बहु कीन्हा॥
सो भुजबल का कीन कृपाला। अच्छत तुम्हें मोर यह हाला॥

आरत हरन नाम हनुमाना। सादर सुरपति कीन बखाना॥
संकट रहै न एक रती को। ध्यान धरै हनुमान जती को॥
धावहु देखि दीनता मोरी। कहौं पवनसुत जुगकर जोरी॥
कपिपति बेगि अनुग्रह करहु। आतुर आइ दुसइ दुख हरहु॥

राम सपथ मैं तुमहिं सुनाया। जवन गुहार लाग सिय जाया॥
यश तुम्हार सकल जग जाना। भव बन्धन भंजन हनुमाना॥
यह बन्धन कर केतिक बाता। नाम तुम्हार जगत सुखदाता॥
करौ कृपा जय जय जग स्वामी। बार अनेक नमामि नमामी॥

भौमवार कर होम विधाना। धूप दीप नैवेद्य सुजाना॥
मंगल दायक को लौ लावे। सुन नर मुनि वांछित फल पावे॥
जयति जयति जय जय जग स्वामी। समरथ पुरुष सुअन्तरजामी॥
अंजनि तनय नाम हनुमाना। सो तुलसी के प्राण समाना॥

॥ दोहा ॥
जय कपीस सुग्रीव तुम, जय अंगद हनुमान॥
राम लषन सीता सहित, सदा करो कल्याण॥
बन्दौं हनुमत नाम यह, भौमवार परमान॥
ध्यान धरै नर निश्चय, पावै पद कल्याण॥
जो नित पढ़ै यह साठिका, तुलसी कहैं बिचारि।
रहै न संकट ताहि को, साक्षी हैं त्रिपुरारि॥

॥ सवैया ॥
आरत बन पुकारत हौं कपिनाथ सुनो विनती मम भारी ।
अंगद औ नल-नील महाबलि देव सदा बल की बलिहारी ॥
जाम्बवन्त् सुग्रीव पवन-सुत दिबिद मयंद महा भटभारी ।
दुःख दोष हरो तुलसी जन-को श्री द्वादश बीरन की बलिहारी ॥

Read Also:
» हनुमान जयंती - Hanuman Jayanti
» दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मंदिर!
» श्री हनुमान जी की आरती | संकट मोचन हनुमानाष्टक | श्री हनुमान चालीसा | श्री बजरंग बाण पाठ | श्री बालाजी की आरती | श्री हनुमान बाहुक
» श्री हनुमान गाथा | भजन: राम ना मिलेगे हनुमान के बिना | भजन: बजरंगबली मेरी नाव चली

ये भी जानें

VandanaShri Hanuman VandanaBajrangbali Vandana


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री हनुमान बाहुक

असहनीय कष्टों से हताश होकर अन्त में उसकी निवृत्ति के लिये गोस्वामी तुलसीदास जी ने हनुमानजी की वन्दना आरम्भ की जो कि ४४ पद्यों के हनुमानबाहुक प्रसिद्ध स्तोत्र लिखा।

श्री हनुमान साठिका

जय जय जय हनुमान अडंगी। महावीर विक्रम बजरंगी॥ जय कपीश जय पवन कुमारा। जय जगबन्दन सील अगारा॥

श्री बजरंग बाण पाठ।

निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान। तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥

संकट मोचन हनुमानाष्टक

लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर। वज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर ॥

जय राम रमा रमनं समनं।

जय राम राम रमनं समनं। भव ताप भयाकुल पाहि जनम॥ अवधेस सुरेस रमेस बिभो।...

श्री राम स्तुति: नमामि भक्त वत्सलं

नमामि भक्त वत्सलं । कृपालु शील कोमलं ॥ भजामि ते पदांबुजं...

श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन!

श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं। नव कंज लोचन कंज मुख...

प्रार्थना: हे जग त्राता विश्व विधाता!

हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे। प्रेम के सिन्धु, दीन के बन्धु, दु:ख दारिद्र विनाशन हे।...

प्रार्थना: वह शक्ति हमें दो दया निधे!

उत्तर प्रदेश के साथ अधिकतर उत्तर भारत के सरकारी स्कूल में 1961 से ही गाई जाने वाली सबसे प्रसिद्ध प्रार्थना। वह शक्ति हमें दो दया निधे...

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे!

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे, त्वया हिन्दुभूमे सुखं वर्धितोऽहम्।...

^
top