सीता नवमी | वट सावित्री व्रत | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

भजन: आ लौट के आजा हनुमान...


श्री हनुमान जन्मोत्सव, मंगलवार व्रत, शनिवार पूजा, बूढ़े मंगलवार, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।

आ लौट के आजा हनुमान,
तुम्हे श्री राम बुलाते हैं ।
जानकी के बसे तुममे प्राण,
तुम्हे श्री राम बुलाते हैं ॥

लंका जला के,
सब को हरा के,
तुम्ही खबर सिया की लाये ।
पर्वत उठा के, संजीवन ला के,
तुमने लखन जी बचाए ।
हे बजरंगी बलवान,
तुम्हे हम याद दिलाते हैं ॥
॥आ लौट के आजा हनुमान...॥

पहले था रावण एक ही धरा पे,
जिसको प्रभु ने संघारा ।
तुमने सवारे थे काज सारे,
प्रभु को दिया था सहारा ।
जग में हे वीर सुजान,
भी तेरे गुण गाते हैं॥
॥आ लौट के आजा हनुमान...॥

है धरम संकट में धर्म फिर से,
अब खेल कलयुग ने खेले ।
हैं लाखों रावण अब तो यहाँ पे,
कब तक लड़े प्रभु अकेले ।
जरा देख लगा के ध्यान,
तुम्हे श्री राम बुलाते हैं ॥
॥आ लौट के आजा हनुमान...॥

है राम जी बिन तेरे अधूरे,
अनजानी माँ के प्यारे ।
भक्तो के सपने करने को पूरे,
आजा पवन के दुलारे ।
करने जग का कल्याण,
तुम्हे श्री राम बुलाते हैं ॥
॥आ लौट के आजा हनुमान...॥

आ लौट के आजा हनुमान,
तुम्हे श्री राम बुलाते हैं ।
जानकी के बसे तुममे प्राण,
तुम्हे श्री राम बुलाते हैं ॥

ये भी जानें

BhajanShri Hanuman BhajanBajrangbali BhajanHanuman Jayanti BhajanMangalwar BhajanTuesday Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन!

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार। पवनसुत विनती बारम्बार॥ अष्ट सिद्धि, नव निद्दी के दाता...

भजन: सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये!

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये।...

कृपा मिलेगी श्री राम जी की..

किरपा मिलेगी श्री राम जी की, भक्ति करो, भक्ति करो, दया मिलिगी हनुमान जी की, राम जपो, राम जपो...

भजन: आ लौट के आजा हनुमान...

आ लौट के आजा हनुमान, तुम्हे श्री राम बुलाते हैं। जानकी के बसे तुममे प्राण, तुम्हे श्री राम बुलाते हैं॥

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार!

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार। हाथों में फूलों का दौना भी सोहे, सुंदर गले में सोहे हार, कुमार मैने देखे...

थारी जय जो पवन कुमार!

लाल लंगोटो हाथ मे सोटो, थारी जय जो पवन कुमार, मैं वारि जाऊँ बालाजी...

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं!

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं हनुमान तुम्हारा क्या कहना। तेरी शक्ति का क्या कहना...

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना!

छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना, कहते लोग इसे राम का दिवाना...

close this ads
^
top