कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा। (Kahna Ve Assan Tera Janmdin Manavna)


रीझा भरी घडी यह आई,
घर घर होई रोशनाई
मात यशोदा लल्ला जाया,
सुनंदा ने थाल वजायी

कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा
मोहना वे असां तेरा जन्मदिन मानवना
असां नाचना ते तैनू नचावना,
असां नाचना ते तैनू नचावना
॥कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन...॥

वांग भोले दे अलख जगाई ए
मात यशोदा तो बक्शीश पायी ए
नाले तेरा है दर्शन पावना,
नाले तेरा है दर्शन पावना
मोहना वे असां तेरा जन्मदिन मानवना
॥कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन...॥

विच ख़ुशी दे होए मस्ताने
प्रेम तेरे दे बने परवाने
साडा प्यार कदे ना भुलावना,
साडा प्यार कदे ना भुलावना
मोहना वे असां तेरा जन्मदिन मानवना
॥कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन...॥

वजदे ढोल ते वज्जे शहनाई
कमल कपिल पूरी आये दोनों भाई
एहना तेरा ही नाम जपावना,
एहना तेरा ही नाम जपावना
मोहना वे असां तेरा जन्मदिन मानवना
॥कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन...॥

कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा
मोहना वे असां तेरा जन्मदिन मानवना
असां नाचना ते तैनू नचावना,
असां नाचना ते तैनू नचावना

Read Also
» दिल्ली मे कहाँ मनाएँ श्री कृष्ण जन्माष्टमी। | भोग प्रसाद
» श्री कृष्ण जन्माष्टमी - Shri Krishna Janmashtami
» दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर। | जानें दिल्ली मे ISKCON मंदिर कहाँ-कहाँ हैं? | दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर।
» ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर! | भारत के चार धाम
» आरती: श्री बाल कृष्ण जी | भोग आरती: श्रीकृष्ण जी | बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी!

Kahna Ve Assan Tera Janmdin Manavna in English

Kanha Ve Assan Tera Janmdin Manavna, Mohana Ve Assan Tera Janmdin Manavna

BhajanShri Krishna BhajanBirthday BhajanJanmdin Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये।...

भजन: घर आये राम लखन और सीता

घर आये राम लखन और सीता, अयोध्या सुन्दर सज गई रे, सुन्दर सज गई रे अयोध्या...

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार - भजन

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में, है जीत तुम्हारे हाथों में...

भजन: आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया...

आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया, चारों दुलहा में बड़का कमाल सखिया!

भजन: ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं!

ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं। यही सद् ग्रंथ कहते हैं, यही हरि भक्त गाते हैं...

भजन: रघुपति राघव राजाराम

रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम ॥ सुंदर विग्रह मेघश्याम, गंगा तुलसी शालग्राम...

भजन: बिनती सुनिए नाथ हमारी..

बिनती सुनिए नाथ हमारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, मोर मुकुट पीतांबर धारी..

🔝