close this ads

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे!


कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना।
जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना॥

ना छत्र बना सका सोने का, ना चुनरी घर मेरे टारों जड़ी।
ना पेडे बर्फी मेवा है माँ, बस श्रद्धा है नैन बिछाए खड़े॥
इस श्रद्धा की रख लो लाज हे माँ, इस विनती को ना ठुकरा जाना।
जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना॥

जिस घर के दिए मे तेल नहीं, वहां जोत जगाओं कैसे।
मेरा खुद ही बिशोना डरती माँ, तेरी चोंकी लगाऊं मै कैसे॥
जहाँ मै बैठा वही बैठ के माँ, बच्चों का दिल बहला जाना।
जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना॥

तू भाग्य बनाने वाली है, माँ मै तकदीर का मारा हूँ।
हे दाती संभाल भिकारी को, आखिर तेरी आँख का तारा हूँ॥
मै दोषी तू निर्दोष है माँ, मेरे दोषों को तूं भुला जाना।
जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना॥

ये भी जानें

BhajanMata BhajanMaa Durga Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद!

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। थे जनक पुर गये देखने के लिए...

राम सीता और लखन वन जा रहे!

श्री राम भजन वीडियो: राम सीता और लखन वन जा रहे, हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया..

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया, सबको बहुत बधाई है, बहुत बधाई है...

राम को देख कर के जनक नंदिनी

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग...

भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके!

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना...

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी..

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी। हरि नाम मिश्री, तू घोल-घोल पी ॥

घर आये राम लखन और सीता..

घर आये राम लखन और सीता, अयोध्या सुन्दर सज गई रे, सुन्दर सज गई रे अयोध्या...

बोलो राम! मन में राम बसा ले।

बोलो राम जय जय राम, जन्म सफल होगा बन्दे, मन में राम बसा ले...

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में!

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में, देख लो मेरे मन के नागिनें में।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम। भजमन प्यारे, जय सिया राम।

^
top