पूजन गौरी चली सिया प्यारी: भजन (Poojan Gauri Chali Siya Pyari)


पूजन गौरी चली सिया प्यारी: भजन

सीता विवाह के समय माता सीता के द्वारा गया गौरी पूजा भजन गीत, जोकि माता पार्वती को समर्पित है।

पूजन गौरी चली सिया प्यारी
पूजन गौरी चली सिया प्यारी
पूजन गौरी चली सिया प्यारी
संग सखिन के जनक नंदिनी
संग सखिन के जनक नंदिनी
चली मुदित मनहारी
पूजन गौरी चली सिया प्यारी
पूजन गोरी चली सिया प्यार

कंचन जडित थाल शुभरन के
कंचन जडित थाल शुभरन के
दधि लोचन फल सुपारी
पूजन गौरी चली सिया प्यारी
पूजन गोरी चली सिया प्यारी

गावत मंगल गीत मनोहर
गावत मंगल गीत मनोहर
गावत मंगल गीत मनोहर
गावत मंगल गीत मनोहर
पहने कुसुम रंग साड़ी
पूजन गौरी चली सिया प्यारी
पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजा किन्ही अधिक अनुरागी
पूजा किन्ही अधिक अनुरागी
निज अनुरूप सुभग वर मांगी
निज अनुरूप सुभग वर मांगी
पूजन गौरी चली सिया प्यारी
पूजन गौरी चली सिया प्यारी

Poojan Gauri Chali Siya Pyari in English

Poojan Gauri Chali Siya Pyari, Sang Sakhin Ke Janak Nandini, Chali Mudit Manhari
यह भी जानें

Bhajan Shri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navmi BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanVijayadashami BhajanMata Sita BhajanRam Sita Vivah BhajanGauri Pujan BhajanVivah BhajanShadi BhajanSwasti Pandey BhajanBhojpuri BhajanUSA BhajanAmerican Bhajan

अन्य प्रसिद्ध पूजन गौरी चली सिया प्यारी: भजन वीडियो

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

दे दो अपनी पुजारन को वरदान माँ: भजन

दे दो अपनी पुजारन को वरदान माँ, मैया जब तक जियु मैं सुहागन जियु,..

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया: भजन

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया । उनके घर में आनंद ही आनंद हो गया..

घर में पधारो गजानन जी: भजन

घर में पधारो गजाननजी, मेरे घर में पधारो, ग्रह प्रवेश के समय गाए जाने वाला पॉपुलर श्री गणेश भजन...

बाबा का दरबार सुहाना लगता है: भजन

बाबा का दरबार सुहाना लगता है, भक्तों का तो दिल दीवाना लगता है ॥...

अवध में छाई खुशी की बेला: भजन

​अवध में छाई खुशी की बेला, लगा है, अवध पुरी में मेला । चौदह साल वन में बिताएं..

राधा के मन में, बस गए श्याम बिहारी: भजन

श्याम रंग में रंग गई राधा, भूली सुध-बुध सारी रे, राधा के मन में...

बंसी बजा के मेरी निंदिया चुराई: भजन

बंसी बजा के मेरी निंदिया चुराई, लाडला कन्हैया मेरा कृष्ण कन्हाई, कुञ्ज गली में ढूंढें तुम्हे राधा प्यारी..

मंदिर

Download BhaktiBharat App Go To Top