श्यामा आन बसों वृन्दावन में: भजन (Shyama Aan Baso Vrindavan Me)


श्यामा आन बसों वृन्दावन में: भजन

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा रसते में बाग लगा जाना,
फुल बीनुगी तेरी माला के लिए ।
तेरी बाट निहारूं कुंजन में,
मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा रसते में कुआँ खुदवा जाना,
मैं तो नीर भरुंगी तेरे लिए ।
मैं तुझे नहालाउंगी मल-मल के,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा मुरली मधुर सुना जाना,
मोहे आके दरश दिखा जाना ।
तेरी सूरत बसी है अंखियन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा वृन्दावन में आ जाना,
आकर के रास रचा जाना ।
सूनी गोकुल की गलियन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा माखन चुराने आ जाना,
आकर के दही बिखरा जाना ।
बस आप रहो मेरे मन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ।

Shyama Aan Baso Vrindavan Me in English

Shyama Aan Bason Vrindavan Mein, Meri Umar Beet Gayi Gokul Mein ।Shyama Raste Mein Baag Laga Jaana..
यह भी जानें

Bhajan Shri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanLaddu Gopal BhajanRadhashtami BhajanPhalguna BhajanIskcon BhajanShri Shyam BhajanTripti Shakya Bhajan

अन्य प्रसिद्ध श्यामा आन बसों वृन्दावन में: भजन वीडियो

श्यामा आन बसों वृन्दावन में - दिव्या चतुर्वेदी, शिवा चतुर्वेदी

Upasana Mehta

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े - भजन

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े, हनुमान उड़े उड़ते ही गये, सब देख रहे है..

झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे: भजन

ऐ भई रे भई रे, ढोलीड़ा तने विनवु रे, म्हारी माता सारू, ढोल वगाडजो रे, झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे ॥

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा: भजन

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा, तेरा जी मैया, ऊँचे पहाड़ो पर डेरा डेरा जी, तेरा मंदर सुनहरी शेरावालिये ॥

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना: भजन

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना, बात हर एक के बस की नहीं है, खेलना पड़ता है जिंदगी से, भक्ति इतनी भी सस्ती नहीं है ॥

नन्द बाबा के अंगना देखो बज रही आज बधाई: भजन

नन्द बाबा के अंगना देखो, बज रही आज बधाई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई ॥

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel