तेरे चरण कमल में श्याम: भजन (Tere Charan Kamal Mein Shyam)


तेरे चरण कमल में श्याम: भजन

तेरे चरण कमल में श्याम,
लिपट जाऊ राज बनके ।
लिपट जाऊ राज बनके,
लिपट जाऊ राज बनके ।
तेरे चरण कमल में श्याम,
लिपट जाऊ राज बनके ॥

नित नित तेरा दर्शन पाऊ,
हर्ष हर्ष के हरी गुण गाऊ ,
मेरी नस नस बस जाऊ श्याम ,
बरस जाओ रस बनके,

तेरे चरण कमल में श्याम,
लिपट जाऊ राज बनके ।
लिपट जाऊ राज बनके,
लिपट जाऊ राज बनके ।
तेरे चरण कमल में श्याम,
लिपट जाऊ राज बनके ॥

छिन छिन* तेरा सुमरण हॉवे,
हर पल तुज्पे अरपन हॉवे,
हरी सब दिन आठो याम,
रुके मन के मनके,

तेरे चरण कमल में श्याम,
लिपट जाऊ राज बनके ।
लिपट जाऊ राज बनके,
लिपट जाऊ राज बनके ।
तेरे चरण कमल में श्याम,
लिपट जाऊ राज बनके ॥

*छिन = छण

Tere Charan Kamal Mein Shyam in English

Tere Charan Kamal Mein Shyam, Lipat Jau Raaj Banke ।

Bhajan Shri Krishna BhajanBrij BhajanJanmashtami BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanLaddu Gopal BhajanRadhashtami BhajanShri Radha Krishna BhajanFagan Mela BhajanShri Shayam BhajanMridul Shastri Bhajan

अन्य प्रसिद्ध तेरे चरण कमल में श्याम: भजन वीडियो

Brijesh Goswami ji

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय जय सुरनायक जन सुखदायक: भजन

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण । राम भजो, राम रटो..

जिनके हृदय श्री राम बसे: भजन

जिनके हृदय श्री राम बसे, उन और को नाम लियो ना लियो । जिनके हृदय श्री राम बसे..

भजन: इतनी शक्ति हमें देना दाता

इतनी शक्ति हमें देना दाता, मनका विश्वास कमजोर हो ना..

भजन: मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे, राम आएँगे, राम आएँगे आएँगे..

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी।

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी । कलियुग का तो जीव उद्धार्या, मस्तक धरिया हाथ जी..

भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया, ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है...

🔝