भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

अनरसे बनाने की विधि


बनाने की विधि:
सबसे पहले चावलों को अच्छी तरह धो लेते हैं। इसके बाद चावलों को साफ पानी में डालकर तीन दिन तक भीगने देते हैं। पर इन चावलों का पानी रोजाना बदलते रहते हैं। तीन दिन के बाद भींगे चावलों को पानी से निकाल लेते हैं, और १० से १५ मिनट एक सूती कपड़े पर फैला कर फरहरे** कर लेते हैं। फरहरे किए गए चावलों को मिक्सी में डाल कर महीन होने तक पीस लेते है। और बारीक छलनी से छान लेते हैं।

अब एक अन्य फैले बर्तन अर्थात परात में छने हुए चावल के आटे व बूरे को एक दूसरे के ऊपर परत बनाते हुए डालते हैं, और हाथ से दबाते जाते हैं। अब इस मिश्रण को एक से दो घण्टे के लिए अच्छी तरह ढक कर रख देते हैं जब एक दो घण्टे के बाद यह मिश्रण सख्त गुथे आटे के जैसा हो जाए तब इस मिश्रण को हाथों की सहायता से उलट पलट कर फिर से एक घंटे के लिए ढक कर रख देते हैं। एक घंटे के बाद यह मिश्रण नरम गूँथे आटे के जैसा हो जाता है। फिर इस मिश्रण को लगभग दस मिनट तक हाथ से थपकी देते हुए अच्छे से गूंथ लेते हैं। जिसे सामान्य भाषा साटा कहते हैं और आटे को गूँथने की प्रकिया को साटा पीटना कहते हैं।

एक कढ़ाई में घी डालकर मध्यम आंच पर गरम करते हैं। और हाथों को घी से चिकना कर गुथे हुए मिश्रण / साटे मे से एक बड़ी सुपारी के बराबर की लोई बना लेते हैं। अब इस लोई को दोनों हाथों की उंगलियों के बीच में हल्के से दबाते हुए एक इंच के व्यास वाले वृत्त का आकार देते हैं, और इसको गरम घी में डाल देते हैं। अनरसा घी मे डालते ही आंच को धीमा कर लेते हैं। जब अनरसा घी के ऊपर तैरने लगे, तब कलछी की सहायता से प्लेट में निकाल लेते हैं। इस प्रकार समस्त मिश्रण के अनरसे बना कर तैयार कर लेते हैं।

आवश्यक सामग्री:
५०० ग्राम छोटे चावल
२५० ग्राम बूरा
७५० ग्राम तलने के लिए घी

** ध्यान रहे चावलों को एकदम सुखाना नहीं है।

* अनरसे को एक तरफ ही सेका / तला जाता है। इसे पलट कर नहीं तलते हैं।

* अनरसे को तलने के लिए घी न ज्यादा गरम हो और न ज्यादा ठंडा।

* अनरसे बनाने के लिए आटा/साटा एकदम सही है, देखने के लिए आटे में से एक लोई के बराबर आटा लेकर हाथों के बीच में रख कर दबाते हैं। अगर उस दबाई गई लोई के किनारे चिकने हैं तो समझिए की साटा अनारसे बनाने के लिए एक दम तैयार है, अन्यथा साटे को और गूंथने के जरूरत है।

ये भी जानें

Bhog-prasadAnarse Bhog-prasadHoli Bhog-prasad


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

मूंग दाल के मगौड़े बनाने की विधि

...डार्क ब्राउन हो जाने के बाद उन्हें एक प्लेट में निकाल लेते हैं इसी प्रकार मिश्रण से सारे मगौड़े बना लेते हैं।

तिल-गुड़ के लड्डू बनाने की विधि

...जब मिश्रण हल्का गरम हो तभी लड्डू बना लें ठंडा होने पर लड्डू नहीं बन पाएँगे।

साबूदाना खिचड़ी बनाने की विधि

साबूदाना को एक बर्तन में साफ पानी में डाल कर निकाल लेते है धुले हुए साबूदानों को आधा कप पानी डाल कर ५ से६ घंटे के लिए भिगोने रख देते हैं...

बाजरा की मङियाँ बनाने की विधि

...गूथे हुए आटे की टिक्की बना कर तैयार कर लेते हैं। इस प्रकार एक बार में तीन से चार टिक्की एक कढ़ाई में तली जा सकती हैं।

अनरसे बनाने की विधि

...अनरसे को तलने के लिए घी न ज्यादा गरम हो और न ज्यादा ठंडा।

रस खीर बनाने की विधि

...भारत के कुछ जगहों पर, रस खीर को दूध के साथ मिलाकर भी बनाया जाता है।

मीठे पुआ बनाने की विधि

जब घी अच्छी तरह गरम हो जाए* तब हाथ से पांच छह पुआ गरम घी में डाल देते हैं...

मीठे गुना बनाने की विधि

...पर इस बात का ध्यान अवश्य रखें की, गुना एक-एक करके ही कढ़ाई में तलें/सेके।

खोया-तिल के लड्डू बनाने की विधि

...तिल से चिट-चिट की आवाज आना बंद होज़ाये तो समझिए सारे तिल भुन गये हैं।

गुड़ की खीर बनाने की विधि

...इस प्रकार छ्ट पूजा में भोग के लिए गुड़ की खीर बन कर तैयार हो जाती है।

close this ads
^
top