पितृ पक्ष | शारदीय नवरात्रि | शरद पूर्णिमा | आज का भजन!

अनरसे बनाने की विधि (Anarse Recipe)


बनाने की विधि:
सबसे पहले चावलों को अच्छी तरह धो लेते हैं। इसके बाद चावलों को साफ पानी में डालकर तीन दिन तक भीगने देते हैं। पर इन चावलों का पानी रोजाना बदलते रहते हैं। तीन दिन के बाद भींगे चावलों को पानी से निकाल लेते हैं, और १० से १५ मिनट एक सूती कपड़े पर फैला कर फरहरे** कर लेते हैं। फरहरे किए गए चावलों को मिक्सी में डाल कर महीन होने तक पीस लेते है। और बारीक छलनी से छान लेते हैं।

अब एक अन्य फैले बर्तन अर्थात परात में छने हुए चावल के आटे व बूरे को एक दूसरे के ऊपर परत बनाते हुए डालते हैं, और हाथ से दबाते जाते हैं। अब इस मिश्रण को एक से दो घण्टे के लिए अच्छी तरह ढक कर रख देते हैं जब एक दो घण्टे के बाद यह मिश्रण सख्त गुथे आटे के जैसा हो जाए तब इस मिश्रण को हाथों की सहायता से उलट पलट कर फिर से एक घंटे के लिए ढक कर रख देते हैं। एक घंटे के बाद यह मिश्रण नरम गूँथे आटे के जैसा हो जाता है। फिर इस मिश्रण को लगभग दस मिनट तक हाथ से थपकी देते हुए अच्छे से गूंथ लेते हैं। जिसे सामान्य भाषा साटा कहते हैं और आटे को गूँथने की प्रकिया को साटा पीटना कहते हैं।

एक कढ़ाई में घी डालकर मध्यम आंच पर गरम करते हैं। और हाथों को घी से चिकना कर गुथे हुए मिश्रण / साटे मे से एक बड़ी सुपारी के बराबर की लोई बना लेते हैं। अब इस लोई को दोनों हाथों की उंगलियों के बीच में हल्के से दबाते हुए एक इंच के व्यास वाले वृत्त का आकार देते हैं, और इसको गरम घी में डाल देते हैं। अनरसा घी मे डालते ही आंच को धीमा कर लेते हैं। जब अनरसा घी के ऊपर तैरने लगे, तब कलछी की सहायता से प्लेट में निकाल लेते हैं। इस प्रकार समस्त मिश्रण के अनरसे बना कर तैयार कर लेते हैं।

आवश्यक सामग्री:
५०० ग्राम छोटे चावल
२५० ग्राम बूरा
७५० ग्राम तलने के लिए घी

** ध्यान रहे चावलों को एकदम सुखाना नहीं है।

* अनरसे को एक तरफ ही सेका / तला जाता है। इसे पलट कर नहीं तलते हैं।

* अनरसे को तलने के लिए घी न ज्यादा गरम हो और न ज्यादा ठंडा।

* अनरसे बनाने के लिए आटा/साटा एकदम सही है, देखने के लिए आटे में से एक लोई के बराबर आटा लेकर हाथों के बीच में रख कर दबाते हैं। अगर उस दबाई गई लोई के किनारे चिकने हैं तो समझिए की साटा अनारसे बनाने के लिए एक दम तैयार है, अन्यथा साटे को और गूंथने के जरूरत है।

Anarse Recipe - Available in English

...to fry the anarse, ghee should be not too hot or too cold.
यह भी जानें

Bhog-prasadAnarse Bhog-prasadHoli Bhog-prasad


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

पारंपरिक मोदक बनाने की विधि!

इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं पारंपरिक तरीके से मोदक बनाने की सरल विधि...

बेसन के लड्‍डू बनाने की विधि

बेसन के लड्‍डू गजानन श्री गणेश को अति प्रिय हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान खूब होता है, आइए जानते हैं इन्हें बनाने की सरल विधि...

केसर मोदक बनाने की विधि

मोदक श्री गणेश के सबसे प्रिय मिष्ठान हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं केसर मोदक बनाने की सरल विधि...

मावा के मोदक बनाने की विधि

मोदक श्री गणेश के सबसे प्रिय मिष्ठान हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं इन्हें बनाने की सरल विधि...

जन्माष्टमी मेवा पाग बनाने की विधि

जन्माष्टमी के बाद प्रसाद के रूप में प्रयोग होने वाले मेवा पाग को बनाने की सरल विधि..

पंचामृत बनाने की विधि

हिंदू समाज में पूजा के बाद पंचामृत प्रसाद के रूप में दिया जाता है। आइये जानते हैं! पंचामृत बनाने की सरल विधि..

बालभोग बनाने की सरल विधि

जन्माष्टमी, कथा आदि के बाद प्रसाद के रूप में प्रयोग होने वाले बालभोग को बनाने की सरल विधि..

मथुरा के पेड़े बनाने की विधि

आइए जानें मथुरा के प्रसिद्ध पेड़ों को घर मे बनाने की विधि...

समा के चावल की खीर बनाने की विधि

अधिकतम व्रत जिसमें अन्न ग्रहण करना वर्जित होता है, उस व्रत में समा के चावल की खीर का उपयोग किया जाता है। आइए जानें इसे बनाने की विधि...

मखाने की खीर बनाने की विधि

व्रत, कथा, भोज, रक्षाबंधन तथा जन्माष्टमी में प्रयोग आने वाली प्रमुख मिष्ठान, मखाने की खीर बनाने की सरल रेसिपी...

top