राम नवमी का महत्व क्या है? (What is the Significance of Ram Navami?)

राम नवमी का महत्व क्या है?

राम का अर्थ है स्वयं का प्रकाश; अपने भीतर प्रकाश। "रवि" शब्द "राम" शब्द का पर्याय है। रवि शब्द में, 'आर' का अर्थ है प्रकाश और "वी" का अर्थ है विशेष। इसका अर्थ है हमारे भीतर अनन्त प्रकाश। राम हमारे हृदय का प्रकाश हैं। इस प्रकार राम हमारी आत्मा का प्रकाश हैं।

रामनवमी के पीछे का ज्ञान:
राम नवमी को भगवान राम के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। खुशी और उल्लास के इस त्योहार को मनाने का उद्देश्य हमारे भीतर "ज्ञान के प्रकाश का उदय" है। भगवान राम का जन्म राजा दशरथ और रानी कौशल्या से हुआ था। राम नवमी का त्यौहार चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार, भगवान राम का जन्म इसी दिन हुआ था और वे जुगों से मर्यादा पुरुषोत्तम के प्रतीक के रूप में माने जाते हैं। हिंदू शास्त्रों के अनुसार, भगवान विष्णु ने त्रेतायुग में रावण के अत्याचारों को समाप्त करने और धर्म की पुनः स्थापना के लिए दुनिया में श्री राम के रूप में अवतार लिया।

भगवान राम उनका अपना प्रकाश है, लक्ष्मण (भगवान राम के छोटे भाई) का अर्थ है सतर्कता, शत्रुघ्न का अर्थ है जिसका कोई दुश्मन नहीं है या जिसका कोई विरोधी नहीं है। भरत का अर्थ है योग्य। अयोध्या (जहाँ राम का जन्म हुआ है) का अर्थ है एक ऐसी जगह जिसे नष्ट नहीं किया जा सकता।

रामनवमी शुभ समय:
21 अप्रैल, 2021 बुधवार को राम नवमी
राम नवमी मधु-मुहूर्त - 11:02 से 13:38 तक

इस दिन का महत्व इतना है कि लोग नवमी के दिन नए घर, दुकान या प्रतिष्ठान में पूजा अर्चना करके प्रवेश करते हैं। इस दिन मां दुर्गा के 9 वें रूप सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है।

राम नवमी कब, कैसे और क्यों?
राम नवमी
चैत्र नवरात्रि

राम नवमी मंत्र:
श्री राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे
श्री राम रक्षा स्तोत्रम्
श्री राम नाम तारक
नाम रामायणम
दैनिक हवन-यज्ञ विधि

नामावली:
मंत्र: श्री विष्णुसहस्रनाम पाठ

चालीसा:
श्री राम चालीसा

श्री राम की आरतियाँ:
रघुवर श्री रामचन्द्र जी आरती
श्री रामचन्द्र जी
श्री जानकीनाथ जी की आरती

राम नवमी भजन:
राम सिया राम, सिया राम जय जय राम
जन्म बधाई भजन: घर घर बधाई बाजे रे देखो
कभी राम बनके, कभी श्याम बनके भजन
जय जय सुरनायक जन सुखदायक
सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये
अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं
भए प्रगट कृपाला दीनदयाला
श्री राम भजन

श्री राम मंदिर:
श्री राम जन्मभूमि
श्री कालाराम मंदिर, नासिक
श्री राम मंदिर, सोमनाथ
श्री राम मंदिर, विवेक विहार
श्री राम मंदिर, भीमाशंकर
श्री राम मंदिर, शिकोहाबाद
श्री राम कृष्ण मंदिर, अशोक विहार

अगले उत्सव, पर्व, व्रत एवं पूजा:
हरिद्वार कुंभकामदा एकादशीहनुमान जयंती / श्री हनुमान जन्मोत्सव

श्री राम प्रेरक कहानियाँ:
भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त
नारद मुनि भगवान श्रीराम के द्वार पर पहुँचे
राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न भाइयों का प्यार
भरे हुए में राम को स्थान कहाँ?
श्री राम नाम जाप महिमा
सिय राम मय सब जग जानी
महिमा राम नाम की

ब्लॉग:
राम मंदिर अयोध्या के लिए दान/योगदान का प्रामाणिक तरीका
❀ कोरोना: लॉकडाउन, जनता कर्फ्यू, क्वारंटाइन के समय क्या पढ़ें?

What is the Significance of Ram Navami? in English

Ram Navami is celebrated to commemorate the birthday of Bhagwan Ram.
यह भी जानें

Blogs Ram Navami BlogsHindu Festival Ram Navami BlogsRam Navami 2021 Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शकुनि से जुड़ी कुछ जानकारियाँ..

शकुनि के पिता, माता, पत्नी, बेटे का क्या नाम था? युद्ध में सहदेव ने वीरतापूर्वक युद्ध करते हुए शकुनि और उलूक को घायल कर दिया और देखते ही देखते उलूक का वध दिया।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी विशेषांक 2021

आइए जानें! श्री कृष्ण जन्माष्टमी से जुड़ी कुछ जानकारियाँ, प्रसिद्ध भजन एवं सम्वन्धित अन्य प्रेरक तथ्य..

सावन शिवरात्रि विशेषांक 2021

जानें! सावन की शिवरात्रि से जुड़ी कुछ जानकारियाँ एवं सम्वन्धित प्रेरक तथ्य..

क्यों मनाई जाती है गुरु पूर्णिमा?

24 जुलाई, 2021 को गुरु पूर्णिमा मनाया जाएगा। गुरु पूर्णिमा का पबित्र पर्व आषाढ़ मास की पूर्णिमा तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार मनाया जाता है। भारत में इस दिन को बड़ी श्रद्धा के साथ गुरु की पूजा की जाती है।

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2021

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | Wednesday, 4 August 2021 कामिका एकादशी व्रत कथा - Kamika Ekadasi Vrat Katha

विविध: आर्य समाज के नियम

ईश्वर सच्चिदानंदस्वरूप, निराकार, सर्वशक्तिमान, न्यायकारी, दयालु, अजन्मा, अनंत, निर्विकार, अनादि, अनुपम, सर्वाधार, सर्वेश्वर, सर्वव्यापक, सर्वांतर्यामी, अजर, अमर, अभय, नित्य, पवित्र और सृष्टिकर्ता है, उसी की उपासना करने योग्य है।

बिश्नोई पन्थ के उनतीस नियम!

बिश्नोई पन्थ के उनतीस नियम निम्नलिखित हैं: तीस दिन सूतक, पांच ऋतुवन्ती न्यारो। सेरो करो स्नान, शील सन्तोष शुचि प्यारो॥...

मंदिर

🔝