Hanuman Chalisa

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है - RSS गीत (Hamako Apani Bharat Ki Mati Se Anupam Pyar Hai)


हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है - RSS गीत

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है,
माटी से अनुपम प्यार है, माटी से अनुपम प्यार है ॥

इस धरती पर जन्म लिया था दसरथ नंन्दन राम ने,
इस धरती पर गीता गायी यदुकुल-भूषण श्याम ने ।
इस धरती के आगे झुकता मस्तक बारम्बार है ॥

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है,
माटी से अनुपम प्यार है, माटी से अनुपम प्यार है ॥

इस धरती की गौरव गाथा गायी राजस्थान ने,
इस पुनीत बनाया अपने वीरों के बलिदान ने ।
मीरा के गीतों की इसमें छिपी हुई झंकार है ॥

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है,
माटी से अनुपम प्यार है, माटी से अनुपम प्यार है ॥

कण-कण मंदिर इस माटी का कण-कण में भगवान् है,
इस माटी से तिलक करो यह मेरा हिन्दुस्तान है ।
इस माटी का रोम रोम भारत का पहरेदार है॥

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है,
माटी से अनुपम प्यार है, माटी से अनुपम प्यार है ॥
हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है,
माटी से अनुपम प्यार है, माटी से अनुपम प्यार है ॥

Hamako Apani Bharat Ki Mati Se Anupam Pyar Hai in English

Hamko Apani Bharat Ki Mati Se Anupam Pyar Hai, Maati Se Anupam Pyaar Hai, Maati Se Anupam Pyaar hai, Hamko Apani Bharat Ki Mati Se Anupam Pyar Hai, Maati Se Anupam Pyaar Hai, Maati Se Anupam Pyaar hai ॥
यह भी जानें

Bhajan RSS BhajanRSS Geet BhajanSangh Geet BhajanRashtriya Swayamsevak Sangh BhajanDesh Bhakti BhajanMatrabhoomi BhajanBharat BhajanPatriotic Bhajan

अन्य प्रसिद्ध हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है - RSS गीत वीडियो

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया: भजन

ऐसा सुंदर स्वभाव कहाँ पाया, राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया । पर नारी पर दृष्टि न ड़ाली..

भजन: मैं तो संग जाऊं बनवास, स्वामी..

मैं तो संग जाऊं बनवास, स्वामी ना करना निराश, पग पग संग जाऊं जाऊं बनवास...

राम ही पार लगावेंगे: भजन

अजी मैं तो राम ही राम भजूँ री मेरे राम, राम ही पार लगावेंगे..

भजन: ओ मईया तैने का ठानी मन में

ओ मईया तैने का ठानी मन में, राम-सिया भेज दये री बन में, दीवानी तैने का ठानी मन में...

दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी: भजन

दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी, इसे लाया है कौन, इसे लाया है कौन..

माँ की लाल रे चुनरिया, देखो लहर लहर लहराए: भजन

माँ की लाल रे चुनरिया, देखो लहर लहर लहराए, माँ की नाक की नथनिया, दमदम दमदम दमकी जाए, माँ की लाल रे चुनरियाँ, देखो लहर लहर लहराए ॥

दुःख की बदली, जब जब मुझ पे छा गई: भजन

दुःख की बदली, जब जब मुझ पे छा गई, सिंह सवारी करके, मैया आ गई, वो आ गई वो आ गई, वो आ गई मेरी माँ, दुख की बदली,
जब जब मुझ पे छा गई, सिंह सवारी करके, मैया आ गई ॥

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App
not APP