हरि का भजन करो, हरि है तुम्हारा! (Hari Ka Bhajan Karo, Hari Hai Tumhara!)


हरि का भजन करो,
हरि है तुम्हारा,
हरि के भजन बिन,
हरि के भजन बिन, नहीं गुजारा,
हरि का भजन करों,
हरि है तुम्हारा॥

हरि नाम से तेरा काम बनेगा,
हरि नाम ही तेरे साथ चलेगा,
हरि नाम लेने वाला,
हरि नाम लेने वाला, हरि का है प्यारा,
हरि का भजन करों,
हरि है तुम्हारा॥

कोई कहे राधे-श्याम,
कोई कहे सीता-राम,
कोई गिरिधर गोपाल,
कोई राधा-माधव नाम,
वो ही हरि दीन बंधू,
वो ही हरी करुणा सिन्धु,
नमो बारम्बारा,
हरि का भजन करों,
हरि है तुम्हारा॥

सुख़ दुःख भोगे जाओ,
लेखा सब मिटाते जाओ,
हरि गुण गाते जाओ,
हरि को रिझाते जाओ,
वो ही हरि दीन-बंधू,
वो ही हरी करुणा-सिन्धु,
सबका है प्यारा,
हरि का भजन करों,
हरि है तुम्हारा॥

दीनो पर दया करो,
बने तो सेवा भी करो,
मोह सब दूर करो,
प्रेम हरि से करो,
ये ही भक्ति ये ही योग,
ये ही ज्ञान सारा,
हरि का भजन करों,
हरि है तुम्हारा॥

हरि का भजन करो,
हरि है तुम्हारा,
हरि के भजन बिन,
हरि के भजन बिन, नहीं गुजारा,
हरि का भजन करों,
हरि है तुम्हारा॥

यह भी जानें

BhajanShri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

आदियोगी - दूर उस आकाश की गहराइयों में

दूर उस आकाश की गहराइयों में, एक नदी से बह रहे हैं आदियोगी...

भजन: मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा

ॐ नमः शिवाय, सत्य है ईश्वर, शिव है जीवन, सुन्दर यह संसार है। तीनो लोक हैं तुझमे, तेरी माया अपरम्पार है॥

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

भजन: शिव उठत, शिव चलत, शिव शाम-भोर है।

शिव उठत, शिव चलत, शिव शाम-भोर है। शिव बुद्धि, शिव चित्त, शिव मन विभोर है॥ ॐ ॐ ॐ...

भजन: बाहुबली से शिव तांडव स्तोत्रम, कौन-है वो

कौन-है वो, कौन-है वो, कहाँ से वो आया, चारों दिशायों में, तेज़ सा वो छाया...

भजन: बोलो हर हर हर, फिल्म शिवाय

आग बहे तेरी रग में, तुझसा कहाँ कोई जग में, है वक़्त का तू ही तो पहला पहर...

शिव पूजा में मन लीन रहे मेरा...

शिव पूजा में मन लीन रहे मेरा मस्तक हो और द्वार तेरा, मिट जाए जन्मों की तृष्णा मिले भोले शंकर प्यार तेरा।

भजन: चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो, हर हर हर महादेव की जय हो।

भजन: शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ

शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ। अंत काल को भवसागर में उसका बेडा पार हुआ॥

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला!

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला, तेरे नाम की मैं जपूं रोज माला। अब तो मनो कामना है यह मेरी...

🔝