मैं काशी हूँ - भजन (Main Kashi Hoon)


मैं काशी हूँ - भजन
Add To Favorites

मेरे तट पर जागे कबीर
मैं घाट भदैनी तुलसी की
युग युग से हर सर्जक बेटे
की माता हूँ मैं हुलसी सी वल्लभाचार्य तैलंग स्वामी रविदास हूँ रामानंद हूँ मैं
मंगल है मेरा मरण-जनम
सौ जन्मों का आनंद हूँ मैं
कंकर कंकर मेरा शंकर,
मैं लहर-लहर अविनाशी हूँ
मैं काशी हूँ मैं…मैं काशी हूँ…!

बाँसुरिया हरिप्रसाद की रविशंकर सितार की जान हूँ मैं
राजन साजन का अमर राग
गिरिजा देवी की तान हूँ मैं
शहनाई में बिस्मिल्ला खाँ नाटक में आगा खान हूँ मैं
मुझ में रम कर जानोगे तुम
कि पूरा हिंदुस्तान हूँ मैं
जो मेरे घराने में सँवरे
उन सात सुरों की प्यासी हूँ
मैं काशी हूँ मैं…मैं काशी हूँ…!

भारत के रत्न कहाते हैं मेरी मिट्टी के कुछ जाए
हर चौराहे पर पद्मश्री और पद्म विभूषण पा जाए
जिसको हो ज्ञान गुमान यहाँ लंका पर लंका लगवाए
दुनिया जिनके पप्पू पर है
पप्पू की अड़ी पर आ जाए
दर्शन दर्शन सी गूढ़ गली में
रांड सांड संन्यासी हूँ
मैं काशी हूँ मैं…मैं काशी हूँ…!

अक्षर की गरिमा मुझ से है
हर सर्जन के अब-तब में हूँ
मैं भारतेंदु मैं रामचंद्र
विद्यानिवास मैं सब में हूँ
जयशंकर का प्रसाद हूँ मैं
उस पल भी थी मैं अब में हूँ
मैं देवकीनन्दन प्रेमचंद
बेढब होकर भी ढब में हूँ
मैं हर पागल दीवाने की क्षमता-प्रतिभा विश्वासी हूँ
मैं काशी हूँ मैं…मैं काशी हूँ…!

मैं महामना का गुरुकुल हूँ
विद्या की जोत जगाती हूँ
मैं लालबहादुर में बस कर
भारत को विजय दिलाती हूँ
जो राजा से लड़ जाए निडर राजर्षि उसे बनाती हूँ
जण गण के मन की मॉंग समझ गुजराती गले लगाती हूँ
मैं जम्बूद्वीप का वर्तमान,
जीने वाली इतिहासी हूँ
मैं काशी हूँ मैं…मैं काशी हूँ…!

कंकर कंकर मेरा शंकर,
मैं लहर-लहर अविनाशी हूँ
मैं काशी हूँ मैं…मैं काशी हूँ…!
-Dr Kumar Vishwas

यह भी जानें

Bhajan Kashi BhajanVaranshi BhajanBanaras BhajanShri Shiv BhajanBJP BhajanMathura BhajanUP Election BhajanKumar Vishwas Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े - भजन

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े, हनुमान उड़े उड़ते ही गये, सब देख रहे है..

झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे: भजन

ऐ भई रे भई रे, ढोलीड़ा तने विनवु रे, म्हारी माता सारू, ढोल वगाडजो रे, झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे ॥

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा: भजन

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा, तेरा जी मैया, ऊँचे पहाड़ो पर डेरा डेरा जी, तेरा मंदर सुनहरी शेरावालिये ॥

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना: भजन

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना, बात हर एक के बस की नहीं है, खेलना पड़ता है जिंदगी से, भक्ति इतनी भी सस्ती नहीं है ॥

नन्द बाबा के अंगना देखो बज रही आज बधाई: भजन

नन्द बाबा के अंगना देखो, बज रही आज बधाई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई ॥

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel