पितृ पक्ष | शारदीय नवरात्रि | शरद पूर्णिमा | आज का भजन!

भजन: मेरो मॅन लग्यॉ बरसाने मे... (Mero Man Lagyo Barsane Mei Jaha Viraje Radharani)


बोलो राधे राधे, बोलो श्यामा श्यामा
बोलो राधे राधे, बोलो श्यामा श्यामा

मेंरो मन लग्यो बरसाने में, जहाँ विराजे राधा रानी,
मन हट्यो दुनियाँदारी से, मन हट्यो दुनियाँदारी से,
जहाँ मिले खरा पानी,

मुझे दुनियाँ से नही कोई काम, मुझे दुनियाँ से नही कोई काम,
मैं तो रतु राधा राधा नाम, मैं तो रतु राधा राधा नाम,
दर्शन करू सुबह शाम, दर्शन करू सुबह शाम,
मेंरे मन में विराजे श्याम दीवानी, जहाँ विराजे राधा रानी,
॥ मेंरो मन लग्यो बरसाने में...॥

मेंरे मन में ना लगे कोई रंग, मेंरे मन में ना लगे कोई रंग,
मैं तो रहूँ संतान के संग, मैं तो रहूँ संतान के संग,
मेंरे मन में बढ़त उमंग, मेंरे मन में बढ़त उमंग,
बरसाना वृीज की राजधानी, जहाँ विराजे राधा रानी,
॥ मेंरो मन लग्यो बरसाने में...॥

मुझे दुनियाँ से नही लेना देना, मुझे दुनियाँ से नही लेना देना,
ये जगत है एक सपना, ये जगत है एक सपना,
यहा कोई नही अपना, यहा कोई नही अपना,
मेंरी अपनी ब्रषभान दुलारी, जहाँ विराजे राधा रानी,
॥ मेंरो मन लग्यो बरसाने में...॥

मेंरो मन लग्यो बरसाने में जहाँ विराजे राधा रानी,
मेंरो मन लग्यो बरसाने में जहाँ विराजे राधा रानी,
मन हट्यो दुनियाँदारी से, मन हट्यो दुनियाँदारी से,
जहाँ मिले खरा पानी,
॥ मेंरो मन लग्यो बरसाने में...॥

BhajanRadhashtami BhajanShri Radha Krishna BhajanShri Radha Rani BhajanJanmashtami BhajanBrij BhajanChitralekhaji Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: कभी धूप कभी छाँव!

सुख दुःख दोनों रहते जिस में, जीवन है वो गाओं, कभी धूप कभी छाँव

भजन: दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले..

दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले, तेरे दुःख दूर करेंगे राम । किये जा तू जग में भलाई का काम, तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।

भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा!

भारत के लिए भगवन का, एक वरदान है गंगा, सच पूछो तो इस देश की पहचान है गंगा, हर हर गंगे, हर हर गंगे !

भजन: ऐसे मेरे मन में विराजिये!

ऐसे मेरे मन में विराजिये, कि मै भूल जाऊं काम धाम, गाऊं बस तेरा नाम...

भजन: मन तड़पत हरि दर्शन को आज

मन तड़पत हरि दर्शन को आज, मोरे तुम बिन बिगड़े सकल काज, विनती करत हूँ रखियो लाज..

भजन: गौरी के नंदा गजानन, गौरी के नन्दा

गौरी के नंदा गजानन, गौरी के नन्दा, म्हने बुद्धि दीजो गणराज गजानन, गौरी के नन्दा ॥

भजन: शंकर जी का डमरू बाजे

शंकर जी का डमरू बाजे, पार्वती का नंदन नाचे॥ बर्फीले कैलाशिखर पर जय गणेश की धूम

भजन: मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे!

मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे, भोले बाबा जी की आँखों के तारे, प्रभु सभा बीच में आ जाना आ जाना...

भजन: घर में पधारो गजानन जी!

घर में पधारो गजाननजी, मेरे घर में पधारो, ग्रह प्रवेश के समय गाए जाने वाला पॉपुलर श्री गणेश भजन...

भजन: गजानन करदो बेड़ा पार!

गजानन करदो बेडा पार, आज हम तुम्हे मनाते हैं, तुम्हे मनाते हैं, गजानन तुम्हे मनाते हैं॥

top