धनतेरस | तुलसी विवाह | आज का भजन!

भजन: मुझे राधे नाम सुनाई दे! (Mujhe Radhe Naam Sunai De)


राधे राधे! जय श्री राधे राधे...

चितचोर बड़ा तू छलिया
बिंद्रावन कि यह गलियां।
चितचोर बड़ा तू छलिया
बिंद्रावन कि यह गलियां।

तेरी बाकी बाकी सोणी सोणी
तेरी बाकी बाकी सोणी सोणी
चितवन श्याम दिखाई दे

मुझे राधे राधे! मुझे राधे राधे!
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे

टेढ़ी वह मटक बाकी से लटक मुस्कान है अधरों की
पथ भूले पथिक कहते हैं रसिक क्या बात है नजरों की

दीदार करे जो घायल हो जाता तेरा वह कायल
तेरी बाकी बाकी सोणी सोणी...
चितवन श्याम दिखाई दे
॥ मुझे राधे राधे! मुझे राधे राधे...॥

तेरी मधुर बड़ी मुस्कान चैन मेरे मन का ले लेगी
उस पर मुरली की तान मुझे यह मार ही डालेगी

छम छम करती है पायल- झूमे लहरी दिल पागल
तेरी बाकी बाकी सोणी सोणी
चितवन श्याम दिखाई दे
॥ मुझे राधे राधे! मुझे राधे राधे...॥

मुझे राधे राधे! मुझे राधे राधे!
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे

यह भी जानें

BhajanRadhashtami BhajanShri Krishna BhajanJanmashtami BhajanShri Radha Rani BhajanUma Lahari Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

जम्भेश्वर आरती: ओ३म् शब्द सोऽहं ध्यावे

ओ३म् शब्द सोऽहं ध्यावे, स्वामी शब्द सोऽहं ध्यावे । धूप दीप ले आरती निज हरि गुण गावे । मंदिर मुकुट त्रिशुल ध्वजा, धर्मों की फ हरावे ।...

भजन: म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश

म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश, भाग म्हारो जागियो ॥ मरूधर देश समराथल भूमि, गुरूजी दियो उपदेश ।...

भजन: द्वार पे गुरुदेव के हम आगए

द्वार पे गुरुदेव के हम आ गए । ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥ देखलो हमको भला दर्शन हुआ । प्रेम हिरदे में मगन प्रसन्न हुआ...

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार!

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार। हाथों में फूलों का दौना भी सोहे, सुंदर गले में सोहे हार, कुमार मैने देखे...

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

जय जय सुरनायक जन सुखदायक

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

भजन: राम कहने से तर जाएगा!

राम कहने से तर जाएगा, पार भव से उतर जायेगा। उस गली होगी चर्चा तेरी...

मेरे मन के अंध तमस में...

मेरे मन के अंध तमस में, ज्योतिर्मय उतारो। जय जय माँ...

top