भजन: मुझे राधे नाम सुनाई दे! (Mujhe Radhe Naam Sunai De)


राधे राधे! जय श्री राधे राधे...

चितचोर बड़ा तू छलिया
बिंद्रावन कि यह गलियां।
चितचोर बड़ा तू छलिया
बिंद्रावन कि यह गलियां।

तेरी बाकी बाकी सोणी सोणी
तेरी बाकी बाकी सोणी सोणी
चितवन श्याम दिखाई दे

मुझे राधे राधे! मुझे राधे राधे!
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे

टेढ़ी वह मटक बाकी से लटक मुस्कान है अधरों की
पथ भूले पथिक कहते हैं रसिक क्या बात है नजरों की

दीदार करे जो घायल हो जाता तेरा वह कायल
तेरी बाकी बाकी सोणी सोणी...
चितवन श्याम दिखाई दे
॥ मुझे राधे राधे! मुझे राधे राधे...॥

तेरी मधुर बड़ी मुस्कान चैन मेरे मन का ले लेगी
उस पर मुरली की तान मुझे यह मार ही डालेगी

छम छम करती है पायल- झूमे लहरी दिल पागल
तेरी बाकी बाकी सोणी सोणी
चितवन श्याम दिखाई दे
॥ मुझे राधे राधे! मुझे राधे राधे...॥

मुझे राधे राधे! मुझे राधे राधे!
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे
मुझे राधे राधे राधे राधे राधे नाम सुनाई दे

यह भी जानें

BhajanRadhashtami BhajanShri Krishna BhajanJanmashtami BhajanShri Radha Rani BhajanUma Lahari Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: मानो तो मैं गंगा माँ हूँ..

मानो तो मैं गंगा माँ हूँ, ना मानो तो बहता पानी, जो स्वर्ग ने दी धरती को, में हूँ प्यार की वही निशानी...

भजन: ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यूँ?

करे हाहाकार निःशब्द सदा, ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यूँ?

भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा!

भारत के लिए भगवन का, एक वरदान है गंगा, सच पूछो तो इस देश की पहचान है गंगा, हर हर गंगे, हर हर गंगे !

भजन: शीश गंग अर्धंग पार्वती

शीश गंग अर्धंग पार्वती सदा विराजत कैलासी। नंदी भृंगी नृत्य करत हैं, धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

भजन: बांके बिहारी कृष्ण मुरारी

बांके बिहारी कृष्ण मुरारी मेरे बारी कहाँ छुपे, दर्शन दीजो शरण में लीजो...

भजन: अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं, राम नारायणं जानकी बल्लभम।

शिव पूजा में मन लीन रहे मेरा...

शिव पूजा में मन लीन रहे मेरा मस्तक हो और द्वार तेरा, मिट जाए जन्मों की तृष्णा मिले भोले शंकर प्यार तेरा।

🔝