मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन (Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka)


मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का ।
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से ॥

कमल लज्जाये तेरे,
नैनो को देख के ।
भूली घटाएँ तेरी,
कजरे की रेख पे ।
यह मुखड़ा निहार के,
सो चाँद गए हार के,
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से ॥

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का ।
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से ॥

कुर्बान जाऊं तेरी,
बांकी अदाओं पे ।
पास मेरे आजा तोहे,
भर मैं भर लूँ मैं बाहों में ।
जमाने को विसार के,
दिलो जान तोपे वार के,
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से ॥

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का ।
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से ॥

रमण बिहारी नहीं,
तुलना तुम्हारी।
तुझ सा ना पहले,
कोई ना देखा अगाडी ।
दीवानों ने विचार के,
कहा यह पुकार के,
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से ॥

मुकुट सिर मोर का,
मेरे चित चोर का ।
दो नैना सरकार के,
कटीले हैं कटार से ॥

Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka in English

Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka । Do Naina Sarkar Ke, Katile Hain Katar Se
यह भी जानें

Bhajan Shri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanLaddu Gopal BhajanRadhashtami BhajanHoli BhajanPhalguna BhajanIskcon BhajanDevi Chitralekhaji Bhajan

अन्य प्रसिद्ध मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन वीडियो

मुकुट सिर मोर का - सुश्री पूर्णिमा जी

मुकुट सिर मोर का - श्रीहित अम्बरीष जी

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय जय जननी श्री गणेश की: भजन

जय जय जननी श्री गणेश की, प्रतीभा परमेश्वर परेश की, जय जय जननी श्री गणेश की..

भजन: गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में

गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में। मोदक भोग लगाओ, श्री रामजी की धुन मे..

तेरी सूरत पे जाऊं बलिहार रसिया: भजन

तेरी सूरत पे जाऊं बलिहार रसिया, मैं तो नाचूंगी तेरे दरवार रसिया ॥..

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन

तुम करुणा के सागर हो प्रभु, मेरी गागर भर दो थके पाँव है...

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन: भजन

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार। पवनसुत विनती बारम्बार॥ अष्ट सिद्धि, नव निद्दी के दाता...

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में!

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में, देख लो मेरे मन के नागिनें में।

भजन: कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं!

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं हनुमान तुम्हारा क्या कहना। तेरी शक्ति का क्या कहना...

🔝