close this ads

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का।


मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का।
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से॥

कमल लज्जाये तेरे नैनो को देख के।
भूली घटाएँ तेरी कजरे की रेख पे।
यह मुखड़ा निहार के, सो चाँद गए हार के,
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से॥
॥ मुकुट सिर मोर का...॥

कुर्बान जाऊं तेरी बांकी अदाओं पे।
पास मेरे आजा तोहे भर मैं भर लूँ मैं बाहों में।
जमाने को विसार के, दिलो जान तोपे वार के,
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से॥
॥ मुकुट सिर मोर का...॥

रमण बिहारी नहीं तुलना तुम्हारी।
तुझ सा ना पहले कोई ना देखा अगाडी।
दीवानों ने विचार के, कहा यह पुकार के,
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से॥
॥ मुकुट सिर मोर का...॥

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का।
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से॥


Read Also
» दिल्ली मे कहाँ मनाएँ श्री कृष्ण जन्माष्टमी। | भोग प्रसाद
» श्री कृष्ण जन्माष्टमी - Shri Krishna Janmashtami
» दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर। | जानें दिल्ली मे ISKCON मंदिर कहाँ-कहाँ हैं? | दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर।
» ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर! | भारत के चार धाम
» आरती: श्री बाल कृष्ण जी | भोग आरती: श्रीकृष्ण जी | बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी!

BhajanShri Krishna BhajanJanmashtami BhajanPurnima Didi Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जो खेल गये प्राणो पे, श्री राम के लिए!

जो खेल गये प्राणो पे, श्री राम के लिए, एक बार तो हाथ उठालो, मेरे हनुमान के लिए...

भजन: राम ना मिलेगे हनुमान के बिना

पार ना लगोगे श्री राम के बिना, राम ना मिलेगे हनुमान के बिना। राम ना मिलेगे हनुमान के बिना...

भजन: मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे!

मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे, भोले बाबा जी की आँखों के तारे, प्रभु सभा बीच में आ जाना आ जाना...

नाचे नन्दलाल, नचावे हरि की मईआ!

नाचे नन्दलाल, नचावे हरि की मईआ ॥ नचावे हरि की मईआ...

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया..

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया, सबको बहुत बधाई है, बहुत बधाई है...

कृष्ण जिनका नाम है...!

कृष्ण जिनका नाम है, गोकुल जिनका धाम है, ऐसे श्री भगवान को...

राम को देख कर के जनक नंदिनी

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग...

राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद!

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। थे जनक पुर गये देखने के लिए...

राम सीता और लखन वन जा रहे!

श्री राम भजन वीडियो: राम सीता और लखन वन जा रहे, हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...

भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके!

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना...

^
top