पितृ पक्ष | शारदीय नवरात्रि | शरद पूर्णिमा | आज का भजन!

रस खीर बनाने की विधि (Ras Kheer Recipe)


बनाने की विधि:
सर्व प्रथम, चावलों को अच्छी तरह धो कर आधा घण्टे के लिए भिगोने रख देते हैं।
ताजा गन्ने के रस को मलमल के कपड़े (मसलन क्लॉथ ) की सहायता से एक भारी-तली वाले बर्तन (पतीले) में छान लेते हैं। और मध्यम आंच पर गरम करने के लिए रख देते हैं। जब गन्ने का रस गरम होना सुरू होगा तब उसके ऊपर मैल/गंदगी/लधोई की एक परत बन जाएगी। जिसको चमचे की सहायता से हटा देते हैं। जब गन्ने के रस में अच्छी तरह उबाल आ जाए तब आंच को धीमा कर इसमें भीगे हुए चावल डाल देते हैं।

और फिर चमचे की सहायता से दो-तीन मिनट के अंतराल से रस खीर को चलाते रहते हैं, लगभग बीस से पच्चीस के बाद जब चावल पक जाएँ तब उसमें कटे हुए मेवे( काजू , बादाम आदि इच्छानुसार) डाल देते हैं। अब लगातर चलाते हुए दस-पन्द्रह मिनट तक खीर को और पकने देते हैं. जब चावल अच्छे से रस में मिल/घुट जाएं तब इसमें इलाइची पाउडर मिला देते हैं और गैस को बन्द कर खीर को ठंडा होने देते हैं। इस प्रकार भोग के लिए रस खीर बन कर तैयार हो जाती है।

आवश्यक सामग्री:
गन्ने का ताजा रस, चावल, दूध
मेवा: काजू, बादाम, पिस्ता, इलाइची

संबंधित अन्य नाम:
गन्ने की रस खीर, गन्ने की खीर

दूध वाली रस खीर:
भारत के कुछ जगहों पर, रस खीर को दूध के साथ मिलाकर भी बनाया जाता है। अतः रस-खीर बन जाने के बाद, एक बर्तन में दूध को मध्यम आंच पर उबाल लेते हैं, तथा ठंडी रस खीर में मिला देते हैं। जब रस खीर ठंडी हो जाए तभी दूध को उसमे डालें। अन्यथा, गरम रस खीर में दूध डालने पर दूध के फटजाने की संभावना रहती है।

Ras Kheer Recipe - Available in English

...In some places of India, Ras Kheer is also prepared by mixing milk in it.
यह भी जानें

Bhog-prasadKheer Bhog-prasadRas Bhog-prasad


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

पारंपरिक मोदक बनाने की विधि!

इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं पारंपरिक तरीके से मोदक बनाने की सरल विधि...

बेसन के लड्‍डू बनाने की विधि

बेसन के लड्‍डू गजानन श्री गणेश को अति प्रिय हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान खूब होता है, आइए जानते हैं इन्हें बनाने की सरल विधि...

केसर मोदक बनाने की विधि

मोदक श्री गणेश के सबसे प्रिय मिष्ठान हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं केसर मोदक बनाने की सरल विधि...

मावा के मोदक बनाने की विधि

मोदक श्री गणेश के सबसे प्रिय मिष्ठान हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं इन्हें बनाने की सरल विधि...

जन्माष्टमी मेवा पाग बनाने की विधि

जन्माष्टमी के बाद प्रसाद के रूप में प्रयोग होने वाले मेवा पाग को बनाने की सरल विधि..

पंचामृत बनाने की विधि

हिंदू समाज में पूजा के बाद पंचामृत प्रसाद के रूप में दिया जाता है। आइये जानते हैं! पंचामृत बनाने की सरल विधि..

बालभोग बनाने की सरल विधि

जन्माष्टमी, कथा आदि के बाद प्रसाद के रूप में प्रयोग होने वाले बालभोग को बनाने की सरल विधि..

मथुरा के पेड़े बनाने की विधि

आइए जानें मथुरा के प्रसिद्ध पेड़ों को घर मे बनाने की विधि...

समा के चावल की खीर बनाने की विधि

अधिकतम व्रत जिसमें अन्न ग्रहण करना वर्जित होता है, उस व्रत में समा के चावल की खीर का उपयोग किया जाता है। आइए जानें इसे बनाने की विधि...

मखाने की खीर बनाने की विधि

व्रत, कथा, भोज, रक्षाबंधन तथा जन्माष्टमी में प्रयोग आने वाली प्रमुख मिष्ठान, मखाने की खीर बनाने की सरल रेसिपी...

top