तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे बलिहार: भजन (Teri Mand Mand Mushakniya Pe Balihar)


तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे बलिहार: भजन

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार संवारे जू ।
तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार संवारे जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार संवारे जू ॥

तेरे बाल बड़े घुंगराले,
बादल जो कारे कारे ।
तेरी मोर मुकट लटकनिया पे,
बलिहार संवारे जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार संवारे जू ॥

तेरी चाल अजब मतवाली,
लगती है प्यारी-प्यारी ।
तेरी पायल की झंकार पे,
बलिहार संवारे जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार संवारे जू ॥

तेरे संग में राधा प्यारी,
लगती है सबसे नियारी ।
इस युगल छवि पे मे जाऊ,
बलिहार संवारे जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार संवारे जू ॥

तेरे नयन बड़े मतवारे,
मटके है कारे कारे ।
तेरी तिरछी सी चितवनिया पे,
बलिहार संवारे जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार संवारे जू ॥

Teri Mand Mand Mushakniya Pe Balihar in English

Teri Mand-mand Muskaniya Pe, Balihar Sanware Ju । Teri Mand-mand Muskaniya Pe
यह भी जानें
बलिहार राघव जू..

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ।
तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरे स्याम शरीर की शोभा,
लख कोटि मनोहर लोभा
तेरी मधुर मधुर चितवनियाँ पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

मुख कुटिल अलकियाँ लटकें,
मानों पाटल पर मधुकर भटके ।
तेरी चपल चपल चितवनिया पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

मकराकृति सोहें कुण्डल,
मुख निरख लगे विधुमंडल ।
तेरी मधुर मधुर किलकनिया पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

श्रुति कुंडल चारु विराजे,
खंजन से नैना राजे ।
तेरी कुटिल कुटिल अलकियाँ पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

नैना सोहे रतनारे,
अधरामृत अति अरुनारे ।
तेरी तोतली मधुर वचनियाँ पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

लख अरुण अधर की शोभा,
कोटिन मुनिजन मन लोभा ।
तेरी कमल चरन कंकनियाँ पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

तन पीत पीताम्बर सोहे,
लख लख के मुनि मन मोहे ।
तेरी कंचनमय कंकनियाँ पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

तन पर पीतांबर राजे,
चित धुरि कलित बहु भावे ।
तेरी स्वर्णमयी कंकनियाँ पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

कहे रामभद्र आचारज,
मत मानो मन में अचरज ।
तेरी ललित ललित लरिकनिया पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

कह रामभद्र आचारज,
लख आवे मन में अचरज ।
तेरि छगन मगन पैंजनियाँ पे,
बलिहार राघव जू ।

तेरी मंद-मंद मुस्कनिया पे,
बलिहार राघव जू ॥

BhajanShri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navmi BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanVijayadashami BhajanMata Sita BhajanRam Sita Vivah BhajanShri Vishnu BhajanShri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanShri Shayam Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

देख लिया संसार हमने देख लिया

देख लिया संसार हमने देख लिया, सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल: भजन

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल, तुम बिन रह्यो न जाय हो ॥ बृजराज लडेतोलाडिले ॥

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन

गोबिंद चले चरावन गैया । दिनो है रिषि आजु भलौ दिन, कह्यौ है जसोदा मैया ॥

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी, अँखियाँ प्यासी रे । मन मंदिर की जोत जगा दो..

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन

तुम करुणा के सागर हो प्रभु, मेरी गागर भर दो थके पाँव है...

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी, कहाँ से आयो कुंवर कन्हैया, कहाँ से आई राधा गोरी..

🔝