भजन: चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो (Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Me Bhakto)


भजन: चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

लिया नाम जिसने भी शिवजी का मन से,
उसे भोले शंकर ने अपना बनाया।
खुले उस पे सब द्वार शिव की दया के,
जो श्रद्धा से भोले के मंदिर में आया॥

हर हर हर महादेव की जय हो।
शंकर शिव कैलाशपति की जय हो॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो,
शिव जी के चरणों में सर को झुकाए।
करें अपने तन मन को गंगा सा पावन..2
जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
हर हर हर महादेव की जय हो।..4

यह संसार झूठी माया का बंधन,
शिवालयमें मार्ग है मुक्ति का भक्तो।
महादेव का नाम लेने से हर दिन,
मिलेगा हमें दान शक्ति का भक्तो।
मिट्टी में मिट्टी की काया मिलेगी..2
चलो आत्मा को तो कुंदन बनाएं॥
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो||

कहीं भी नहीं अंत उस की दया का,
करें वंदना उस दयालु पिता की।
हमें भी मिले छावं उसकी कृपा की,
हमे भी मिले भीख उसकी दया की।
लगाकर समाधि करें शिव का सिमरन..2
यूँ सोये हुए भाग्य अपने जगाएं॥
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो||

करें सब का कल्याण, कल्याणकारी,
भरे सबके भण्डार त्रिनेत्र धारी।
कोई उसको जग में कमी ना रहेगी,
बनेगा जो तनमन से शिव का पुजारी।
करे नाम लेकर सफल अपना जीवन..2
यह अनमोल जीवन यूँही ना गवाए॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
शिव जी के चरणों में सर को झुकाए।
करें अपने तन मन को गंगा सा पावन..2
जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
हर हर हर महादेव की जय हो।..4

Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Me Bhakto in English

Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Mein Bhakto, Har Har Har Mahadev Kee Jay Ho ।
यह भी जानें

BhajanShiv BhajanBholenath BhajanMahadev BhajanShivaratri BhajanSavan BhajanMonday BhajanSomvar BhajanSolah Somvar Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे.. भजन

वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे। पर दुःखे उपकार करे तो ये, मन अभिमान न आणे रे...

किसलिए आस छोड़े कभी ना कभी: भजन

किस लिए आस छोड़े कभी ना कभी, क्षण विरह के मिलन में बदल जाएंगे । नाथ कब तक रहेंगे कड़े एक दिन,

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी ॥ अजर अमर अज अरूप,

भजन: धन धन भोलेनाथ बॉंट दिये, तीन लोक..

धन धन भोलेनाथ बॉंट दिये, तीन लोक इक पल भर में ऐसे दीनदयाल मेरे दाता, भरे खजाना पल भर में॥

ना मन हूँ ना बुद्धि ना चित अहंकार: भजन

ना मन हूँ, ना बुद्धि, ना चित अहंकार, ना जिव्या नयन नासिका, करण द्वार..

भजन: अरे द्वारपालों कहना से कह दो..

अरे द्वारपालों कहना से कह दो, दर पे सुदामा गरीब आ गया है।

🔝