भजन: चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो (Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Me Bhakto)


भजन: चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

लिया नाम जिसने भी शिवजी का मन से,
उसे भोले शंकर ने अपना बनाया।
खुले उस पे सब द्वार शिव की दया के,
जो श्रद्धा से भोले के मंदिर में आया॥

हर हर हर महादेव की जय हो।
शंकर शिव कैलाशपति की जय हो॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो,
शिव जी के चरणों में सर को झुकाए।
करें अपने तन मन को गंगा सा पावन..2
जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
हर हर हर महादेव की जय हो।..4

यह संसार झूठी माया का बंधन,
शिवालयमें मार्ग है मुक्ति का भक्तो।
महादेव का नाम लेने से हर दिन,
मिलेगा हमें दान शक्ति का भक्तो।
मिट्टी में मिट्टी की काया मिलेगी..2
चलो आत्मा को तो कुंदन बनाएं॥
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो||

कहीं भी नहीं अंत उस की दया का,
करें वंदना उस दयालु पिता की।
हमें भी मिले छावं उसकी कृपा की,
हमे भी मिले भीख उसकी दया की।
लगाकर समाधि करें शिव का सिमरन..2
यूँ सोये हुए भाग्य अपने जगाएं॥
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो||

करें सब का कल्याण, कल्याणकारी,
भरे सबके भण्डार त्रिनेत्र धारी।
कोई उसको जग में कमी ना रहेगी,
बनेगा जो तनमन से शिव का पुजारी।
करे नाम लेकर सफल अपना जीवन..2
यह अनमोल जीवन यूँही ना गवाए॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
शिव जी के चरणों में सर को झुकाए।
करें अपने तन मन को गंगा सा पावन..2
जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
हर हर हर महादेव की जय हो।..4

Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Me Bhakto in English

Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Mein Bhakto, Har Har Har Mahadev Kee Jay Ho ।
यह भी जानें

Bhajan Shiv BhajanBholenath BhajanMahadev BhajanShivaratri BhajanSavan BhajanMonday BhajanSomvar BhajanSolah Somvar Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय जय सुरनायक जन सुखदायक: भजन

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण । राम भजो, राम रटो..

जिनके हृदय श्री राम बसे: भजन

जिनके हृदय श्री राम बसे, उन और को नाम लियो ना लियो । जिनके हृदय श्री राम बसे..

भजन: इतनी शक्ति हमें देना दाता

इतनी शक्ति हमें देना दाता, मनका विश्वास कमजोर हो ना..

भजन: मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे, राम आएँगे, राम आएँगे आएँगे..

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी।

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी । कलियुग का तो जीव उद्धार्या, मस्तक धरिया हाथ जी..

भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया, ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है...

🔝