close this ads

भजन: चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो


लिया नाम जिसने भी शिवजी का मन से,
उसे भोले शंकर ने अपना बनाया।
खुले उस पे सब द्वार शिव की दया के,
जो श्रद्धा से भोले के मंदिर में आया॥

हर हर हर महादेव की जय हो।
शंकर शिव कैलाशपति की जय हो॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो,
शिव जी के चरणों में सर को झुकाए।
करें अपने तन मन को गंगा सा पावन..2
जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
हर हर हर महादेव की जय हो।..4

यह संसार झूठी माया का बंधन,
शिवालयमें मार्ग है मुक्ति का भक्तो।
महादेव का नाम लेने से हर दिन,
मिलेगा हमें दान शक्ति का भक्तो।
मिट्टी में मिट्टी की काया मिलेगी..2
चलो आत्मा को तो कुंदन बनाएं॥
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो||

कहीं भी नहीं अंत उस की दया का,
करें वंदना उस दयालु पिता की।
हमें भी मिले छावं उसकी कृपा की,
हमे भी मिले भीख उसकी दया की।
लगाकर समाधि करें शिव का सिमरन..2
यूँ सोये हुए भाग्य अपने जगाएं॥
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो||

करें सब का कल्याण, कल्याणकारी,
भरे सबके भण्डार त्रिनेत्र धारी।
कोई उसको जग में कमी ना रहेगी,
बनेगा जो तनमन से शिव का पुजारी।
करे नाम लेकर सफल अपना जीवन..2
यह अनमोल जीवन यूँही ना गवाए॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
शिव जी के चरणों में सर को झुकाए।
करें अपने तन मन को गंगा सा पावन..2
जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो
हर हर हर महादेव की जय हो।..4

ये भी जानें

BhajanShiv BhajanBholenath BhajanMahadev Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके!

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना...

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी..

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी। हरि नाम मिश्री, तू घोल-घोल पी ॥

राम सीता और लखन वन जा रहे!

श्री राम भजन वीडियो: राम सीता और लखन वन जा रहे, हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...

घर आये राम लखन और सीता..

घर आये राम लखन और सीता, अयोध्या सुन्दर सज गई रे, सुन्दर सज गई रे अयोध्या...

राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद!

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। थे जनक पुर गये देखने के लिए...

राम को देख कर के जनक नंदिनी

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग...

बोलो राम! मन में राम बसा ले।

बोलो राम जय जय राम, जन्म सफल होगा बन्दे, मन में राम बसा ले...

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में!

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में, देख लो मेरे मन के नागिनें में।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम। भजमन प्यारे, जय सिया राम।

मुझे अपनी शरण में ले लो राम!

मुझे अपनी शरण में ले लो राम, ले लो राम! लोचन मन में जगह न हो तो...

^
top