धनतेरस | तुलसी विवाह | आज का भजन!

बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ। (Beta Bulaye Jhat Daudi Chali Aaye Maa)


॥ स्तुति ॥
मैं नही जानू पूजा तेरी, पर तू ना करना मैया देरी,
तेरा लख्खा तुझे पुकारे, लाज तू रखले अब माँ मेरी॥

॥ भजन ॥
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ,
अपने बच्चो के आँसू देख नहीं पाए माँ,
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

वेद पुराणो में भी माँ की, महिमा का बखान है।
वो झुकता माँ चरणों में, जिसने रचा जहान है।
देवर्षि भी समझ ना पाए, ऐसी लीला रचाए माँ।
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

संकट हरनी वरदानी माँ, सबके दुखड़े दूर करे।
शरण आए दिन दुखी की, विनती माँ मंजूर करे।
सारा जग जिसको ठुकरादे, उसको गले लगाए माँ।
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

बिगड़ी तेरी बात बनेगी, माँ की महिमा गा के देख।
खुशियो से भर जाएगा, तू झोली तो फैलाके देख।
झोली छोटी पड़ जाती है, जब देने पे आए माँ।
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

कबसे तेरी कचहरी में माँ, लिख कर दे दी अर्जी।
अपना ले चाहे ठुकरा दे, आगे तेरी मर्जी।
लख्खा शरण खड़ा हथ जोड़े, जो भी हुकुम सुनाए माँ।
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ,
अपने बच्चो के आँसू देख नहीं पाए माँ,
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

Beta Bulaye Jhat Daudi Chali Aaye Maa in English

Main Nahi Janu Pooja Teri, Par Tu Na Karana Maiya Deri, Tera Lakhkha Tujhe Puk...
यह भी जानें

BhajanMaa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanLakkha Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

जम्भेश्वर आरती: ओ३म् शब्द सोऽहं ध्यावे

ओ३म् शब्द सोऽहं ध्यावे, स्वामी शब्द सोऽहं ध्यावे । धूप दीप ले आरती निज हरि गुण गावे । मंदिर मुकुट त्रिशुल ध्वजा, धर्मों की फ हरावे ।...

भजन: म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश

म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश, भाग म्हारो जागियो ॥ मरूधर देश समराथल भूमि, गुरूजी दियो उपदेश ।...

भजन: द्वार पे गुरुदेव के हम आगए

द्वार पे गुरुदेव के हम आ गए । ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥ देखलो हमको भला दर्शन हुआ । प्रेम हिरदे में मगन प्रसन्न हुआ...

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार!

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार। हाथों में फूलों का दौना भी सोहे, सुंदर गले में सोहे हार, कुमार मैने देखे...

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

जय जय सुरनायक जन सुखदायक

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

भजन: राम कहने से तर जाएगा!

राम कहने से तर जाएगा, पार भव से उतर जायेगा। उस गली होगी चर्चा तेरी...

मेरे मन के अंध तमस में...

मेरे मन के अंध तमस में, ज्योतिर्मय उतारो। जय जय माँ...

top