सीता नवमी | वट सावित्री व्रत | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ।


॥ स्तुति ॥
मैं नही जानू पूजा तेरी, पर तू ना करना मैया देरी,
तेरा लख्खा तुझे पुकारे, लाज तू रखले अब माँ मेरी॥

॥ भजन ॥
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ,
अपने बच्चो के आँसू देख नहीं पाए माँ,
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

वेद पुराणो में भी माँ की, महिमा का बखान है।
वो झुकता माँ चरणों में, जिसने रचा जहान है।
देवर्षि भी समझ ना पाए, ऐसी लीला रचाए माँ।
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

संकट हरनी वरदानी माँ, सबके दुखड़े दूर करे।
शरण आए दिन दुखी की, विनती माँ मंजूर करे।
सारा जग जिसको ठुकरादे, उसको गले लगाए माँ।
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

बिगड़ी तेरी बात बनेगी, माँ की महिमा गा के देख।
खुशियो से भर जाएगा, तू झोली तो फैलाके देख।
झोली छोटी पड़ जाती है, जब देने पे आए माँ।
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

कबसे तेरी कचहरी में माँ, लिख कर दे दी अर्जी।
अपना ले चाहे ठुकरा दे, आगे तेरी मर्जी।
लख्खा शरण खड़ा हथ जोड़े, जो भी हुकुम सुनाए माँ।
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ,
अपने बच्चो के आँसू देख नहीं पाए माँ,
बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ॥

ये भी जानें

BhajanMaa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanLakkha Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन!

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार। पवनसुत विनती बारम्बार॥ अष्ट सिद्धि, नव निद्दी के दाता...

भजन: सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये!

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये।...

कृपा मिलेगी श्री राम जी की..

किरपा मिलेगी श्री राम जी की, भक्ति करो, भक्ति करो, दया मिलिगी हनुमान जी की, राम जपो, राम जपो...

भजन: आ लौट के आजा हनुमान...

आ लौट के आजा हनुमान, तुम्हे श्री राम बुलाते हैं। जानकी के बसे तुममे प्राण, तुम्हे श्री राम बुलाते हैं॥

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार!

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार। हाथों में फूलों का दौना भी सोहे, सुंदर गले में सोहे हार, कुमार मैने देखे...

थारी जय जो पवन कुमार!

लाल लंगोटो हाथ मे सोटो, थारी जय जो पवन कुमार, मैं वारि जाऊँ बालाजी...

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं!

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं हनुमान तुम्हारा क्या कहना। तेरी शक्ति का क्या कहना...

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना!

छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना, कहते लोग इसे राम का दिवाना...

close this ads
^
top