Hanuman Chalisa

जय जय सुरनायक जन सुखदायक - भजन (Jai Jai Surnayak Jan Sukhdayak Prantpal Bhagvant)


जय जय सुरनायक जन सुखदायक - भजन

ब्रह्मादि देवताओं द्वारा भगवान विष्णु का आव्हान, जिसके बाद भगवान विष्णु ने प्रभु श्री राम के अवतार की घोषणा की। यह छंद तुलसीदास रचित रामचरित मानस के बालकाण्ड से ली गई स्तुति है।
छंद:
जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता ।
गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

पालन सुर धरनी अद्भुत करनी मरम न जानइ कोई ।
जो सहज कृपाला दीनदयाला करउ अनुग्रह सोई ॥

जय जय अबिनासी सब घट बासी ब्यापक परमानंदा ।
अबिगत गोतीतं चरित पुनीतं मायारहित मुकुंदा ॥

जेहि लागि बिरागी अति अनुरागी बिगतमोह मुनिबृंदा ।
निसि बासर ध्यावहिं गुन गन गावहिं जयति सच्चिदानंदा ॥

जेहिं सृष्टि उपाई त्रिबिध बनाई संग सहाय न दूजा ।
सो करउ अघारी चिंत हमारी जानिअ भगति न पूजा ॥

जो भव भय भंजन मुनि मन रंजन गंजन बिपति बरूथा ।
मन बच क्रम बानी छाड़ि सयानी सरन सकल सुर जूथा ॥

सारद श्रुति सेषा रिषय असेषा जा कहुँ कोउ नहि जाना ।
जेहि दीन पिआरे बेद पुकारे द्रवउ सो श्रीभगवाना ॥

भव बारिधि मंदर सब बिधि सुंदर गुनमंदिर सुखपुंजा ।
मुनि सिद्ध सकल सुर परम भयातुर नमत नाथ पद कंजा ॥

दोहा:
जानि सभय सुरभूमि सुनि बचन समेत सनेह ।
गगनगिरा गंभीर भइ हरनि सोक संदेह ॥
- तुलसीदास रचित, रामचरित मानस, बालकाण्ड-186

Jai Jai Surnayak Jan Sukhdayak Prantpal Bhagvant in English

Jai Jai Surnayak Jan Sukhdayak Pranatpaal Bhagvanta । Go Dwij Hitkari Jai Asurari Sidhunsuta Priy Kanta
यह भी जानें

Bhajan Shri Vishnu BhajanShri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navmi BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanVijayadashami BhajanMata Sita BhajanRam Sita Vivah BhajanShri Vishnu Stuti BhajanVishnu Stuti BhajanPrem Bhushan Ji Bhajan

अन्य प्रसिद्ध जय जय सुरनायक जन सुखदायक - भजन वीडियो

Sharma Bandhu

Sanjay Roy

Rajan Ji Maharaj Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

अरे माखन की चोरी छोड़ साँवरे मैं समझाऊँ तोय: भजन

अरे माखन की चोरी छोड़, साँवरे मैं समझाऊँ तोय, मैं समझाऊँ तोय, कन्हैया मैं समझाऊँ तोय, अरें माखन की चोरी छोड़, साँवरे मैं समझाऊँ तोय ॥

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने - भजन

रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये सृष्टि चला रहे है, जो पेड़ हमने लगाया पहले...

कई जन्मों से बुला रही हूँ: भजन

कई जन्मों से बुला रही हूँ, कोई तो रिश्ता जरूर होगा, नजरों से नजरें मिला भी ना पाए..

करो कृपा कुछ ऐसी, तेरे दर आता रहूँ: भजन

करो कृपा कुछ ऐसी, तेरे दर आता रहूँ, तुम रूठो मुझसे भले चाहे, पर मैं मनाता रहूं, करों कृपा कुछ ऐसी, तेरे दर आता रहूँ ॥

तड़पता है तेरा ये दास संभालो: भजन

चले आओ, तड़पता है तेरा ये दास संभालो, मिलन की आस ना टूटे संभालो ॥

मैया के दर पे नज़ारा मिलता है: भजन

मैया के दर पे नज़ारा मिलता है, ग़म के मारों को सहारा मिलता है, मैया ने बदली है सबकी तक़दीरें, सबकी कश्ती को किनारा मिलता है, मैया के दर पे नज़ारा मिलता है ॥

दादी चरणों में तेरे पड़ी, मैया: भजन

दादी चरणों में तेरे पड़ी, मैया तुझको निहारूं खड़ी, हाथ किरपा का रख दे जरा, हाथ किरपा का रख दे जरा, लागि नैनो में असुवन झड़ी, मैया तुझको निहारूं खड़ी, दादी चरणो में तेरे पड़ी, मैया तुझको निहारूं खड़ी ॥

Shiv Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App
not APP