Download Bhakti Bharat APP
Download APP Now - Hanuman Chalisa - Aditya Hridaya Stotra - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel -

माँ रेवा: थारो पानी निर्मल (Maa Rewa: Tharo Pani Nirmal)


माँ रेवा: थारो पानी निर्मल
नदी को भारत मे माँ का सम्मान दिया गया है, तथा नर्मदा नदी को माँ रेवा के रूप में भी जाना जाता है। यह मध्य-भारत की जीवनरेखा की तरह है। नर्मदा का निर्मल पानी एवं उसके कल-कल करते बहते पानी को शब्दों मे पिरोह कर एक बहुत ही सुंदर गीत निर्मित किया गया है।
इस गीत को नर्मदा घाटी के किनारे की संस्कृति में रचे-बसे लोग प्रायः गाते ही हैं, तथा यह नदियों पर लिखे गए गीतों में बहुत अधिक गाया जाने वाला गीत भी है।

माँ रेवा थारो पानी निर्मल,
खलखल बहतो जायो रे..
माँ रेवा !

अमरकंठ से निकली है रेवा,
जन-जन कर गयो भाड़ी सेवा..
सेवा से सब पावे मेवा,
ये वेद पुराण बतायो रे !

माँ रेवा थारो पानी निर्मल,
खलखल बहतो जायो रे..
माँ रेवा !

Maa Rewa | Indian Ocean | Kandisa

Maa Rewa: Tharo Pani Nirmal in English

Ma Rewa Tharo Paani Nirmal, Khal Khal Behto Jaye Re..
यह भी जानें

Bhajan Times Music BhajanIndian Ocean BhajanKandisa BhajanMaa Narmada BhajanNarmada BhajanReva Bhajan

अन्य प्रसिद्ध माँ रेवा: थारो पानी निर्मल वीडियो

माँ रेवा: थारो पानी निर्मल

माँ रेवा: थारो पानी निर्मल - भागवताचार्य सोनम मिश्रा जी

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यूँ - भजन

करे हाहाकार निःशब्द सदा, ओ गंगा तुम, गंगा बहती हो क्यूँ?

गंगा के खड़े किनारे, भगवान् मांग रहे नैया: भजन

गंगा के खड़े किनारे, भगवान् मांग रहे नैया, भगवान् मांग रहे नैया

गंगा से गंगाजल भरक - भजन

गंगा से गंगाजल भरके, काँधे शिव की कावड़ धरके, भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो, भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो ॥

भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा - भजन

भारत के लिए भगवन का, एक वरदान है गंगा, सच पूछो तो इस देश की पहचान है गंगा, हर हर गंगे, हर हर गंगे !

मेरे राघव जी उतरेंगे पार, गंगा मैया धीरे बहो - भजन

मेरे राघव जी उतरेंगे पार, गंगा मैया धीरे बहो , मैया धीरे बहो ॥

बेद की औषद खाइ कछु न करै: माँ गंगा माहात्म्य

माँ गंगा मैया का गरिमामय माहात्म्य॥ बेद की औषद खाइ कछु न करै बहु संजम री सुनि मोसें ।..

मानो तो मैं गंगा माँ हूँ - भजन

मानो तो मैं गंगा माँ हूँ, ना मानो तो बहता पानी, जो स्वर्ग ने दी धरती को, में हूँ प्यार की वही निशानी...

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP